News Nation Logo

BREAKING

Banner

Lok Sabha Election 2019 : कमलनाथ के गढ़ में क्या बीजेपी लगा पाएगी सेंध

छिंदवाड़ा क्षेत्र कांग्रेस के दिग्गज नेता और राज्य के मुख्यमंत्री कमलनाथ का गढ़ रहा है.

News Nation Bureau | Edited By : Deepak Pandey | Updated on: 09 Apr 2019, 08:46:24 AM
सीएम कमलनाथ और उनके बेटे नकुलनाथ (फाइल फोटो)

सीएम कमलनाथ और उनके बेटे नकुलनाथ (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

छिंदवाड़ा लोकसभा सीट मध्य प्रदेश की न केवल हाई प्रोफाइल सीट है बल्कि कांग्रेस का एक ऐसा अभेद किला है, जिसे आज तक बीजेपी भेद नहीं पाई है, फिर चाहे वह 2014 में मोदी लहर ही क्यों ना हो. छिंदवाड़ा क्षेत्र कांग्रेस के दिग्गज नेता और राज्य के मुख्यमंत्री कमलनाथ का गढ़ रहा है. कमलनाथ साल 1980 से इस सीट से लोकसभा का चुनाव जीतते आ रहे हैं. यानी पिछले 40 सालों से छिंदवाड़ा में कांग्रेस का परचम लहराते हुए आ रहा है और इस बार 2019 के लोकसभा चुनाव में कमलनाथ के बेटे नकुलनाथ चुनावी मैदान में उतरे हैं.

यह भी पढ़ें ः अंदाजा लगाइए, पहला लोकसभा चुनाव कितने चरणों में संपन्‍न हुआ था?

बता दें कि वैसे तो कमलनाथ की पत्नी अलकानाथ भी इस सीट से चुनाव में जीत हासिल कर चुकी हैं. कमलनाथ की पकड़ इस क्षेत्र में कितनी मजबूत है आप इस बात का अंदाजा इससे लगा सकते हैं कि 2014 में मोदी लहर में भी वह अपनी सीट बचाने में कामयाब रहे थे. अब जब वह मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री हैं तो इस बार छिंदवाड़ा लोकसभा सीट से कमलनाथ ने अपने बड़े बेटे नकुल नाथ को टिकट दिलवाया है और इस बार सांसद का चुनाव कमलनाथ की जगह नकुलनाथ लड़ रहे हैं नकुलनाथ को टक्कर देने के लिए बीजेपी ने भी आदिवासी चेहरा नाथन शाह को चुनावी मैदान में उतारा है.

यह भी पढ़ें ः Lok Sabha Election 2019 : कांग्रेस में शामिल हुए कीर्ति आजाद को धनबाद से मिला टिकट

छिंदवाड़ा मध्य प्रदेश के दक्षिणी हिस्से में स्थित है. देश के कई नामी कंपनियों की फैक्ट्री इस शहर में है. छिंदवाड़ा को देश का सबसे पिछड़ा इलाका माना जाता था, लेकिन आज छिंदवाड़ा के पास विकास का अपना एक मॉडल है. इस शहर में कमलनाथ ने ना केवल सड़कों का जाल बिछाया, बल्कि शहर को एक एजुकेशन हब के तौर पर भी विकसित किया. इसके अलावा उन्होंने स्किल ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट भी बनवाया है. यहां पर उन्होंने 56 किमी लंबा रिंग रोड, कॉल सेंटर, मॉडल रेलवे स्टेशन बनवाया है, लेकिन इनसब के बावजूद छिंदवाड़ा आज भी रोजगार और उच्च शिक्षा के अच्छे संस्थानों के लिए तरस रहा है. छिंदवाड़ा आदिवासी बहुल इलाका है और ऐसे में छिंदवाड़ा के ग्रामीण अंचल में आज की आदिवासी की स्थिति सुधरी नहीं है. 

यह भी पढ़ें ः जम्मू-कश्मीर में गरजे राजनाथ, कहा- अलग पीएम की बात करने वाले सुन ले आर्टिकल 370 हटा देंगे

2011 की जनगणना के मुताबिक, छिंदवाड़ा की जनसंख्या 2090922 है. यहां की 75.84 फीसदी आबादी ग्रामीण क्षेत्र और 24.16 फीसदी शहरी क्षेत्र में रहती है. छिंदवाड़ा में 11.11 फीसदी जनसंख्या अनुसूचित जाति और 36.82 फीसदी जनसंख्या अनुसूचित जनजाति की है. चुनाव आयोग के आंकड़े के मुताबिक, 2014 के चुनाव में यहां पर 14,01,277 मतदाता थे. इनमें से 6,79,795 महिला और 7,21,482 पुरुष मतदाता थे. 2014 के लोकसभा चुनाव में इस सीट पर 79.03 फीसदी मतदान हुआ था.

यह भी पढ़ें ः मध्य प्रदेश : कमलनाथ व नकुलनाथ आज पर्चा भरेंगे

छिंदवाड़ा में पहला लोकसभा चुनाव साल 1951 में हुआ. पहले चुनाव में कांग्रेस के रायचंद भाई शाह को जीत मिली थी. 1957 और 1962 के चुनाव में भी कांग्रेस को जीत मिली थी. बीकूलाल लखमिचंद कांग्रेस के टिकट पर इन दोनों चुनावों में जीत हासिल करने में कामयाब हुए थे. वहीं, 1967, 1971 और 1977 के चुनाव में गार्गीशंकर मिश्रा को जीत मिली. वह लगातार तीन बार इस सीट से सासंद बने.

यह भी पढ़ें ः Lok Sabha Election 2019 : कांग्रेस ने झारखंड की इन दो सीटों पर इन्हें बनाया अपना उम्मीदवार

इसके बाद 1980 में कांग्रेस की ओर से कमलनाथ मैदान में उतरे. उन्होंने अपने पहले ही चुनाव में जीत हासिल की और राजनीतिक करियर की एक शानदार शुरुआत की. कमलनाथ ने 1980 से लेकर 1991 तक हुए 3 चुनावों में जीत हासिल किए. 1996 के चुनाव में इस सीट पर कमलनाथ की पत्नी अलकानाथ लड़ीं. यहां की जनता ने उन्हें भी निराश नहीं किया और उन्होंने बीजेपी के चौधरी चंद्रभान सिंह को मात दी.

यह भी पढ़ें ः NN Opinion poll:पूर्वोत्‍तर से NDA के खाते में आ रहीं इतनी सीटें

बता दें कि 1996 में हवाला कांड में नाम आने के बाद कांग्रेस ने कमलनाथ को टिकट नहीं दिया था. हालांकि, बाद में कमलनाथ की पत्नी ने इस्तीफा दे दिया. जिसके कारण 1997 में यहां पर उपचुनाव हुआ. कमलनाथ एक बार फिर मैदान में उतरे. उनके सामने बीजेपी के दिग्गज नेता सुंदरलाल पटवा थे. इस चुनाव में पटवा ने कमलनाथ के सपने को तोड़ दिया और इस सीट पर पहली बार कमलनाथ को हार मिली.

यह भी पढ़ें ः NN Opinion poll: दिल्‍ली में फिर खिलेगा कमल या पंजा होगा मजबूत, जानें यहां

हालांकि, अगले साल 1998 में फिर चुनाव हुए और पटवा कमलनाथ से हार गए. 1998 से लेकर 2014 तक इस सीट पर हुए 5 चुनावों में सिर्फ और सिर्फ कमलनाथ का ही जादू चला है. बीजेपी ने उन्हें हराने की हर कोशिश की, लेकिन उसके सारे प्रयास नाकाम ही रहे. छिंदवाड़ा लोकसभा सीट के अंतर्गत विधानसभा की 7 सीटें आती हैं. जुन्नारदेव, सौंसर, पंधुरना, अमरवारा, छिंदवाड़ा, चुरई, पारसिया यहां की विधानसभा सीटें हैं. सभी 7 सीटों पर कांग्रेस का कब्जा है.

2014 के आकंड़े
कमलनाथ - 5,59,755 (50.54 फीसदी)
चंद्रभान सिंह - 4,43,218(40.02 फीसदी) वोट 
जीत हार का अंतर 1,16,537 

2019 के प्रत्याशी
कांग्रेस - नकुलनाथ
बीजेपी - नाथन शाह

First Published : 09 Apr 2019, 08:45:01 AM

For all the Latest Elections News, VIP Constituencies News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो