News Nation Logo
अभिनेत्री अनन्या पांडे के घर भी NCB ने की छापेमारी भारत में पिछले 24 घंटों में कोरोना के 18,454 नए मामले आए और 160 लोगों की कोरोना से मौत हुई पीएम मोदी ने RML अस्पताल में वैक्सीनेशन सेंटर पर स्वास्थ्य कर्मचारियों के साथ बातचीत की रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह अपने दो दिवसीय दौरे पर बेंगलुरु पहुंचे किसान सड़कों को अनिश्चित काल के लिए अवरुद्ध नहीं कर सकते: सुप्रीम कोर्ट किसानों को विरोध करने का अधिकार: सुप्रीम कोर्ट पीएम मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए एम्स में इंफोसिस फाउंडेशन विश्राम सदन का उद्घाटन किया हमारी सरकार ने कैंसर की 400 दवाओं की कीमतों को कम करने के लिए कदम उठाए हैं: पीएम मोदी बॉम्बे हाईकोर्ट आर्यन खान की जमानत याचिका पर 26 अक्टूबर को सुनवाई करेगा: आर्यन खान के वकील भिंड में भारतीय वायुसेना का ट्रेनर विमान क्रैश, हादसे में पायलट घायल: भिंड एसपी मनोज कुमार सिंह मरीज़ को आयुष्मान भारत योजना के तहत मुफ़्त में इलाज मिलता है, तो उसकी सेवा होती है: पीएम मोदी भारत ने वैक्सीन मैत्री के माध्यम से दुनिया के देशों में मदद पहुंचाने का काम किया: अनुराग ठाकुर दुनिया को भारत ने दिखाया है कि बड़े से बड़ा लक्ष्य भी प्राप्त किया जा सकता है: अनुराग ठाकुर 100 करोड़ वैक्सीनेशन डोज़ का आंकड़ा पार होने पर लोगों का आभार: केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर भारत में वैक्सीनेशन का आंकड़ा 100 करोड़ के पार, देशभर में मन रहा जश्न निजी भागीदारी से भी मेडिकल कॉलेज बन रहे हैं - पीएम मोदी FDA ने मॉडर्ना और जॉनसन एंड जॉनसन के मिक्‍स एंड मैच टीकाकरण को दी मंजूरी उत्तराखंड में भारी बारिश से अब तक 54 लोगों की मौत, 19 जख्मी और 5 लापता डोनाल्ड ट्रंप ने 'TRUTH Social' नामक अपना खुद का सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म लॉन्च किया

फिल्मों में एंट्री को लेकर पिता ने विनोद खन्ना पर तान दी थी पिस्तौल

बॉलीवुड के विटरन एक्टर विनोद खन्ना की ज़िंदगी से जुड़े कई ऐसे किस्से हैं, जिसके बारे में शायद ही आप जानते होंगे.

News Nation Bureau | Edited By : Pallavi Tripathi | Updated on: 06 Oct 2021, 12:13:03 PM
1

Vinod Khanna (Photo Credit: News Nation)

नई दिल्ली:


क्या आप जानते हैं कि जिस विनोद खन्ना को आप बॉलीवुड इंडस्ट्री का सबसे हैंडसम और वेटरन एक्टर के तौर पर जानते हैं, उन्होंने अपने फिल्मी करियर की शुरुआत बतौर विलेन की थी. विनोद खन्ना की ज़िंदगी से जुड़े कई ऐसे किस्से हैं, जिसके बारे में शायद ही आपको पता होगा. विनोद ने अपनी ज़िंदगी में कई उतार-चढ़ाव देखें हैं. जैसा कि आज आप देखते हैं कि एक्टर अब न केवल हीरो का किरदार निभा रहे हैं बल्कि बतौर विलेन भी ऑडियंस के सामने खुद को पेश कर रहे हैं. लेकिन विनोद खन्ना के साथ ये स्थिति बिल्कुल उलट थी. उन्होंने पहले तो अपने फिल्मी करियर की शुरुआत बतौर विलेन की और फिर हीरो का किरदार निभाया, जिससे वो फिल्मी दुनिया में छा गए और एक जाना-माना नाम बन गए.

आपको जानकर हैरानी होगी कि विनोद खन्ना बेहद शर्मीले थे. आपके दिमाग में अब ये सवाल आ रहा होगा कि अगर ऐसा था कि विनोद खन्ना शर्मीले थे तो एक शर्माने वाला इंसान फिल्मी दुनिया में कैसे आ सकता है. तो बता दें कि इसके पीछे भी एक किस्सा है. दरअसल, स्कूल के दौरान उन्हें एक टीचर ने जबरदस्ती नाटक में उतार दिया. यहीं से उन्हें एक्टिंग की तरफ रुझान हुआ। बोर्डिंग स्कूल में पढ़ाई के दौरान विनोद खन्ना ने ‘सोलहवां साल’ और ‘मुगल-ए-आज़म’ जैसी फिल्में देखीं और इन फिल्मों ने उन पर गहरा असर किया. फिर क्या था विनोद फिल्मी दुनिया में जाने के लिए बेताब हो गए...लेकिन बॉलीवुड में उनकी कोई जान-पहचान नहीं थी, जो उनके और उनके सपनों के बीच रोड़ा बन रही थी. हालांकि, विनोद ने हार नहीं मानी और अपनी आकर्षक शक्ल के साथ निकल पड़े अपनी मंज़िल पाने.

इसी बीच उनकी मुलाकात होती है निर्माता-निर्देशक सुनील दत्त से, जो उस दौरान अपनी फिल्म 'मन का मीत' के लिए नए चेहरे की तलाश कर रहे थे. और ये मौका मिला विनोद खन्ना को. इस तरह सुनील दत्त ने उन्हें पहला चांस दिया. लेकिन विनोद की मुश्किलें अभी खत्म नहीं बल्कि शुरू हुई थी. जैसे ही विनोद घर पहुंचे और अपने पिता को सुनील दत्त से ऑफर मिलने की बात बताई तो वो खुश होने के बजाय आग-बबूला हो गए. गुस्सा इस कदर की बेटे पर पिस्तौल तान दी. हालांकि, मां ने बीच-बचाव किया. जिसके बाद पिता ने उन्हें इंडस्ट्री में पैर जमाने के लिए दो साल का समय दिया और शर्त रखी कि अगर इंडस्ट्री में सफल नहीं हुए तो बिजनेस में हाथ बंटाना होगा. बता दें कि इस फिल्म में उन्हें बतौर को-एक्टर काम करने का ऑफर मिला था. हालांकि ये फिल्म पर्दे पर सफल नहीं रही, लेकिन विनोद को लोगों ने नोटिस किया और उनकी गाड़ी चल पड़ी. इसके बाद ‘सच्चा झूठा’, ‘आन मिलो सजना’, ‘मेरा गांव मेरा देश’ जैसी फिल्मों में खलनायक की भूमिकाएं निभाने का अवसर मिला.हालांकि उन्हें सफलता गुलजार की फिल्म ‘मेरे अपने’ से मिली.

फिर इतनी फिल्मों में विलेन बनने के बाद एक समय आया जब गुलजार साहब को हैंडसम विनोद खन्ना में एक हीरो नज़र आया. यही वो समय था जब उनके करियर में बड़ा ट्विस्ट आया और फिर फिल्म ‘अचानक’ (1973) में विनोद बतौर हीरो उभरे.

अब बात ट्विस्ट एंड टर्न्स की चल पड़ी है तो विनोद खन्ना के संन्यासी बनने का किस्सा कैसे छूट सकता है. जिन्हें बतौर सेक्सी संन्यासी जाना जाने लगा. ये बात 70-80 के दशक की है, जब विनोद का स्टारडम पीक पर था. इसी दौरान उनकी मां का निधन हुआ था और वे इससे बेहद दुखी थी. ऐसे में वो सब कुछ छोड़-छाड़कर संन्यासी बन गए थे. वो अमेरिका के ओरेगोन स्थित रजनीशपुरम आश्रम चले गए, जहां वो रजनीथ की माला पहने घूमते थे. इसलिए मीडिया ने उन्हें सेक्सी संन्यासी की संज्ञा दे दी थी. 

फिर आगे बढ़े सन् 1988 की ओर, जब विनोद खन्ना अपनी दूसरी पत्नी कविता से एक पार्टी में मिले. जहां वो उन्हें देखते ही रह गए. कई दिनों बाद दोनों की मुलाकात एक पार्क में हुई. फिर एक दिन विनोद बैडमिंटन खेल रहे थे और पसीने में लथपथ वहां से सीधे कविता के घर पहुंचे और उन्हें शादी के लिए प्रपोज़ कर दिया. दूसरी तरफ कविता ने भी हामी भर दी.

विनोद ने फिल्म ‘वॉन्टेड’, ‘दबंग’ और ‘दबंग 2’ में सलमान के पिता की भूमिका निभाई थी. आखिरी बार वह साल 2015 में शाहरुख खान की फिल्म ‘दिलवाले’ में दिखे थे.साल 2017 में  27 अप्रैल को कैंसर से उनका निधन हो गया था. उनकी एक आखिरी इच्छा थी जो पूरी नहीं हो सकी. दरअसल, वो पाकिस्तान में स्थित अपना पुस्तैनी घर देखना चाहते थे।

First Published : 06 Oct 2021, 11:45:22 AM

For all the Latest Entertainment News, Bollywood News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो