News Nation Logo

ज्योतिष के प्रोफेसर ने की BJP को 300 सीटें मिलने की भविष्यवाणी, विश्वविद्यालय ने किया सस्‍पेंड

ज्‍योतिष के प्रोफेसर बता रहे थे बीजेपी का भविष्‍य और सरकार ने उनका वर्तमान खराब कर दिया.

News Nation Bureau | Edited By : Drigraj Madheshia | Updated on: 10 May 2019, 06:08:54 AM
एक रोड शो के दौरान पीएम मोदी

उज्‍जैन:

ज्‍योतिष के प्रोफेसर बता रहे थे बीजेपी का भविष्‍य और सरकार ने उनका वर्तमान खराब कर दिया. प्रोफेसर ने लोकसभा चुनाव में बीजेपी को 300 सीटें आने की भविष्‍यवाणी की थी. प्रोफेसर ने जैसे ही यह पोस्‍ट अपने फेसबुक अकाउंट पर डाला विश्विद्यालय ने उन्‍हें सस्‍पेंड कर दिया.घटना मध्य प्रदेश के उज्जैन में स्थित विक्रम विश्वविद्यालय की है. यहां के प्रोफेसर राजेश्वर शास्त्री मुसलगांवकर को फेसबुक पर बीजेपी को लोकसभा चुनाव में 300 सीटें मिलने की भविष्यवाणी करने की सजा के रूप में उन्‍हें निलंबित कर दिया गया है. विश्विद्यालय के आदेश के अनुसार, सोशल मीडिया पर राजनीतिक पोस्ट कर आचार संहिता का उल्लंघन करने पर शास्त्री को निलंबित किया गया है.

यह भी पढ़ेंः राहुल गांधी कहते हैं अरबपतियों का हाथ बीजेपी के साथ, लेकिन हकीकत तो ये है

विश्वविद्यालय सूत्रों का कहना है, "ज्योतिर्विज्ञान अध्ययनशाला के अध्यक्ष मुसलगांवकर ने 28 अप्रैल को फेसबुक पर एक पोस्ट डाली थी कि 'बीजेपी 300 के पास और राजग 300 के पार'. इसे चुनावी आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन मानते हुए विश्वविद्यालय प्रशासन ने उन्हें निलंबित कर दिया है." विश्वविद्यालय प्रशासन ने बुधवार को निलंबन की मीडिया से पुष्टि की है.

यह भी पढ़ेंः इतनी सीटों पर बीजेपी के सामने बड़ी चुनौती बनकर उभरा है गठबंधन, पीएम मोदी के करिश्मे की दरकार

हालांकि, मुसलगांवकर ने अगले ही दिन सार्वजनिक माफी के साथ इस फेसबुक पोस्ट को हटा लिया था. उन्होंने इसके बाद फेसबुक पर 29 अप्रैल को जारी पोस्ट में कहा था, "मेरे द्वारा ज्योतिषीय आकलन मात्र शास्त्रीय प्रचार की दृष्टि से किया गया था. यदि मेरे प्रयोग से किसी की भावना आहत होती है, तो मैं क्षमा चाहता हूं."

यह भी पढ़ेंः VIDEO: रील लाइफ में Kiss से बचने वाले सनी देओल के साथ रीयल लाइफ में हुआ कुछ ऐसा

प्रदेश बीजेपी ने इसे अभिव्यक्ति की आजादी पर पाबंदी बताया है. बीजपी का कहना है कि विभिन्न विषयों पर ज्योतिषीय आकलन जाहिर करना ज्योतिर्विज्ञान के प्राध्यापकों के अध्ययन-अध्यापन का अनिवार्य अंग होता है. ऐसे में मुसलगांवकर जैसे विद्वान ज्योतिषाचार्य पर निलंबन की कार्रवाई अनुचित है. उनके निलंबन आदेश को जल्द रद्द किया जाना चाहिये.

First Published : 10 May 2019, 06:08:54 AM

For all the Latest Elections News, General Elections News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.