News Nation Logo
3 लोकसभा और 7 विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव के नतीजे आज PM मोदी आज 'मन की बात' कार्यक्रम को करेंगे संबोधित भारतीय टीम के कप्तान रोहित शर्मा कोरोना संक्रमित दिल्ली: बादली इलाके के प्लास्टिक गोदाम में लगी आग, मौके पर फायर ब्रिगेड फायर उत्तर प्रदेश: आजमगढ़ लोकसभा उपचुनाव के लिए मतगणना जारी पाकिस्तान के जेल में मारे गए सरबजीत सिंह की बहन का हार्ट अटैक से निधन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जर्मन प्रेसीडेंसी के तहत G7 शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए जर्मनी पहुंचे एकनाथ शिंदे ने 12 बजे गुवाहाटी के होटल में विधायकों की बैठक बुलाई है भारत में आज 11,739 नए Covid19 मामले सामने आए, सक्रिय मामले 92,576 हैं

युवक को बेरहमी से टॉर्चर करती यूपी पुलिस, जानिए वायरल वीडियो की सच्चाई 

वीडियो में कई पुलिसकर्मी एक युवक को खंभे से बांधकर बुरी तरह से पीटते नजर आ रहे हैं.

News Nation Bureau | Edited By : Mohit Saxena | Updated on: 30 Mar 2022, 10:37:52 PM
police

UP police beating youth (Photo Credit: twitter)

लखनऊ:  

सोशल मीडिया पर इन दिनों पुलिस की बर्बरता का एक वीडियो काफी वायरल हो रहा है. लोग बिना कुछ सोचे इसे खूब शेयर कर रहे हैं. वीडियो में कई पुलिसकर्मी एक युवक को खंभे से बांधकर बुरी तरह से पीटते नजर आ रहे हैं. ऐसे में आइए जानने की कोशिश करते है कि इस पुलिस अत्याचर के वीडियो की सच्चाई. सोशल मीडिया आज के समय में सबसे जल्दी जानकारी पहुंचाने वाला माध्यम है. कुछ लोग  इसे गलत तरीके से लोगों को गुमराह करने के लिए उपयोग करते हैं. हाल ही में सोशल मीडिया का एक वीडियो जमकर वायरल हो रहा है.

इसमें पुलिसकर्मी एक युवक को जमीन पर लेटाकर बड़ी बेदर्दी से पिटाई की जा रही है. दो पुलिसवाले उसे पैर पकड़ हुए हैं, जबकि तीसरा उस पर पट्टा बरसा रहा है. ऐसे में इसे ताजा घटना मानकर लोग इस वीडियो को वायरल कर रहे हैं. जबकि यह पूरी तरह से भ्रम फैलाने वाला है. 

गौरतलब है कि वायरल हो रहा पुलिसवालों का यह वीडियो काफी पुराना है, इस मामले में तीन पुलिसकर्मियों को सस्‍पेंड किया गया था. यह घटना उत्तर प्रदेश के देवरिया जनपद की थी. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार देवरिया में मोबाइल चोरी के आरोप में एक युवक को तीन पुलिसवालों ने जमकर टॉर्चर किया था. इस पर कार्रवाई करते हुए उन्हें सस्‍पेंड किया गया. इसके सााथ ही सभी के खिलाफ एफआईआर भी दर्ज की गई. इसे ट्विटर पर 10 जनवरी 2020 को पोस्ट किया गया था, जिससे यह साफ होता है कि यह घटना हाल की नहीं है. सोशल मीडिया पर फैल रहा वीडियो पूरी तरह से भ्रामक है. इसका वर्तमान समय से कोई नाता नहीं है. 

 

 

First Published : 30 Mar 2022, 10:37:52 PM

For all the Latest Fact Check News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.