News Nation Logo
Quick Heal चुनाव 2022

पानी लिए 'मौत' से जूझती महिलाएं, न्यूज़ नेशन की पड़ताल में सामने आया

सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है. इस वीडियो में दो महिलाएं सिर पर मटके रखकर ख़तरनाक पुल पार करती नज़र आ रही हैं. ये पुल महज लकड़ी की एक बल्ली से बना है.

Vinod Kumar | Edited By : Sunder Singh | Updated on: 07 Jan 2022, 09:19:47 PM
nashik

factcheck (Photo Credit: NEWS NATION)

highlights

  • सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा दावा करता वीडियो 
  • वीडियो में दो महिलाएं सिर पर मटके रखकर ख़तरनाक पुल पार करती नज़र आ रही हैं
  • दावा है कि महिलाएं रोजाना इसी पुल से पानी भरकर गुजरती हैं 

नई दिल्ली :

सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है. इस वीडियो में दो महिलाएं सिर पर मटके रखकर ख़तरनाक पुल पार करती नज़र आ रही हैं. ये पुल महज लकड़ी की एक बल्ली से बना है.  अगर महिलाएं जरा भी चूकी तो जान तक जा सकती है. दावा है कि ये महिलाएं रोजाना इसी तरह ख़तरनाक पुल पर चलकर पानी लाती हैं.  इस दौरान इन्हें 25 फीट गहरी नदी के ऊपर से गुजरना होता है. दावे के मुताबिक वायरल वीडियो महाराष्ट्र के नासिक का है. वीडियो को शेयर करते हुए एक यूजर ने लिखा-"महाराष्ट्र के नासिक में आदिवासी महिलाओं को 25 फीट गहरी नदी के तल के ऊपर से लकड़ी के डंडे पर चलकर पीने का पानी लाने के लिए सिर पर रोज बर्तन ढोना पड़ता है.  न्यू इंडिया में आदिवासी इलाकों को बयां करता वास्तवित वीडियो है.

पड़ताल
चूंकि वीडियो नासिक का बताया जा रहा है, इसलिए हमने मराठी भाषा में इस वीडियो को लेकर जानकारी जुटाई तो मराठी में छपी एक रिपोर्ट मिली. इस रिपोर्ट में वायरल वीडियो की लोकेशन त्र्यंबकेश्वर का खरशेत बताई गई.  ये पहला क्लू मिलने के बाद हमारे स्थानीय संवाददाता मौके पर पहुंचे तो पता चला कि वायरल वीडियो खरशेत ग्राम पंचायत का है. जहां 25 छोटी-छोटी बस्तियां हैं. इन बस्तियों में 300 के करीब आदिवासी रहते हैं.  यूं तो इन बस्तियों के करीब नदी बहती हैं, लेकिन नदी का पानी बेहद गंदा है.  इस वजह से आदिवासी महिलाओं को नदी पार करके झरने से पीने का साफ पानी लाना पड़ता है. नदी पार करने के लिए कोई पुल नही हैं. ग्रामीणों ने ही बल्ली के अस्थाई पुल का निर्माण किया है.

वायरल वीडियो को लेकर हमने स्थानीय प्रशासन से संपर्क साधा तो पता चला कि वीडियो वायरल होने के बाद प्रशासन ने संज्ञान लिया है और नदी के दोनों छोर जोड़ने के लिए अब लोहे के पुल का निर्माण कराया जाएगा. इसके लिए संबंधित अधिकारियों ने लोकेशन का मुआयना भी किया है. इस तरह हमारी पड़ताल में वीडियो के साथ किया जा रहा दावा सही पाया गया है. ये वीडियो हाल-फिलहाल का ही है और प्रशासन ने अब इसपर एक्शन ले लिया है.

First Published : 07 Jan 2022, 09:19:47 PM

For all the Latest Fact Check News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.