News Nation Logo

आम चुनाव के साल में चुनावी बांड की बिक्री में 62 प्रतिशत का जोरदार उछाल

लोकसभा चुनाव से पहले चुनावी बांड की बिक्री में 62 प्रतिशत का जोरदार उछाल आया है.

PTI | Edited By : Deepak Pandey | Updated on: 02 Apr 2019, 08:58:42 AM
फाइल फोटो

नई दिल्ली:

लोकसभा चुनाव से पहले चुनावी बांड की बिक्री में 62 प्रतिशत का जोरदार उछाल आया है. सूचना के अधिकार (आरटीआई) के तहत मांगी गई जानकारी से पता चलता है कि चुनावी बांड की बिक्री पिछले साल की तुलना में करीब 62 प्रतिशत बढ़ गई है. भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने 1,700 करोड़ रुपये से अधिक के चुनावी बांड बेचे हैं.

यह भी पढ़ें ः Lok sabha Election 2019 : क्‍या है चुनावी बांड, कैसे यह चुनाव में कालाधन का इस्‍तेमाल रोकेगा

पुणे के विहार दुर्वे द्वारा आरटीआई के तहत मांगी गई जानकारी के जवाब में एसबीआई ने बताया कि 2018 में उसने मार्च, अप्रैल, मई, जुलाई, अक्टूबर और नवंबर के माह में 1,056.73 करोड़ रुपये के बांड बेचे. इस साल जनवरी और मार्च में बैंक ने 1,716.05 करोड़ रुपये के चुनावी बांड बेचे. इस तरह चुनावी बांड की बिक्री में 62 प्रतिशत का इजाफा हुआ. लोकसभा के चुनाव के लिए पहले चरण का मतदान 11 अप्रैल को होना है.

यह भी पढ़ें ः चुनावी बांड 'प्रतिगामी', दलों को सरकारी फंडिंग मिले : येचुरी

वित्त मंत्रालय द्वारा किसी अवधि के लिए बिक्री की अधिसूचना जारी होने के बाद एसबीआई की शाखाओं के जरिये चुनावी बांड बेचा जाता है. एसबीआई द्वारा उपलब्ध कराए गए आंकड़ों के अनुसार 2019 में सबसे अधिक 495.60 करोड़ रुपये के चुनावी बांड मुंबई में बेचे गए. कोलकाता में 370.07 करोड़ रुपये, हैदराबाद में 290.50 करोड़ रुपये, दिल्ली में 205.92 करोड़ रुपये और भुवनेश्वर में 194 करोड़ रुपये के चुनावी बांड बेचे गए.

यह भी पढ़ें ः कांग्रेस ने उम्मीदवारों की नौवीं लिस्ट जारी की, एथलीट कृष्णा पुनिया जयपुर ग्रामीण से लड़ेंगी चुनाव

चुनावी बांड याजना को केंद्र सरकार ने 2018 में अधिसूचित किया था. इसे उच्चतम न्यायालय में चुनौती दी गई. जनप्रतिनिधित्व कानून 1951 की धारा 29ए के तहत ऐसे राजनीतिक दल जिन्हें पिछले आम चुनाव या राज्य के विधानसभा चुनाव में एक प्रतिशत या उससे अधिक मत मिले हैं, चुनावी बांड प्राप्त करने के पात्र होते हैं.

यह भी पढ़ें ः उमर अब्दुल्ला के बयान पर बोले पीएम- जबतक मोदी है, साजिश कामयाब नहीं होगी

ये बांड 15 दिन के लिए वैध होते हैं और पात्र राजनीतिक दल इस अवधि में किसी अधिकृत बैंक में बैंक खाते के जरिये इन्हें भुना सकता है. चुनाव सुधारों के लिए काम करने वाले स्वैच्छिक समूह एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) ने हाल में इन बांडों की बिक्री पर रोक की मांग करते हुए उच्चतम न्यायालय में अपील की है. माकपा ने अलग याचिका में इसे शीर्ष अदालत में चुनौती दी है.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 02 Apr 2019, 08:58:36 AM

For all the Latest Elections News, General Elections News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो