News Nation Logo

NN Exclusive : सीएम योगी आदित्यनाथ बोले, मेरे लिए तो यही है धर्मयुद्ध, जिसके लिए सभी तैयार रहें

News Nation Bureau | Edited By : Sushil Kumar | Updated on: 05 May 2019, 05:14:52 PM

नई दिल्ली:  

उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने न्यूज नेशन से रविवार को खास बातचीत की. उन्होंने कई सवालों पर बेबाकी से जवाब दिया. साथ ही कांग्रेस पर शब्दबाण चलाए. उन्होंने राष्ट्रवाद, धर्मयुद्ध, जाति, धर्म, आस्था पर खुलकर सवालों के जवाब दिए. उन्होंने कहा कि प्रदेश में मेरी छवि मुस्लिम विरोधी नहीं है. पूरे प्रदेश में मुस्लिम की आबादी 17 प्रतिशत है, लेकिन 30 प्रतिशत मुस्लिमों को कल्याणकारी योजनाओं का लाभ मिल रहा है. गरीबों की मदद करना ही राष्ट्रवाद है. यही धर्मयुद्ध है. इसके लिए सभी को तैयार रहना चाहिए. देश के सभी 130 करोड़ की जनता को राष्ट्रवादी हिंदू होना चाहिए. दिखाने के लिए नहीं बल्कि व्यावहारिक में भी होना चाहिए. वंदे मातरम देश का राष्ट्रीय गीत है. भारत में एक नई ऊर्जा देने वाला यह गीत है. इसका सम्मान हर एक को करना होगा.


सवाल- आपकी सभाओं में आपके लिए जिस शब्द अलंकार (शूर वीर, फायरब्रांड नेता) का इस्तेमाल किया जाता है, क्या वाकई में ये अलंकार आपकों परिभाषित करते हैं.

जवाब- मैं एक योगी हूं. बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और प्रधानमंत्री ने यूपी में जनता की सेवा के लिए मुझे ये दायित्व दिया है. पार्टी की कार्यकर्ता के रूप में और एक सीएम के रूप में मैं चुनावी सभाओं में जाता हूं. केंद्र और प्रदेश सरकारी की उपलब्धियों और पार्टी की भावी योजनाओं को जनता के सामने रखता हूं. लेकिन, जो सच होता है वहीं बोलता हूं. जो सच में हमारी उपलब्धियां हैं, वहीं बोलते हैं. सचमुच पीएम नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में जो भी कार्य हुआ है उसका पब्लिक के बीच में पॉजीटिव रिस्पोंस मिला है.

सवाल- कुछ लोग हैं, जो ये कहते हैं कि आप उन नेताओं में से नहीं हैं जो अपने काम का श्रेय ले, क्योंकि आप अपने हर काम के लिए पीएम नरेंद्र मोदी को श्रेय देते हैं. ऐसा लगता है कि भरत खड़ाऊ लेकर शासन चला रहा है.

जवाब- देखिये प्रधानमंत्री मोदी जी हमारे नेता हैं. उनकी प्रेरणा, उनका मार्गदर्शन पग-पग पर हमलोगों को प्राप्त हुआ है.

सवाल- कुंभ में मोदी जी ने लोगों के पांव धोए तो विपक्ष ने काफी हाय तौबा मचाया. उन्हें अच्छी चीज क्यों नहीं दिखती है.

जवाब- विपक्ष हताश और निराश है. मोदी जी को लेकर उनकी चिढ़ इस बात को लेकर है कि मोदी जी के आने के बाद उनकी बेमानी और भ्रष्टाचारी बंद हो गई. देश के संसाधनों में जो लूट-खसोट मची थी वो समाप्त हो गई. मोदी के आने के बाद देश के अंदर जाति, क्षेत्र, भाषा, मत और मजहब दीवारें समाप्त हुईं. सबका साथ सबका विकास हुआ, विकास सबका तृष्टिकरण किसी का नहीं, इस संकल्प के साथ मोदी के नेतृत्व में जो कार्य प्रारंभ हुआ वह अभूतपूर्व है. देश के अंदर डेढ़ करोड़ गरीबों को मकान मिलना, 4 करोड़ गरीबों को बिजली कनेक्शन मिलना, 7 करोड़ गरीब महिलाओं को रसोई गैस का कनेक्शन मिलना, साढ़े 9 करोड़ गरीबों को एक-एक टॉयलेट मिलना, साढ़े 12 करोड़ सीमांत लोगों को 6 हजार रुपये सालाना प्रधानमंत्री सम्मान निधि, 15 करोड़ से अधिक यूथ को आर्थिक मदद मिलना, 37 करोड़ लोगों के लिए धनजन एकाउंट खुल जाना और 50 करोड़ लोगों को आयुष्मान भारत योजना में 5 लाख रुपये की निःशुल्क स्वास्थ्य सुविधा मुहैया कराना ये मोदी जी गरीब कल्याणकारी विजन है. इंफ्रास्ट्रक्चर के तहत हाईवे का निर्माण ढाई गुना ज्यादा बढ़ा है. रेलवे का इंफ्रास्ट्रक्चर कई गुना बढ़ा है. 1947 पहले से लेकर 2016 तक यूपी में कुछ 13 सरकारी मेडिकल कॉलेज बने थे. वहीं, 2016 से 2019 के बीच में हम लोग 15 मेडिकल कॉलेज, 3 एम्स, एक इंटरनेशनल कैंसर संस्थान बना रहे हैं या बन चुके हैं. गोरखपुर और रायबरेली का एम्स ओपीडी शुरू हो चुका है. वाराणसी का कैंसर संस्थान भी प्रारंभ हो चुका है. बीएचयू को एम्स के समकक्ष विकसित करने की कार्रवाई युद्धस्तर पर चल रही है. इससे साफ होता है कि जो काम 55 साल तक नहीं हुआ उसे मोदी जी ने 5 साल में करके जमीन पर उतार दिया है. 

सवाल- योगी जी जब आप इतना विकास कर रहे हैं इसमें खोट निकालना आसान नहीं है तो विपक्ष क्यों कहता है कि आपने राष्ट्रवाद की एक कथा गढ़ी है. आतंकवाद को मुद्दा बनाकर आप सहानभूति बटोरना चाहते हैं. 

जवाब- तीन दिन पहले आपने प्रियंका गांधी वाड्रा को जहरीले सांपों के साथ खेलते हुए देखा है न. ये जहर कांग्रेस बिगत 70 सालों से देश को दे रही है. आतंकवाद का जहरीला सांप, नक्सलवाद का जहरीला सांप, अलगाववाद का जहरीला सांप, ये सपा, बसपा और कांग्रेस भ्रष्टाचार का जहरीला सांप, योजनाओं पर डकैती जालने का जहरीला सांप, देश के संसाधनों को हड़पने का जहरीला सांप ये लोग लगातार दे रहे हैं. यही तो डंसता रहा देश को. मोदी जी ने जहरीला सांप को सौंदा उनके फनों को कुचला है, इसलिए इन्हें बुरा लगता है. मोदी की बुराई लोग इसलिए कर रहे हैं कि क्योंकि मोदी के आने के बाद देश में भ्रष्टाचार कम हुआ है. मोदी के आने के बाद आतंकवाद, नक्सलवाद के खिलाफ सख्ती से कार्रवाई की गई है. मोदी के आने के बाद देश में सुशासन और लोगों को सुविधाएं मिलने लगीं. हमारा राष्ट्रवाद किसी संकीर्ण दायरे का राष्ट्रवाद नहीं है. 

सवाल- तो आपके राष्ट्रवाद को एक अपशब्द के रूप में क्यों इस्तेमाल किया जाता है. बहुत सारे टिकाकार ने इस पर टिप्पणी की है.

जवाब- जिन्होंने देश की सुरक्षा के साथ लगातार गद्दारी की है. जो लोग भारत के अंदर शहरी नक्सलवाद को भड़का रहे हैं. ये लोग नक्सलवाद को पुलकित कर रहे हैं. ये शहरी नक्सलवाद ही हमारा विरोध कर रहे हैं. कोई भी देशभक्ति हमारे राष्ट्रवाद का विरोध नहीं करता है. 

सवाल- कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कहते हैं कि आप जैसे वरिष्ठ नेताओं ने ये दायित्व ले लिया है कि कौन देशद्रोही है और कौन राष्ट्रभक्त है. 

जवाब- हम तो कहते हैं भारत स्वतंत्र हुआ है. भारत ने एक संविधान दिया, ये संविधान भाजपा ने तो नहीं बनाया है. जो लोग भारत के संविधान को नहीं मानते, जो लोग भारत के प्रतीकों का सम्मान नहीं करते, जो भारत का सम्मान नहीं करते. जिन्हें जवानों के शहीद होने पर कष्ट नहीं होता है. जिन्हें नक्सली हमले में मानवता दिखाई देती है उन्हें देशद्रोही नहीं कहेंगे तो क्या कहेंगे. हमारा राष्ट्रवाद बाबा भीमराव आंबेडकर के संविधान को सम्मान देते हुए इसके अनुरूप देश की व्यवस्था चले. भारत के हर महापुरुषों का सम्मान होगा. जो लोग नहीं चाहते कि भारत एक हो. सीताराम येचुरी ने अपने माता-पिता के दिए नाम को भी कलंकित किया है. 

सवाल- बहुत लोग कहते हैं कि आप वंदे मातरम जबरदस्ती कहलवाते हैं. 

जवाब- वंदे मातरम देश का राष्ट्रीय गीत है. भारत में एक नई ऊर्जा देने वाला यह गीत है. इसका सम्मान हर एक को करना होगा. जिस व्यक्ति को भारत की राष्ट्रीय गीत, भारत का राष्ट्र ध्वज पसंद नहीं है तो वे भारत की धरती नहीं वहां जाएं उन्हें पसंद है. 

सवाल- आपने अपने ट्वीट में लिखा था कि मौलाना मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित करने के बाद उन लोगों के घरों में शोक मनाया जा रहा होगा, जो भारत में रहकर पाकिस्तान की भाषा बोलते हैं.     

जवाब- भारत की इतनी बड़ी विजय पर मोदी जी को बधाई नहीं देते तो कम से कम भारत सरकार को ही बधाई दे देते. बीजेपी के संस्थापकों ने हमें एक चीज बताई है कि नेशन फर्स्ट है. अटल जी ने 1971 में विजय के लिए इंदिरा गांधी को सम्मान दिया था. आज क्या मोदी जी को एयर और सर्जिकल स्ट्राइक को श्रेय नहीं मिलना चाहिए. गांधी परिवार करे तो श्रेय मिले और कोई करे तो श्रेय न मिले, ये मिठा-मिठा गप-गप और कड़वा-कड़वा थू-थू नहीं चलेगा.

सवाल- लोगों ने आपके उस ट्वीट पर इतना हाय-हाय तौबा क्यों कहा, जब आपने कहा मोदी की सेना.

जवाब- इस देश में 1947 से लेकर 1964 तक के कार्यों का श्रेय नेहरू जी को गया, 1965 से लेकर जब तक इंदिरा गांधी सत्ता में थी तो कोई भी कार्य श्रेय इंदिरा को मिला. 1985 से लेकर 89 तक कोई भी कार्य हुआ तो उसका श्रेय राजीव गांधी को मिला. लेकिन 2014 से लेकर 19 तक जो कार्य हुए उसका श्रेय क्या मोदी जी को नहीं मिलना चाहिए. उन्हें ये भी दिक्कत है कि कैसे कोई गरीब का बच्चा पीएम बन गया है. जितने भी स्ट्राइक हो या योग दिवस का हो या कुटनीतिक विजय का श्रेय पीएम को जाता है. अगर कमी के दोषी प्रधानमंत्री है तो इसका श्रेय भी उन्हें ही जाना चाहिए.

सवाल- मनमोहन जी ने कहा कि उनकी सरकार में सर्जिकल स्ट्राइक हुआ था. पी चिदंबरम ने कहा, मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने में हमने 10 साल मेहनत की और आप फिल्म के अंतिम में आते हैं और कहते हैं कि हमें सब किया.

जवाब- मनमोहन जी भले आदमी हैं. कम बोलते हैं, उनकी आवाज भी सुनाई नहीं देती है. पी चिदंबरम के बारे में सब लोग जानते हैं. इनके एक से एक कारनामे बाहर आ रहे हैं. उन्होंने मुंबई लेकर अयोध्या में हुए आतंकी हमले में क्यों कार्रवाई नहीं की थी. अगर उन्होंने सर्जिकल स्ट्राइक की थी तो क्यों मौन थे. क्या उन्हें पाकिस्तान, चीन या अमेरिका का भय था क्या. मोदीजी ने जो कहा वह करके दिखाया. आज हमें ऐसा पीएम चाहिए जो दुश्मन आंख-आंख मिलाकर बात कर सकें. ये आभास मोदी ने कराया कि विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र का प्रधान हूं.

सवाल- विपक्षी दल साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर और आपको एक श्रेणी में डालकर कहते हैं कि आप लोग उग्र हिन्दुत्व का प्रतिनिधित्व करते हैं.

जवाब- अगर मैं इन आरोपों में डूब जाऊं तो कुछ भी काम नहीं कर पाऊंगा. उग्र हिन्दुत्व मेरी शोभा है. हिन्दू सुरक्षित है तो सब सुरक्षित है. भारत इसलिए सेकुलर है, क्योंकि भारत में हिन्दू की जनसंख्या ज्यादा है. मुझे भी गर्व है कि मैं भी हिन्दू हूं. हिन्दू पर शर्म उन्हें होनी चाहिए, जिन्होंने हिन्दू को आतंकवादी की श्रेणी में रखा है.

सवाल - आजम खान जैसे कई नेता आपके हिन्दू गर्व को संकीर्णता का प्रचारक बताते हैं.

जवाब- जिसकी जितनी बुद्धि होगी वह उतना ही तो बोलेगा. मुझे स्वामी विवेकानंद के कथन पर अनुभूति होती है कि गर्व से कहो कि हम हिंदू हैं. 

सवाल- आजम खां और कई अन्य नेता आपके हिंदू को संकीर्णता के परिचायक बताते हैं.

जवाब- जिसकी जितनी बुद्धी होगी उतना तो वो लेगा. उससे ज्यादा आप कैसे उम्मीद कर सकते हैं. भारत के अंदर रहकर जो हिंदू धर्म की आलोचना करते हैं. उसे कूप मंडूक होना चाहिए. उसे डूब मरना चाहिए.

सवाल- आप ऐसे हिंदू धर्म का समर्थन करते हैं जो मुस्लिम विरोधी है.

मैं दो साल से प्रदेश का मुख्यमंत्री हूं. मोदी जी पांच साल से प्रधानमंत्री हैं. 2013 में मोदी जी ने नारा दिया था सबका साथ सबका विकास. डेढ़ करोड़ लोगों को मकान दिया मोदी जी ने. 4 करोड़ गरीबों को विद्युत कनेक्शन दिए. 7 करोड़ महिलाओं को रसोई गैस के कनेक्शन दिए. किसी की जाति देखी गई क्या. प्रदेश में 2 साल में कोई दंगा नहीं हुआ. यूपी में 20 साल के बाद कोई दंगा नहीं हुआ. सभी त्योहार शांति पूर्ण तरीके से संपन्न हुए. जनता का आशीर्वाद बीजेपी के साथ है. इसलिए चारों तरफ से एक ही आवाज उठ रही है एक बार फिर मोदी सरकार. 

सवाल- क्या यूपी में अब सभी घरों में बिजली पहुंच रही है

जवाब- 14 अप्रैल 2017 के बाद आप यूपी के किसी भी घर में जाकर पूछिए बिजली आती है कि नहीं. आपको हर घर से हां में जवाब मिलेगा. 2017 के पहले बिजली नहीं आती थी. लेकिन अब बिजली न जाति पूछकर और न ही मजहब पुछकर, सबके घरों में आती है.

सवाल- आपकी ठोको नीति से कई लोगों को आपत्ति है, क्या यह नीति सही है

जवाब- अखिलेश यादव को मेरे ठोको नीति से परेशानी होती है. लेकिन ये वही लोग थे जो प्रदेश में दंगा फसाद करते थे. बहन-बेटियों की सुरक्षा के लिए खतरा थे. ये लोग किसी पार्टी विशेष से शरण पाते थे. आज कोई बदमाश पुलिस वाले पर गोली चलाने का दुस्साहस नहीं कर सकता. बहन बेटियों की इज्जत से खिलवाड़ करने की हिम्मत नहीं है. कोई दुस्साहस करके तो देखे. आप प्रदेश के किसी भी जिले में पहुंच जाइए. सभी लोग आपको कहेंगे न साहब कानून व्यवस्था दुरुस्त है.

प्रियंका गांधी धुंआधार चुनाव प्रचार कर रही है. राहुल गांधी का जबरदश्त समर्थन कर रही हैं. क्या कहना चाहेंगे आप

जवाब- प्रियंका गांधी नारी होने के नाते हम उनका सम्मान करते हैं. नारी गरिमा का हमलोग पूरा ख्याल रखते हैं. लेकिन मुझे कुछ चीजों पर आपत्ति है. नारी होकर भी बच्चों को गाली क्यों सिखाती हैं. यह शोभा नहीं देता. और झूठ क्यों बोलती हैं. भारत के आस्था के खिलाफ क्यों है. उनके नाना-दादा ये कह चुके हैं कि हमलोग एक्सीडेंटली हिंदू हैं. जब वे लोग कहते हैं कि राम का अस्तित्व नहीं है. कृष्ण का अस्तित्व नहीं है. तो ये लोग मंदिर क्यों जाते हैं. बरगद के पेड़ के नीचे पूजा क्यों करते हैं. भारत में कुछ नाम और बाहर कुछ और नाम से जाने जाते हैं. 

राहुल गांधी के बारे में आपलोग बहुत कुछ कह देते हैं. क्या यह सही है. 

मैंने कभी राहुल गांधी के बारे में अपमानजनक टिप्पणी नहीं की है. लेकिन सुप्रीम कोर्ट में टिप्पणी हुई न. उनके नागरिकता का विषय चल रहा है न. राहुल जी कांग्रेस के अध्यक्ष हैं. वो अध्यक्ष बने रहें. लेकिन कांग्रेस के एक अन्य गुट राहुल को फेल बता रहे हैं. राहुल की क्षमता पर मैं नहीं, कांग्रेस के लोग प्रश्न खड़ा कर चुके हैं. कांग्रेस परिवार अपने को भारत और संवैधानिक संस्थाओं से ऊपर मानता है. यह नया भारत है. नया भारत 1947 से लेकर 2019 तक इस शाही परिवार के एक्सीडेंटल हिंदू से लेकर मिशेल अंकल तक के सभी काले कारनामे को पोल खोलेगा. और इस परिवार को भारत की जनता से माफी मांगनी पड़ेगी.

सवाल- राष्ट्रवाद क्या है

जवाब- भारत के सभी 130 करोड़ की जनता को राष्ट्रवादी हिंदू होना चाहिए. यह सिर्फ दिखना ही नहीं चाहिए व्यवहारिक रूप से होना भी चाहिए. गरीबों की सेवा करना ही धर्मयुद्ध है. इस धर्मयुद्ध में सभी को भागीदारी होनी चाहिए. इसके लिए सभी को तैयार रहना चाहिए. 

सवाल- विपक्ष आपको मुस्लिम विरोधी बताते हैं

मेरी छवि मुस्लिम विरोधी नहीं है. प्रदेश में मुस्लिम की आबादू 17 प्रतिशत है. मोदी जी की कल्याणकारी योजना का लाभ 30 प्रतिशत मुस्लिमों को मिली है. मैंने कभी भेदभाव नहीं किया है. 

सवाल- क्या आप कभी परेशान होते हैं

जवाब- मैं कभी परेशान नहीं होता. क्योंकि मैंने कभी गलत काम नहीं किया है. हां जब किसी गरीबों को या किसी वंचितों का शोषण होता है तो परेशानी होती है.

First Published : 05 May 2019, 05:14:52 PM

For all the Latest Elections News, General Elections News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.