News Nation Logo

अंतिम चरणः सातवां द्वार तोड़ने के लिए तेजस्‍वी ने लगाया सबसे ज्‍यादा जोर, मोदी-शाह रह गए पीछे

लोकसभा चुनाव का अंतिम यानी सातवां चरण कितना महत्‍वपूर्ण है इसका अंदाजा केवल इस बात से लगाया जा सकता है कि इस फेज में रैलियों का रिकॉर्ड बन गया

DRIGRAJ MADHESHIA | Edited By : Drigraj Madheshia | Updated on: 18 May 2019, 07:41:08 PM
अबकी बार किसकी सरकार

नई दिल्‍ली:

लोकसभा चुनाव का अंतिम यानी सातवां चरण कितना महत्‍वपूर्ण है इसका अंदाजा केवल इस बात से लगाया जा सकता है कि इस फेज के लिए चाहे कांग्रेस हो या बीजेपी या फिर राजद, सभी दलों ने एड़ी-चोटी का जोर लगा दिया. बीजेपी की ओर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अमित शाह और योगी आदित्‍यनाथ ने मिलकर 88 रैलियां कर डालीं. चुनाव के नतीजे 23 मई (Lok Sabha Election 2019 Results on 23 May) को आएंगे. लेकिन इससे पहले 19 मई को एक्‍जिट पोल्‍स (Exit Polls 2019) आ जाएंगे.

छठे चरण का चुनाव प्रचार 11 मई को शाम 6 बजे थम गया था. 12 मई से सभी दलों के दिग्‍गज नेता सातवें चरण के लिए जोर लगाना शुरू कर दिए. 12 मई से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीजेपी का कमल खिलाने के लिए 26 रैलियां कर डालीं. वहीं बीजेपी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष अमित शाह ने 29 और स्‍टार प्रचारक योगी आदित्‍यनाथ ने 29 रैलियों के जरिए लोगों से बीजेपी को वोट डालने की अपील की.

बस इतने दिन और हाे जाएगा फैसला, अबकी बार किसको मिलेगी कुर्सी

कांग्रेस ने भी लगाया जोर

गर्म मौसम और बढ़ते सियासी पारे के बीच राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा भी पसीना बहाने में पीछे नहीं रहे. कांग्रेस के हाथ को मजबूत करने के लिए दोनों भई-बहन मिलकर 26 रैलियां कर डालीं.

गठबंधन भी ने उड़ाया गर्दा
बीजेपी और कांग्रेस के अलावा सपा-बसपा-आरएलडी गठंबधन का हेलिकॉप्‍टर भी खूब गर्दा उड़ाया. अखिलेश यादव और मायावती दोनों मिलकर 20 रैलियां कीं. वहीं बिहार में राजद के तेजस्‍वी यादव ने इस चरण के लिए सबसे ज्‍यादा पसीना बहाया. तेजस्‍वी ने रैलियों का अर्धशतक लगाया.

स्‍टार प्रचारक पार्टी रैलियां
तेजस्वी यादव राजद 50
योगी आदित्यनाथ बीजेपी 33
अमित शाह बीजेपी 29
नरेंद्र मोदी बीजेपी 26
राहुल गांधी कांग्रेस 15
प्रियंका गांधी कांग्रेस 11
मायावती बसपा 11
अखिलेश यादव सपा 9


अंतिम चरण में 59 सीटों पर मतदान

अंतिम चरण में 19 मई को आठ राज्यों की 59 सीटों पर मतदान होगा. उत्तर प्रदेश की 13, पंजाब की सभी 13, पश्चिम बंगाल की नौ, बिहार व मध्य प्रदेश की आठ-आठ, हिमाचल प्रदेश की सभी चार, झारखंड की तीन और चंडीगढ़ लोकसभा सीट पर चुनाव होगा. 2014 के लोकसभा चुनाव में इन 59 सीटों में से सबसे ज्यादा 33 सीटें बीजेपी के पास थीं. टीएमसी के पास नौ, कांग्रेस के पास तीन और अन्य के पास 14 सीटें थीं. ऐसे में सबसे बड़ी चुनौती बीजेपी के सामने अपनी सीटें बचाने की है. क्योंकि इस बार गठबंधन का गणित भी है. हालांकि बीजेपी को मोदी कैमिस्ट्री पर पर सबसे ज्यादा भरोसा है. बीजेपी के प्रवक्ता राजीव जेटली का दावा है कि पहले से ज्यादा सीटें आएंगी.

First Published : 18 May 2019, 07:41:08 PM

For all the Latest Elections News, General Elections News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.