News Nation Logo
Banner

राहुल गांधी ने कहा- सैम पित्रोदा का सिख दंगे पर बयान अनुचित, माफी मांगे

पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने माफी मांगी है, सोनिया गांधी ने माफी मांगी है.

News Nation Bureau | Edited By : Sushil Kumar | Updated on: 11 May 2019, 12:07:50 AM
राहुल गांधी (फाइल फोटो)

highlights

  • राहुल गांधी ने सैम पित्रोदा से माफी मागने के कहा
  • सैम पित्रोदा ने 1984 सिख दंगा पर विवादित बयान दिया
  • कमजोर हिंदी को बताया जिम्मेदार

ऩई दिल्ली:

राहुल गांधी ने 1984 सिख दंगा को लेकर दिए गए बयान पर सैम पित्रोदा से माफी मांगने को कहा है. उन्होंने कहा कि सैम पित्रोदा ने जो कुछ कहा है उसके लिए उसे निश्चित रूप से माफी मांगनी चाहिए. '84 त्रासदी के लिए जिम्मेदार लोगों को दंडित किया जाना है. पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने माफी मांगी है. सोनिया गांधी ने माफी मांगी है. मैंने अपनी स्थिति बहुत ही स्पष्ट कर दी है. '84 एक भयानक त्रासदी थी. भविष्य में ऐसा कभी नहीं होना चाहिए. 

84 में हुआ तो हुआ - सैम पित्रोदा

बता दें कि सैम पित्रोदा ने कहा था कि '84 में हुआ तो हुआ.. आपने क्या किया'. सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने आगे कहा, 1984 दंगों के लिए कांग्रेस पार्टी नहीं बल्कि कुछ लोग जिम्मेदार हैं. उसमें अगर कांग्रेस के लोग थे तो आरएसएस और बीजेपी से जुड़े लोग भी दंगों में शामिल थे. मैं तो पहले भी कई बार कह चुका हूं कि कांग्रेस पार्टी के पांच लोग जिनके नाम मैं कई बार खुले तौर पर लेता हूं वो इन दंगों में शामिल थे और उनको लेकर कानून अपना काम कर रहा है.

सैम पित्रोदा अपने बयान से बैकफुट पर नजर आए

सैम पित्रोदा कांग्रेस की ओवरसीज़ यूनिट के प्रमुख हैं और गांधी परिवार के करीबी रहे हैं. हालांकि, बाद में सैम पित्रोदा ने अपने बयान से बैकफुट पर जाते हुए ये भी आरोप लगाया कि बीजेपी ने उनके बयान के कुछ शब्दों को गलत तरीके से पेश किया है.

यह शर्मनाक की बात है - अरुण जेटली

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कांग्रेस पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा, 'क्या कांग्रेस अध्यध (राहुल गांधी) अपने 'गुरु' को बाहर करेंगे, जो 1984 में हुए भारत के सबसे बड़े देशभक्त समुदाय के साथ हुए नरसंहार के बारें में ऐसी बात करते हैं. उन्होंने ये भी कहा, 'सैम पित्रोदा का 'हुआ तो हुआ' वाली प्रतिक्रिया 1984 में हुए सिखों के नरसंहार के प्रति कांग्रेस पार्टी की ओर से पछतावे की कमी को दर्शाती है. यह शर्मनाक की बात है कि कांग्रेस पार्टी को 1984 के दंगे और सिखो की हत्या पर कोई पछतावा नहीं है.'

कमजोर हिंदी को जिम्मेदार ठहरा मांगी माफी

कांग्रेस पार्टी के सिख दंगों वाले बयान से किनारा कर लेने के बाद अंततः सैम पित्रोदा को सफाई देने के लिए खुद आगे आना पड़ा. उन्होंने एक और कांग्रेसी नेता मणिशंकर अय्यर की तरह ही बयान पर अपनी सफाई को कमजोर हिंदी के मत्थे मढ़ दिया. उन्होंने कहा कि मेरे कहने का आशय ऐसा कतई नहीं था. मैंने कहा कुछ और था और उसका अर्थ कुछ और निकाला गया. मैं अपने बयान के लिए माफी मांगता हूं. साथ ही चाहता हूं कि इस मसले को पीछे छोड़कर आगे बढ़ा जाए.

First Published : 11 May 2019, 12:07:50 AM

For all the Latest Elections News, General Elections News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.