News Nation Logo
Banner

बुलेट पर भारी पड़ी EVM की बटन, छत्‍तीसगढ़ के बस्‍तर में 1 बजे तक 33. 84 प्रतिशत मतदान

पहले चरण में गुरुवार सुबह 7 बजे से मतदान जारी है . दंतेवाड़ा, बीजापुर, नारायणपुर और कोंटा विधानसभा क्षेत्र में 3 बजे तक होगा मतदान.

News Nation Bureau | Edited By : Drigraj Madheshia | Updated on: 11 Apr 2019, 03:04:39 PM
छत्‍तीसगढ़ के एक बूथ पर लगी मतदाताओं की कतार

छत्‍तीसगढ़ के एक बूथ पर लगी मतदाताओं की कतार

रायपुर:

पहले चरण में गुरुवार सुबह 7 बजे से मतदान जारी है . दंतेवाड़ा, बीजापुर, नारायणपुर और कोंटा विधानसभा क्षेत्र में 3 बजे तक होगा मतदान. शेष क्षेत्रों में शाम 5 बजे तक वोट डाले जाएंगे. बस्तर लोकसभा सीट के लिए 8 विधानसभा क्षेत्रों में मतदाताओं की लंबी कतार पोलिंग बूथों पर दिख रही है. चुनाव से 2 दिन पहले हुए नक्सली हमले में बीजेपी विधायक भीमा मंडावी की मौत व 4 जवानों की शहादत भी वोटरों के हौसले को पस्त नहीं कर सकी. इसी का नतीजा है कि 1 बजे तक 33. 84 प्रतिशत मतदान हो चुका है.

यह भी पढ़ेंः छत्तीसगढ़ : दंतेवाड़ा नक्सली हमले के बाद बोले चुनाव आयोग, चुनाव तय कार्यक्रम के अनुसार हो होंगे

नक्सलियों के चुनाव बहिष्कार को देखते हुए 294 अतिसंवेदनशील मतदान केंद्रों का स्थान बदला गया है. इन बूथों के करीब 1 लाख से अधिक मतदाताओं को वोट करने के लिए अपने गांव से 15 से 35 किलोमीटर दूर तक जाना होगा. इनमें बीजापुर जिले के भोपलपटनम, दंतेवाड़ा जिले के नीलावाया, सुकमा के पूवर्ती जैसे बूथ शामिल हैं.

यह भी पढ़ेंः छत्तीसगढ़ : नारायणपुर में मतदान केंद्र के पास ब्लास्ट, कोई हताहत नहीं

मतदान के दौरान सुरक्षा व्यवस्था के लिए इस बार 350 कंपनियां आई हैं, जबकि विधानसभा चुनाव में 500 कंपनियों की तैनाती बस्तर में की गई थी. 50 हजार जवान बस्तर में पहले से तैनात हैं. दंतेवाड़ा के श्यामगिरी में दो दिन पहले नक्सली हमले हुए थे. यहां महिलाएं, वृद्ध, युवा मतदाता 4 किमी दूर से पैदल चलकर सुबह 6.30 बजे से ही पहुंचना शुरू हो गए थे. वहीं दंतेवाड़ा के ही संगवारी मतदान केंद्र पर मतदाता सुबह 6.45 बजे से ही लाइन में लग गए.

सुबह 11 बजे तक कोंडागांव में 25.48%, नारायणपुर में 23.97%, दंतेवाड़ा में 22.47%, बीजापुर में 15.82%, बस्तर में 25.96%, जगदलपुर में 29.02%, चित्रकोट में 26.88%, कोंटा में 17.39 फीसदी हुआ है.

यह भी पढ़ेंः दंतेवाड़ा में जहां बीजेपी नेता की हुई थी हत्या वहां 11 बजे तक 60 फीसदी मतदान

बस्तर लोकसभा के अंतर्गत विधानसभा की 8 सीटें आती हैं. इनमें से सात अनूसूचित जनजाति और एक सामान्य के लिए आरक्षित है. इनमें जगदलपुर, कोंडागांव (सुरक्षित), नारायणपुर (सुरक्षित), बस्तर(सुरक्षित), चित्रकूट (सुरक्षित), दंतेवाड़ा (सुरक्षित), बीजापुर (सुरक्षित) और कोंटा (सुरक्षित) शामिल है. इनमें 7 कांग्रेस के पास हैं और केवल एक दंतेवाड़ा सीट पर बीजेपी का कब्जा है.

यह भी पढ़ेंः अमेठी में 'स्‍नाइपर गन' के निशाने पर थे कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, 7 बार देखी गई 'ग्रीन लेजर' की लाइट

बस्तर सीट पर 7 प्रत्याशी अपना भाग्य आजमा रहे हैं. प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला 5 जिलों की 8 विधानसभा क्षेत्रों के 13 लाख 77 हजार 946 मतदाता करेंगे. कुल मतदाताओं में 7 लाख 15 हजार 550 महिलाएं, 6 लाख 62 हजार 355 पुरुष और 41 थर्ड जेंडर मतदाता हैं. मतदान के लिए1880 केंद्र बनाए गए हैं. इसमें 2 सहायक मतदान केंद्र शामिल हैं. इस लोकसभा क्षेत्र में 224 अति संवेदनशील मतदान केंद्र हैं. वहीं 512 संवेदनशील मतदान केंद्र हैं. 

बस्तर लोकसभा सीट पर बीजेपी ने जहां नए चेहरे पर दांव लगाते हुए बैदूराम कश्यप को मैदान में उतारा है, वहीं कांग्रेस ने अपने वर्तमान विधायक दीपक बैज को प्रत्याशी बनाया है. वर्ष 2013 के विधानसभा चुनाव के बाद यह दूसरा मौका होगा, जब एक बार फिर बैदूराम कश्यप और दीपक बैज आमने-सामने होंगे. इससे पहले चित्रकोट विधानसभा क्षेत्र से विधायक रहे बैदूराम को दीपक बैज के सामने हार का सामना करना पड़ा था. आजादी के बाद से लोकसभा चुनावों के दौरान यहां निर्दलियों का झंडा लहराता था. कांग्रेस ने उनके वर्चस्व को तोड़ा और अपना गढ़ बना लिया. बावजूद इसके 20 साल से इस सीट से लगातार कमल ही खिलता आ रहा है. छत्तीसगढ़ के अलग राज्य बनने के बाद हुए तीनों लोकसभा चुनाव में बीजेपी ही यहां से जीती है.

First Published : 11 Apr 2019, 03:04:25 PM

For all the Latest Elections News, Interesting facts News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो