News Nation Logo

Fact Check:व्हाट्सऐप पर वायरल हो रहा है वर्क फ्रॉम होम की स्कीम, जानें क्या है सच

. इस मैसेज में कहा गया है कि सरकार एक संगठन के सहयोग से घर में काम करने का मौका दे रही है. इतना ही नहीं इस वायरल मैसेज में खुद की कंपनी खोलने और हर दिन बंपर कमाई करने की भी बात कही गई है. 

News Nation Bureau | Edited By : Nitu Pandey | Updated on: 24 Aug 2021, 10:57:15 AM
whatsapp

Fact Check: क्या मोदी सरकार ने शुरू की है वर्क फ्रॉम होम की स्कीम? (Photo Credit: File Photo)

नई दिल्ली :

कोरोना महामारी की वजह से वर्क फ्रॉम होम का चलन बढ़ गया है. देश में कई बड़ी-छोटी कंपनियां अपने कर्मचारियों को वर्क फ्रॉम होम की सुविधा दे रही हैं. वर्क फ्रॉम होम को लेकर वॉट्सऐप पर एक मैसेज वायरल हो रहा है. इस मैसेज में कहा गया है कि सरकार एक संगठन के सहयोग से घर में काम करने का मौका दे रही है. इतना ही नहीं इस वायरल मैसेज में खुद की कंपनी खोलने और हर दिन बंपर कमाई करने की भी बात कही गई है.  वॉट्सऐप पर वायरल हो रहा मैसेज कुछ इस तरह है. 'कोरोना महामारी के प्रभावों को देखते हुए किंग ऑफ सैडोज (कंपनी का नाम) ने भारत सरकार के साथ गठजोड़ कर 2021 में पैसे कमाने का नया मॉडल तैयार किया है. इसमें रजिस्ट्रेशन कराने पर लोगों को 50 रुपये मिलेंगे.'

मैसेज में आगे लिखा गया है, 'इसका काम शुरू करने के लिए एक मोबाइल फोन और स्टार्टअप पूंजी के तौर पर 300 रुपये की जरूरत होगी. बस 5 मिनट की ट्रेनिंग होगी और आप पैसे कमाने लग जाएंगे.'

इसे भी पढ़ें: Fact Check: पूर्व पीएम मनमोहन सिंह का अकाउंट हो रहा वायरल ! जानें क्या है सच

इतना ही नहीं इस मैसेज में दावा किया गया है कि एक दिन में 2,000 से 10,000 रुपये तक की कमाई होगी. इसके साथ ही हर दिन अपना कैश निकाल सकेंगे. इस अवसर को न गंवाएं और हर दिन 10,000 रुपये कमाएं. ज्यादा जानकारी के लिए कस्टमर सर्विस से व्हाट्सऐप wa.me/906380174859 पर संपर्क करें.

वॉट्सऐप पर वायरल हो रहे इस मैसेज की भारत सरकार की समाचार संस्था प्रेस इनफॉरमेशन ब्यूरो (पीआईबी) ने जांच पड़ताल की. जिसमें पाया गया कि वायरल मैसेज फेक है. पीआईबी ने ट्वीट करके बताया कि यह दावा पूरी तरह से फर्जी है और भारत सरकार ने ऐसा कोई ऐलान नहीं किया है. ऐसे किसी भी मैसेज से सावधान रहने की जरूरत है.

पीआईबी ने आगे कहा कि इस तरह के फ्रॉड लिंक में खुद को न फंसाएं. सरकार ने इस मैसेज को फेक (FAKE) बताते हुए लोगों से अपील की कि वे किसी भी फर्जीवाड़े वाले लिंक पर क्लिक न करें क्योंकि इससे वित्तीय हानि हो सकती है. 

First Published : 24 Aug 2021, 10:45:23 AM

For all the Latest Fact Check News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.