News Nation Logo
क्रुज ड्रग्स केस में पिछले 2 दिनों में मुंबई में 6 ठिकानों पर छापेमारी दिल्ली में कुतुब मीनार को राष्ट्र ध्वज के रंगों से रोशनकर मनाया गया 100 करोड़ COVID टीकाकरण का जश्न 100 करोड़ COVID टीकाकरण की ऐतिहासिक उपलब्धि पर चार मीनार को राष्ट्रीय ध्वज के रंगों से रोशन किया गया देश भर में 100 स्मारकों को राष्ट्रीय ध्वज के रंगों में रोशन करने की भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण की पहल NCB ने अनन्या पांडे से करीब 2 घंटे तक पूछे सवाल, कल भी होगी पूछताछ हम एक साल के अंदर 1 लाख भर्तियां और करेंगे: शिवराज सिंह चौहान आर्यन खान की न्यायिक हिरासत फिर बढ़ी आर्यन को अब 30 अक्टूबर तक रहना होगा जेल में पश्चिम बंगाल की CM ममता बनर्जी का गोवा दौरा 28 अक्टूबर को

रिकॉर्ड वैक्सीनेशन होने पर 3 महीने फ्री मोबाइल रिचार्ज कराएगी सरकार- न्यूज़ नेशन की पड़ताल में सामने आया सच

सोशल मीडिया पर एक पोस्ट वायरल हुआ, जिसमें दावा किया गया कि सरकार 3 महीने तक सभी लोगों के मोबाइल फोन फ्री रिचार्ज करवाएगी। दावे के मुताबिक ऐसा रिकॉर्ड कोरोना वैक्सीनेशन होने की खुशी में किया जा रहा है।

Vinod Kumar | Edited By : Vijay Shankar | Updated on: 13 Oct 2021, 01:27:34 PM
lie dector

Fact check (Photo Credit: News Nation)

नई दिल्ली:

सोशल मीडिया पर एक पोस्ट वायरल हुआ, जिसमें दावा किया गया कि सरकार 3 महीने तक सभी लोगों के मोबाइल फोन फ्री रिचार्ज करवाएगी। दावे के मुताबिक ऐसा रिकॉर्ड कोरोना वैक्सीनेशन होने की खुशी में किया जा रहा है। WhatsApp पर शेयर किए जा रहे मैसेज में कहा जा रहा है कि "देश में रिकॉर्ड वैक्सीनेशन होने की खुशी में सभी भारतीय यूजर्स को 3 महीने का रिचार्ज फ्री में दिया जा रहा है। अगर आपके पास भी मैसेज में बताई गई कंपनियों का सिम है तो आप इस ऑफर का लाभ उठा सकते हैं।नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके अपना फ्री रिचार्ज प्राप्त करें।"
 

पड़ताल

अब तक एक दिन में सबसे ज़्यादा कोरोन वैक्सीन लगने का रिकॉर्ड 17 सितंबर 2021 का है। जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन के मौके पर करीब सवा 2 करोड़ वैक्सीन लगाई गई थीं। लेकिन तब भी ऐसी कोई घोषणा नहीं की गई थी कि रिकॉर्ड बनने पर लोगों का 3 महीने तक मोबाइल फ्री रिचार्ज कराया जाएगा। अब चूंकि वायरल मैसेज में 15 अक्टूबर तक की डेडलाइन दी गई है। लिहाज़ा लोग बड़ी तादाद में इस मैसेज पर भरोसा करके इसे शेयर कर रहे हैं।

कैसे सामने आया सच ?


सच तक पहुचंने के लिए हमने सबसे पहले टेलिकॉम मिनस्ट्री की वेबसाइट खंगाली...लेकिन यहां हमें ऐसा कोई आदेश या गाइडलाइन नहीं मिली, जो वायरल मैसेज की पुष्टि करती हो। पड़ताल की अगली कड़ी में टेलिकॉम मिनस्ट्री का आधिकारिक ट्वविटर हैंडल भी सर्च किया। तो वहां भी वायरल मैसेज के बारे में कोई ख़बर नहीं मिली. 

 लेकिन इस बारे में हमें सरकार की फैक्ट चेक एजेंसी PIB का एक ट्वीट मिला। जिसमें वायरल हो रहे मैसेज को फेक बताया गया था। PIB ने अपने ट्वीट में जानकारी दी कि भारत सरकार द्वारा ऐसी कोई घोषणा नहीं की गयी है. 

दावा गलत
इस तरह हमारी पड़ताल में वायरल मैसेज गलत साबित हुआ है। मुमकिन है साइबर ठगों ने इस तरह का मैसेज वायरल किया हो। इसलिए सावधान रहें, किसी भी लिंक को खोलकर अपनी जानकारी शेयर न करें. 

First Published : 13 Oct 2021, 07:12:00 AM

For all the Latest Fact Check News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो