News Nation Logo
Banner

2019 Lok Sabha Election Analysis: क्या 2014 की तरह 2019 में वापसी कर पाएंगे नवीन पटनायक, जानें उड़ीसा का राजनीतिक समीकरण

ओडिशा उन राज्यों में से एक था जहां 2014 में लोकसभा चुनाव के साथ विधानसभा चुनाव भी हुए थे, बीजेडी ने भाजपा और कांग्रेस को फिर से पीछे छोड़ कर 147 सदस्यीय वाली विधानसभा में 117 सीटें जीतने में सफलता प्राप्त की

News Nation Bureau | Edited By : Sushil Kumar | Updated on: 26 Apr 2019, 07:03:01 PM
नवीन पटनायक (फाइल फोटो)

नवीन पटनायक (फाइल फोटो)

ऩई दिल्ली:

लोकसभा चुनाव 2019 : देश में लोकसभा का चुनाव चल रहा है. इस बार सात चरण में वोटिंग होगी. अभी तक तीन चरण संपन्न हो चुकी है. चौथे चरण के लिए वोटिंग 29 अप्रैल को होगी. परिणाम 23 मई को घोषित किए जाएंगे. 6 मई को पांचवें, 12 मई को छठे और 19 मई को सातवें चरण का मतदान होगा. तीसरे चरण में 115 निर्वाचन क्षेत्र, चौथे चरण में 71, पांचवें चरण में 51, छठे चरण में 59 और सातवें चरण में 59 लोकसभा सीट पर मतदान होंगे. 

2019 लोकसभा चुनाव विश्लेषण :

2014 के लोकसभा चुनावों में क्या हुआ था? इस साल क्या होगा? आइए हम ओडिशा राज्य में राजनीतिक परिदृश्य को देखते हैं. नवीन पटनायक के नेतृत्व वाली बीजू जनता दल (बीजद) पिछले 19 साल से उड़ीसा में शासन कर रही है. उड़ीसा में कांग्रेस पार्टी काफ़ी मुश्किलों में रही है जबकि नवीन बाबू की ताकत को चुनौती देने के लिए भाजपा अभी भी कुछ विश्वसनीय चेहरे की तलाश में है. वहीं बीजेपी की ओर से केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान को आगामी ओडिशा विधानसभा चुनाव में मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार बनाने की संभावना है. हालांकि, भाजपा ने धीरे-धीरे कांग्रेस को मुख्य विपक्षी दल और सत्तारूढ़ बीजद के मुख्य चुनौतीकर्ता के रूप में बदल दिया है.

ओडिशा में पहले, दूसरे और तीसरे चरण का मतदान हो गया. लोकसभा के साथ-साथ विधानसभा का भी चुनाव हुआ. आखिरी चरण का मतदान अब 29 अप्रैल को होगा. उस दिन लोकसभा के साथ-साथ विधानसभा के लिए भी मतदान होगा. सिक्किम, आंध्र प्रदेश और अरुणाचल प्रदेश ऐसे राज्य हैं जहां दोनों चुनाव एक साथ हो रहे हैं. 29 अप्रैल को जाजपुर, केंद्रपाड़ा, जगतसिंहपुर, बालासोर, भद्रक और मयूरभंज में मतदान होगा.

2014 के लोकसभा चुनावों में ओडिशा में क्या हुआ था?

2014 के लोकसभा चुनाव में नवीन पटनायक की बीजद ऐसी क्षेत्रीय पार्टी में से एक थी, जिन्होंने नरेंद्र मोदी की लहर के खिलाफ अपना मैदान खड़ा किया. ओडिशा में 2014 के चुनाव 10 और 17 अप्रैल को दो चरणों में हुए थे. राज्य ने लोकसभा में 21 सदस्य भेजे और बीजेडी ने 20 सीटें जीतीं, जबकि भाजपा सुंदरगढ़ की एक ही सीट जीतने में सफल रही. जुएल ओराम ने बीजद के दिलीप कुमार तिर्की को निर्वाचन क्षेत्र से हराया और पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता हेमानंद बिस्वाल को तीसरे पायदान पर पहुंचा दिया. बीजेडी को 94,89,946 वोट मिले, जबकि भाजपा को 46,38,565 वोट मिला. कांग्रेस को भाजपा से अधिक वोट मिले. कांग्रेस ने 55,91,380 वोट हासिल किया.

2014 में ओडिशा विधानसभा चुनाव का परिणाम क्या था?

 ओडिशा उन राज्यों में से एक था जहां 2014 में लोकसभा चुनाव के साथ विधानसभा चुनाव भी हुए थे. बीजद ने भाजपा और कांग्रेस को फिर से पछाड़ दिया. 147 सदस्यीय वाली विधानसभा में 117 सीटें जीतीं. राज्य में बीजेडी को 93,35,159 वोट मिले. भाजपा 17.99 फीसदी के वोट शेयर के साथ 38,74,748 वोट पाने में सफल रही. पार्टी ने विधानसभा में केवल 10 सीटें जीतीं. दूसरी ओर, कांग्रेस ने 25.71 प्रतिशत के वोट शेयर के साथ 16 सीटें जीतीं. पार्टी को 55,35,670 मतदाताओं का समर्थन मिला. विधानसभा और लोकसभा चुनाव दोनों में समान रुझान दिखा, हालांकि, भाजपा ने लोकसभा चुनावों की तुलना में विधानसभा चुनावों में लगभग 4 प्रतिशत कम मतदान किया. 2009 के विधानसभा चुनाव में, बीजेडी 103 सीटों पर सफल रही और कांग्रेस को 27 सीटें मिलीं. बीजद के साथ टूटने के बाद भाजपा केवल 6 सीटों पर सफल रही थी.

2019 में वर्तमान परिदृश्य क्या है?


भाजपा ओडिशा में नवीन पटनायक के विकल्प के रूप में उभरने की पूरी कोशिश कर रही है और पहले ही कांग्रेस को मुख्य विपक्षी दल के रूप में अलग कर चुकी है. 2017 में ओडिशा में पंचायत चुनावों में अपने असाधारण प्रदर्शन के बाद पार्टी को विश्वास मिला. 2012 में भाजपा के पास केवल 36 जिला परिषद सीटें थीं, जो 2017 में बढ़कर 306 हो गईं. सत्तारूढ़ बीजद को 651 सीटों से नीचे गिरने के बाद झटका लगा. 460 के लिए. 2012 में 126 सीटें होने वाली कांग्रेस ने भी 2017 में गिरावट देखी और केवल 66 सीटों पर सिमट गई. पंचायत चुनाव में भाजपा को 32 फीसदी से ज्यादा वोट मिले. कंधमाल लोकसभा और बीजापुर विधानसभा उपचुनाव में भाजपा बीजद के बाद दूसरे स्थान पर रही. हालांकि, पूर्व केंद्रीय मंत्री दिलीप रे और पार्टी से बिजॉय महापात्रा के उतरने से भाजपा की संभावनाएं आहत हो सकती हैं. यह उस पार्टी के लिए चिंताजनक है जिसने 147 विधानसभा सीटों में से 120 पर जीत हासिल करने का लक्ष्य रखा है.

बीजद को भी पार्टी में असंतोष का सामना करना पड़ रहा है और बीजद के प्रमुख नेताओं में से एक बैजयंत 'जय' पांडा को पहले से ही एक दरवाजा दिखाया गया था. नवीन पटनायक 2009 से बीजेपी और कांग्रेस के बीच समानता बनाए रखने के विचार में हैं, जब उनकी पार्टी ने बीजेपी के नेतृत्व वाले एनडीए को छोड़ दिया, लेकिन राज्यसभा के उपसभापति चुनाव में एनडीए के उम्मीदवार हरिवंश नारायण सिंह का समर्थन करने जैसे उनके हालिया कार्यों ने राम का समर्थन किया. राष्ट्रपति पद के लिए नाथ कोविंद और लोकसभा में अविश्वास प्रस्ताव से बाहर होने से भी राजनीतिक हलकों में लहर पैदा हो रही है. पटनायक ने हमेशा 2019 के लोकसभा चुनावों से पहले भाजपा के साथ गठबंधन के बारे में सभी अफवाहों को हवा दी. कांग्रेस ने अपने रुख के लिए पटनायक पर हमला किया और आरोप लगाया कि "दोनों दल एक-दूसरे के साथ हाथ मिला रहे हैं". पार्टी प्रमुख राहुल गांधी ने पटनायक के खिलाफ तीखा हमला किया था और आरोप लगाया था कि उन्हें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा "रिमोट कंट्रोल" किया जा रहा है.

First Published : 26 Apr 2019, 06:32:21 PM

For all the Latest Elections News, Election Analysis News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो