News Nation Logo
Banner

Lok Sabha Election 2019: पहले चरण के लिए थम गया चुनाव प्रचार, 48 घंटे बाद कई धुरंधरों के किस्मत का फैसला करेगी जनता

पहले चरण में देश के 91 लोकसभा सीटों पर वोटर्स अपने मताधिकार का इस्तेमाल करेंगे और इसके बाद इन सीटों के उम्मीदवारों की किस्मत 23 मई तक के लिए ईवीएम मशीन में बंद हो जाएगी

News Nation Bureau | Edited By : Kunal Kaushal | Updated on: 09 Apr 2019, 11:52:37 PM

नई दिल्ली:

लोकसभा चुनाव के पहले चरण की वोटिंग के लिए चुनाव प्रचार आज शाम खत्म हो गया है. पहले चरण में देश के 91 लोकसभा सीटों पर वोटर्स अपने मताधिकार का इस्तेमाल करेंगे और इसके बाद इन सीटों के उम्मीदवारों की किस्मत 23 मई तक के लिए ईवीएम मशीन में बंद हो जाएगी. पहले चरण में 20 राज्यों की 91 सीटों पर चुनाव होने हैं. उत्तर प्रदेश, आंध्र प्रदेश, अरुणाचल प्रदेश, असम, बिहार, छत्तीसगढ़, जम्मू एवं कश्मीर, महाराष्ट्र, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, नागालैंड, ओडिशा, सिक्किम, तेलंगाना, त्रिपुरा, उत्तराखंड, पश्चिम बंगाल, अंडमान एवं निकोबार द्वीप समूह और लक्ष्यद्वीप के 91 संसदीय क्षेत्रों में चुनावी रैलियों, नुक्कड़ सभाओं पर विराम लग गया. प्रथम चरण में 10 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की सभी लोकसभा सीटों के लिए मतदान होगा. इनमें आंध्र प्रदेश की 25 लोकसभा सीटें, तेलंगाना की 17, उत्तराखंड की पांच, अरुणाचल प्रदेश, जम्मू एवं कश्मीर और मेघालय की दो-दो सीटें तथा छत्तीसगढ़, मणिपुर, मिजोरम, नागालैंड, सिक्किम, त्रिपुरा, अंडमान एवं निकोबार के साथ ही लक्ष्यद्वीप की एक-एक सीट शामिल हैं.

पहले चरण के मतदान के दौरान उत्तर प्रदेश की 80 लोकसभा सीटों में से आठ के लिए, बिहार की 40 सीटों में से चार के लिए और पश्चिम बंगाल की 42 में से दो सीटों के लिए मतदान होगा. सबसे खास बात यह है कि चुनाव के पहले चरण में बीजेपी, कांग्रेस समेत कई दलों के बड़े नेताओं की इज्जत दांव पर लगी हुई है.

बड़े नेताओं की इज्जत दांव पर

दिल्ली से सटे गाजियाबाद से जहां विदेश राज्य मंत्री वीके सिंह की पहले चरण में ही परीक्षा हो रही है वहीं नोएड़ा से केंद्रीय मंत्री मेहश शर्मा ने भी 11 अप्रैल को होने वाले मतदान के लिए कमर कस ली है. महाराष्ट्र के नागपुर से नितिन गडकरी भी पहले चरण में ही कांग्रेस के नानाभाऊ पटोले के खिलाफ चुनावी मैदान में खड़ें हैं.

वहीं बात अगर बिहार की करें तो वहां से एलजेपी के प्रमुख नेता चिराग पासवान का भविष्य भी 11 अप्रैल को ही ईवीएम में कैद हो जाएगा. उनका सीधा मुकाबला एनडीए छोड़कर महागठबंधन में शामिल हो चुकी आरएलएसपी के भूदेव चौधरी से हैं. इसके अलावा 11 अप्रैल को ही यूपी के विवादित मुजफ्फरनगर सीट से बीजेपी उम्मीदवार संजीव बालियान का मुकाबला आरएलडी प्रमुख चौधरी अजित सिंह से होना है. वहीं बागपत सीट से बीजेपी के सत्यपाल सिंह का मुकाबला आरएलडी के जयंत चौधरी से होगा.

पहले चरण के लिए वोटिंग की तैयारी पूरी

चुनाव आयोग के अनुसार उत्तर प्रदेश की कुल आठ सीटों पर सुबह 7 बजे से शाम 6 बजे तक मतदान होगा. वहीं बिहार की कुल 4 सीटों पर सुबह 7 बजे से शाम 4 बजे तक मतदान होगा. 11 अप्रैल को मतदाता पोलिंग बूथ पर जाकर अपने-अपने क्षेत्र के प्रतिनिधियों को चुनेंगे. इस बार सात चरणों में मतदान किया जाएगा. 23 मई को मतगणना होगी. उस दिन देश को नया प्रधानमंत्री मिलेगा.

सुरक्षा ऐसी की परिंदा भी न मार पाए पर

इलेक्शन सिक्युरिटी प्लान के तहत 39088 होमगार्ड जवान, 951 पीआरडी जवान, 5408 ग्राम प्रहरी भी लगाए गए हैं. पहले चरण में कुल 6717 मतदान केंद्र हैं, 1564 संवेदनशील केंद्र हैं. पहले चरण के मतदान को लेकर इलेक्शन कमीशन की गाइड लाइन का पालन करते हुए हम ये सुनिश्चित करेंगे कि चुनाव निष्पक्ष और शांतिपूर्ण तरीके से हो. सभी को वोट देने के लिए प्रेरित करते हुए हम ये सुनिश्चित करेंगे कि किसी पर कोई दबाव ना हो और सभी लोग अपने वोट के अधिकार का प्रयोग करें.

बिहार में पहले चरण में एनडीए का मुकाबला सीधे महागठबंधन से

प्रथम चरण के चुनाव में मुख्य मुकाबला राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) और महागठबंधन के बीच माना जा रहा है. इस चरण में होने वाले चुनाव प्रचार को लेकर दोनों गठबंधनों ने पूरी ताकत झोंक दी. चुनाव प्रचार के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, गृहमंत्री राजनाथ सिंह, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सहित कई नेता इन क्षेत्रों में चुनावी जनसभाओं को संबोधित कर चुके हैं.

First Published : 09 Apr 2019, 11:40:32 PM

For all the Latest Elections News, General Elections News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो