News Nation Logo
Banner

सलमान खान ने काला हिरण शिकार मामले में फर्जी हलफनामा देने के लिए माफी मांगी

इस मामले में अंतिम फैसला गुरुवार को सुनाया जाएगा. काला हिरण शिकार मामले में दोषी ठहराए जाने के खिलाफ अपनी अपील की सुनवाई के लिए सलमान वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए जोधपुर सेशन कोर्ट में पेश हुए.

News Nation Bureau | Edited By : Ravindra Singh | Updated on: 10 Feb 2021, 07:37:53 AM
salman khan

सलमान खान, बॉलीवुड एक्टर (Photo Credit: आईएएनएस)

highlights

  • वर्चुअल माध्यम से जोधपुर सेशन कोर्ट में पेश हुए सलमान
  • 1998 में किया काले हिरणों के शिकार के दोषी पाए गए थे सलमान
  • ऑर्म्स एक्ट के तहत सलमान पर मामला दर्ज हुआ था

नई दिल्ली:

बॉलीवुड स्टार सलमान खान ने 1998 में जोधपुर में दो काले हिरण के शिकार से जुड़े एक मामले में सुनवाई के दौरान 2003 में जोधपुर सेशन कोर्ट में झूठा हलफनामा जमा करने के लिए 'गलती' से माफी मांगी. इस मामले में अंतिम फैसला गुरुवार को सुनाया जाएगा. काला हिरण शिकार मामले में दोषी ठहराए जाने के खिलाफ अपनी अपील की सुनवाई के लिए सलमान वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए जोधपुर सेशन कोर्ट में पेश हुए. उनके वकील हस्तीमल सारस्वत ने कोर्ट को बताया कि 8 अगस्त 2003 को गलती से हलफनामा कोर्ट में पेश कर दिया गया, जिसके लिए अभिनेता को माफ कर दिया जाए.

सुनवाई के दौरान सारस्वत ने कहा, 8 अगस्त 2003 को गलती से हलफनामा दे दिया गया, क्योंकि सलमान भूल गए थे कि उनका लाइसेंस नवीनीकरण के लिए दिया गया था, क्योंकि वह बहुत व्यस्त थे. इसलिए उन्होंने उल्लेख किया कि लाइसेंस अदालत में गायब हो गया था. सलमान को 1998 में जोधपुर के पास कांकाणी गांव में दो काले हिरण का शिकार करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था. उस समय उनके खिलाफ आर्म्स एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया था और कोर्ट ने उन्हें अपना आर्म्स लाइसेंस जमा करने को कहा था.

यह भी पढ़ेंःसलमान खान की ये तीन फिल्में हैं रिलीज को तैयार

साल 2003 में दिया था हलफनामा
सलमान ने 2003 में कोर्ट में हलफनामा देते हुए कहा था कि उनका लाइसेंस गुम हो गया है. उन्होंने इस सिलसिले में मुंबई के बांद्रा पुलिस स्टेशन में एफआईआर भी दर्ज कराई थी. हालांकि बाद में कोर्ट को पता चला कि सलमान का आर्म लाइसेंस खत्म नहीं हुआ है, बल्कि नवीनीकरण के लिए पेश किया गया है. इसके बाद लोक अभियोजक भवानी सिंह भाटी ने मांग की थी कि अभिनेता के खिलाफ अदालत को गुमराह करने का मामला दायर किया जाना चाहिए.

यह भी पढ़ेंःइस्लामिक धर्मगुरू जाकिर नाईक ने फिर उगला जहर, कहा- हर बच्चा पैदाइशी मुसलमान

1998 में काले हिरणों के शिकार मामले दोषी पाए गए थे सलमान
2018 में एक निचली अदालत ने अक्टूबर 1998 में फिल्म 'हम साथ साथ हैं' की शूटिंग के दौरान दो काले हिरणों की हत्या के लिए सलमान को दोषी ठहराया था और उन्हें पांच साल कैद की सजा सुनाई थी. अभिनेता ने निचली अदालत के फैसले को सेशन कोर्ट में चुनौती दी थी. उनके साथ कांकाणी में मौके पर मौजूद सलमान के साथी एक्टर सैफ अली खान, तब्बू, नीलम और सोनाली बेंद्रे को बरी कर दिया गया है.

First Published : 10 Feb 2021, 06:42:18 AM

For all the Latest Entertainment News, Bollywood News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.