News Nation Logo
Banner

Fact Check: क्या रेलवे भर्ती बोर्ड परीक्षा की फीस 500 रुपए कर दी गई? जानें सच

कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी ने अपने ट्व‍िटर हैंडल से एक खबर ट्वीट की है, जिसमें उन्‍होंने लिखा था कि रेलवे भर्ती बोर्ड की फीस 2013 तक 60 रुपए थी. भाजपा (BJP) सरकार ने बढ़ाकर उसे 2016 में 500 रुपए कर दिया.

News Nation Bureau | Edited By : Shailendra Kumar | Updated on: 13 Jan 2021, 02:45:59 PM
Railway recruitment board examination

रेलवे भर्ती बोर्ड परीक्षा की फीस 500 रुपए कर दी गई? (Photo Credit: फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

रेलवे भर्ती बोर्ड की फीस को लेकर सोशल मीडिया (Social Media) पर एक खबर तेजी से वायरल हो रही है. वायरल खबर (Viral News) में दावा किया जा रहा है कि सरकार ने रेलवे भर्ती बोर्ड (Railway Recruitment Board) की फीस को बढ़ाकर 500 रुपए कर दिया है. कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी ने अपने ट्व‍िटर हैंडल से एक खबर ट्वीट की है, जिसमें उन्‍होंने लिखा था कि रेलवे भर्ती बोर्ड की फीस 2013 तक 60 रुपए थी. भाजपा (BJP) सरकार ने बढ़ाकर उसे 2016 में 500 रुपए कर दिया. बेरोजगारों से भर्ती के नाम पर रेलवे भर्ती बोर्ड 900 करोड़ रुपए वसूल चुका है.

यह भी पढ़ें : रेलवे की ग्रुप सी कमर्शियल क्लर्क का अपॉइंटमेंट लेटर जारी? जानें सच

दरअसल, वायरल खबर (Viral News) के अनुसार, रेलवे भर्ती बोर्ड (Railway Recruitment Board) की परीक्षाएं भी सरकार की आय का बड़ा जरिया बन चुकी हैं. बेरोजगारों से परीक्षा के नाम पर बोर्ड जो फीस वसूलता है, वो 2013-14 में मात्र नौ करोड़ हुआ करती थी. 2018 तक यह राशि बढ़कर 900 करोड़ हो गई.

यह भी पढ़ें : Fact Check : SSC ने बनाया Tier-0? क्या इसके बिना नहीं होगा आवेदन

बता दें कि कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi) ने एक खबर को शेयर करते हुए ट्वीट कर सरकार पर निशाना साधा था. प्रियंका ने ट्वीट कर कहा था, ‘रेलवे भर्ती बोर्ड की फीस 2013 तक 60 रुपए थी. भाजपा सरकार ने बढ़ाकर उसे 2016 में 500 रुपए कर दिया. बेरोजगारों से भर्ती के नाम पर रेलवे भर्ती बोर्ड 900 करोड़ रुपए वसूल चुका है. लेकिन रोजगार कितना मिला? युवाओं से जो हर साल 2 करोड़ रोजगार का वादा किया गया था वो कितना पूरा हुआ?

 

First Published : 13 Jan 2021, 02:45:59 PM

For all the Latest Fact Check News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.