News Nation Logo
Banner

बेगूसराय : बीजेपी विरोधी वोटों में विभाजन कन्हैया के लिए नुकसानदायक

गंगा नदी के पूर्वी किनारे पर स्थित उत्तर बिहार के बेगूसराय को 'बिहार के लेनिनग्राद' व 'लिटिल मॉस्को' जैसे नामों से भी जाना जाता है और एक बार फिर से यह देश का ध्यान अपनी ओर खींच रहा है.

IANS | Updated on: 03 Apr 2019, 10:27:11 AM
गिरिराज सिंह और कन्हैया कुमार (फाइल फोटो)

गिरिराज सिंह और कन्हैया कुमार (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Election 2019) : गंगा नदी के पूर्वी किनारे पर स्थित उत्तर बिहार के बेगूसराय को 'बिहार के लेनिनग्राद' व 'लिटिल मॉस्को' जैसे नामों से भी जाना जाता है और एक बार फिर से यह देश का ध्यान अपनी ओर खींच रहा है, क्योंकि भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) ने आगामी लोकसभा चुनाव में अपने फायरब्रांड नेता कन्हैया कुमार को इस सीट से चुनाव मैदान में उतारा है. वहीं भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने अपने शीर्ष भूमिहार नेता व केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह को उनके खिलाफ टिकट दिया है.

यह भी पढ़ें ः Bihar : बेगूसराय सीट पर गिरिराज सिंह और कन्हैया कुमार के बीच होगा कड़ा मुकाबला

इनसब के बीच, राष्ट्रीय जनता दल (राजद) व महागठबंधन के उम्मीदवार तनवीर हसन ज्यादा मीडिया का ध्यान आकर्षित नहीं कर पा रहे हैं, लेकिन उनकी मौजूदगी ने मुकाबले को त्रिकोणीय बना दिया है. हसन ने साथ ही बीजेपी विरोधी वोटों को हासिल करने के कन्हैया के मौके पर भी पानी फेर दिया है. हसन के मैदान में उतरने से भाजपा विरोधी वोट राजद और भाकपा के बीच बंट सकते हैं.

यह भी पढ़ें ः नाराज चल रहे गिरिराज सिंह की बेगूसराय से उम्‍मीदवारी पर बीजेपी अध्‍यक्ष अमित शाह ने ये कहा

एक विश्लेषण बताता है कि अगर मुकाबला दो के बीच होता तो कन्हैया के पास बीजेपी को चौंका देने का एक अच्छा मौका था. युवा नेता के रूप में कन्हैया के उभरने से भाकपा को उसके प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ आशा जगी थी और पार्टी ने उन्हें अपना उम्मीदवार बनाया था.

यह भी पढ़ें ः रथ यात्रा विवाद : गिरिराज सिंह ने बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को बताया किम जोंग उन

जेएनयू घटना के बाद कन्हैया के साथ 'देशद्रोही' का तमगा चिपका हुआ है और हो सकता है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने गिरिराज सिंह को मैदान में उतारने का फैसला इसी कारण किया है, जबकि सिंह नवादा से फिर से चुनाव लड़ने की इच्छा जता चुके थे. गिरिराज सिंह नवादा से चुनाव लड़ने की जिद कर रहे थे, लेकिन राजग सहयोगियों के बीच सीट बंटवारे में यह सीट लोजपा के खेमे में जाने से उन्हें बेगूसराय से लड़ने के लिए मजबूर होना पड़ा.

यह भी पढ़ें ः गिरिराज सिंह बोले- खिलजी ने लूटा था बिहार, बदले जाएं मुगलों से जुड़े नाम, भड़की जेडीयू

2014 में भाजपा के भोला सिंह ने तनवरी हसन को 58 हजार से ज्यादा मतों से शिकस्त देकर सीट पर कब्जा जमाया था. भोला सिंह पूर्व भाकपा नेता थे, जो भाजपा में शामिल हो गए थे. 34.31 फीसदी वोट हिस्सेदारी के साथ हसन को करीब 3,70,000 वोट मिले थे, जबकि भोला सिंह को 39.72 फीसदी वोट हिस्सेदारी के साथ 4,28,000 वोट हासिल हुए थे. भाकपा के राजेंद्र प्रसाद सिंह को 17.87 फीसदी वोटों के साथ करीब 2,00,000 वोट मिले थे.

यह भी पढ़ें ः अयोध्या में हिंदू और मुसलामानों की इच्छा से जरूर बनेगा राम मंदिर: गिरिराज सिंह

अनुमान के मुताबिक, बेगूसराय के 19 लाख मतदाताओं में भूमिहार मतदाता करीब 19 फीसदी, 15 फीसदी मुस्लिम, 12 फीसदी यादव और 7 फीसदी कुर्मी हैं. भूमिहार वोट यहां की मुख्य कड़ी हैं और इस बात का सबूत है कि पिछले 16 लोकसभा चुनावों में से कम से कम 11 में नौ बार भूमिहार सांसद बने हैं. 2009 में अंतिम परिसीमन से पहले बेगूसराय जिले में दो संसदीय सीटें बेगूसराय और बलिया सीट थीं. तब उन दोनों को मिलाकर बेगूसराय कर दिया गया और बलिया सीट खत्म हो गई. बेगूसराय जिले की 7 विधानसभा सीटों में से 5 बलिया में आती हैं.

यह भी पढ़ें ः आप से गठबंधन न होने पर अजय माकन ने लोकसभा चुनाव लड़ने से किया इन्‍कार : सूत्र

गिरिराज और कन्हैया दोनों ही भूमिहार हैं और अब देखना यह होगा कि कौन अपनी जाति से अधिकतम समर्थन हासिल कर पाता है. गिरिराज सिंह की भूमिहार, सवर्णो, कुर्मी और अति पिछड़ा वर्ग पर अच्छी पकड़ है, जबकि राजद मुस्लिम, यादव और पिछड़ी जाति के वोटरों को अपने खेमे में किए हुए हैं. भाकपा को आशा थी कि राजद कोई उम्मीदवार नहीं उतारेगा, जिससे कन्हैया की जीत हो सकती थी, लेकिन पार्टी ने हसन को उम्मीदवार के रूप में टिकट दे दिया.

यह भी पढ़ें ः नीतीश कुमार की शिकायत पर लालू यादव के वार्ड में छापेमारी, जानें क्‍या मिला

वर्तमान हालात में कन्हैया को असंभव कार्य करना होगा. अगर वह भूमिहार वोट में सेंध लगाने में कामयाब रहते हैं तो इसका सीधा फायदा हसन को होगा. लेकिन राजद के लिए यह इतना आसान नहीं होगा. बेगूसराय में उद्योगों की भारी मौजूदगी व ट्रेड यूनियन आंदोलन ने इलाके में राजनीतिक माहौल गर्मा दिया है और भाकपा की यहां पकड़ अच्छी है. कन्हैया बेगूसराय में बीते दो महीने से आक्रामक प्रचार कर रहे हैं और प्रत्येक जाति व समुदाय से समर्थन मांग रहे हैं. बेगूसराय में लोकसभा चुनाव के चौथे चरण में मतदान होना है, जो कि 29 अप्रैल को होगा। नतीजों की घोषणा 23 मई को की जाएगी.

First Published : 03 Apr 2019, 10:25:59 AM

For all the Latest Elections News, General Elections News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो