News Nation Logo
Banner

केजरीवाल के बयान पर शीला दीक्षित ने किया पलटवार, कही यह बात

उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी (Aap) दिल्ली की सातों सीटों पर जीत दर्ज करने जा रही थी, लेकिन ऐन मौके पर आए 'वोटिंग टि्वस्ट' से जीती हुई बाजी पलट गई.

News Nation Bureau | Edited By : Yogesh Bhadauriya | Updated on: 18 May 2019, 11:57:44 AM
केजरीवाल के बयान पर शीला का पलटवार

नई दिल्ली:  

राजधानी दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने लोकसभा चुनाव 2019 में आम आदमी पार्टी की स्थिति को लेकर एक बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी (Aap) दिल्ली की सातों सीटों पर जीत दर्ज करने जा रही थी, लेकिन ऐन मौके पर आए 'वोटिंग टि्वस्ट' से जीती हुई बाजी पलट गई. यही नहीं, उन्होंने 23 मई को मतगणना शुरू होने से पहले एक बार फिर ईवीएम टैंपरिंग का राग छेड़ दिया है.

यह भी पढ़ें- चौथी बार बाबा केदारनाथ के द्वार पहुंचे पीएम मोदी, पुनर्निर्माण कार्यो की समीक्षा भी की

इस पर पुलटवार करते हुए दिल्ली की पूर्व सीएम शीला दीक्षित ने कहा, 'आखिरी समय में दिल्ली में मुस्लिम वोट कांग्रेस में स्थानांतरित हो गए', पता नहीं वह (सीएम केजरीवाल) क्या कहना चाह रहे है. सभी को अधिकार है कि जो जिस पार्टी को वोट देना चाहता है, उसे वोट दे सकता है. दिल्ली के लोग न ही उनके शासन मॉडल को समझते हैं और न ही पसंद करते हैं.

केजरीवाल ने कहा सारा वोट कांग्रेस को शिफ्ट हो गया

अंग्रेजी समाचारपत्र इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में अरविंद केजरीवाल ने यह कहकर सनसनी फैला दी कि आप का सारा का सारा वोट कांग्रेस (Congress) को शिफ्ट हो गया है. आप को दिल्ली (Delhi) में कितनी सीटों पर जीत मिलेगी प्रश्न के जवाब में उन्होंने कहा, 'देखिए क्या होता है. दरअसल चुनाव के 48 घंटे पहले तक हमें लग रहा था कि सातों सीट पर आम आदमी पार्टी को जीत मिलेगी, लेकिन आखिरी लम्हों में सारा का सारा वोट कांग्रेस को चला गया. यह सब चुनाव से एक दिन पहले हुआ. हम पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि आखिए ऐसा क्यों हुआ. यहां 12-13 फीसदी वोट मुसलमानों (Muslim Votes) के हैं.' गौरतलब है कि आप ने अंतिम क्षणों तक दिल्ली में कांग्रेस के साथ गठबंधन की कोशिशें की थीं, लेकिन बात बनी नहीं.

फिर आलापा ईवीएम राग, कहा छेड़छाड़ नहीं हुई तो बीजेपी केंद्र में नहीं आएगी

यही नहीं, बीजेपी के दोबारा सत्ता में आने के सवाल पर केजरीवाल ने कहा है कि अगर ईवीएम (EVM Tampering) से छेड़छाड़ नहीं हुई तो मोदीजी की प्रधानमंत्री बतौर वापसी मुश्किल है. साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि अगर केंद्र में मोदी (PM Modi) और अमित शाह के बगैर सरकार बनती है, तो वह समर्थन देने को तैयार हैं, लेकिन दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा देने के वादे पर ही आप पार्टी केंद्र की गैर-मोदी सरकार में शामिल होंगे. गौरतलब है कि 2014 में आप को दिल्ली की सातों सीटों पर करारी हार का सामना करना पड़ा था.

First Published : 18 May 2019, 11:57:44 AM

For all the Latest Elections News, General Elections News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.