News Nation Logo
Banner

UP में कांग्रेस के 97, बसपा के 72 फीसद प्रत्याशियों की जमानत जब्त

कांग्रेस के बाद बसपा का चुनावी प्रदर्शन बेहद शर्मनाक रहा. बसपा ने सभी 403 सीटों पर चुनाव लड़ा था. यह अलग बात है कि 290 सीटों पर बसपा के प्रत्याशी अपनी जमानत तक नहीं बचा सके.

Written By : मोहित सक्सेना | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 12 Mar 2022, 09:30:34 AM
UP EVM

इस विधानसभा चुनाव में सबसे ज्यादा दुर्गति हुई कांग्रेस की. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

highlights

  • कांग्रेस को मिले 2.4 फीसद वोट और 399 की हुई जमानत जब्त
  • बीजेपी और रालोद के तीन प्रत्याशियों की नहीं बच सकी जमानत
  • अपना दल (एस) के एक भी उम्मीदवार की जमानत नहीं हुई जब्त

लखनऊ:  

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव (Uttar Pradesh Assembly Elections 2022) में अनुमान से इतर परिणाम आए हैं. भारतीय जनता पार्टी (BJP) खासकर सीएम योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) के खिलाफ समाजवादी पार्टी-राष्ट्रीय लोकदल समेत बहुजन समाज पार्टी (BSP) की सारी रणनीतिक बिसात धरी की धरी रह गई. 403 विधानसभा सीटों में से 255 सीटें जीतकर बीजेपी योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में फिर से सरकार बनाने जा रही है. बीजेपी के बाद सपा (SP) 111 सीटों के साथ दूसरी बड़ी पार्टी या मुख्य विपक्षी दल बनकर उभरी है. बीजेपी की सहयोगी अपना दल (एस) को 12, कांग्रेस (Congress) को 2 और बसपा को महज एक सीट पर जीत मिली है. कांग्रेस की तो स्थिति पिछली बार की तुलना में बद से बद्तर हो गई है. आलम यह है कि 399 सीटों पर प्रत्याशी खड़ा करने वाली कांग्रेस को महज 2.4 फीसदी वोट मिले हैं. यही नहीं, 387 सीटों पर कांग्रेस के उम्मीदवारों की जमानत तक जब्त हो गई. कांग्रेस से ज्यादा वोट 2.9 फीसद तो रालोद को मिला है, जो सपा से गठबंधन कर सिर्फ 33 सीटों पर चुनाव लड़ी थी.

बसपा का बुरा हाल
कांग्रेस के बाद बसपा का चुनावी प्रदर्शन बेहद शर्मनाक रहा. बसपा ने सभी 403 सीटों पर चुनाव लड़ा था. यह अलग बात है कि 290 सीटों पर बसपा के प्रत्याशी अपनी जमानत तक नहीं बचा सके. ऐतिहासिक जीत हासिल करने वाली बीजेपी के भी तीन प्रत्याशियों की जमानत जब्त हुई है. बीजेपी ने यूपी की 376 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे थे. सपा के 347 उम्मीदवारों में से 6 की जमानत नहीं बची. बीजेपी की सहयोगी पार्टी अपना दल (सोनेलाल) की एक भी सीट पर जमानत जब्त नहीं हुई. उसने 27 सीटों पर चुनाव लड़ा था. इस कड़ी में समाजवादी पार्टी की सहयोगी एसबीएसपी और अपना दल (कमेरावादी) के 25 में से 8 उम्मीदवारों की जमानत जब्त हो गई. रालोद के भी 3 उम्मीदवार अपनी जमानत नहीं बचा सके.

यह भी पढ़ेंः UP के जाटलैंड में कैसा रहा BJP का प्रदर्शन ? नहीं चला विपक्षी खेमे का दांव

ऐसे होती है जमानत जब्त
जब किसी उम्मीदवार को उसके क्षेत्र के कुल वैध मतों का कम से कम 1/6 वोट भी नहीं मिलता है, तो उसकी जमानत जब्त होती है. इस दशा में लोकसभा चुनाव लड़ रहे सामान्य उम्मीदवारों की 25,000 रुपये और विधानसभा चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों की 10,000 रुपये जमानत राशि जब्त कर ली जाती है. यह राशि चुनाव के लिए पर्चा दाखिल करते समय जमा की जाती है. यूपी में इस बार नोटा का बटन भी खूब दबाया गया. 

First Published : 12 Mar 2022, 09:28:20 AM

For all the Latest Elections News, Assembly Elections News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.