News Nation Logo
Banner

छठा चरण उत्‍तर प्रदेश : इतनी सीटों पर बीजेपी के सामने बड़ी चुनौती बनकर उभरा है गठबंधन, पीएम मोदी के करिश्मे की दरकार

बीजेपी ने 2014 में इन सीटों में से आजमगढ़ को छोड़कर सभी पर कब्जा जमाया था. लेकिन, इस बार इन सीटों पर जीत दर्ज करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के करिश्मे को असर दिखाना होगा

IANS | Edited By : Drigraj Madheshia | Updated on: 08 May 2019, 07:44:20 PM

नई दिल्‍ली:

उत्तर प्रदेश में 12 मई को होने वाले अगले चरण के चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) को गठबंधन की सबसे कठिन चुनौती का सामना करना पड़ेगा क्योंकि चुनावी गणित इस चरण की लगभग सभी 14 सीटों पर समाजवादी पार्टी (सपा) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) गठबंधन के पक्ष में बैठता है.बीजेपी ने 2014 में इन सीटों में से आजमगढ़ को छोड़कर सभी पर कब्जा जमाया था. लेकिन, इस बार इन सीटों पर जीत दर्ज करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के करिश्मे को असर दिखाना होगा क्योंकि गठबंधन यहां मजबूत विकेट पर खेल रहा है, कम से कम कागजों पर तो यही प्रतीत होता है.

यह भी पढ़ेंः इस बार देर से मिलेंगे लोकसभा परिणाम, जानें कैसे जिम्मेदार हैं विपक्षी दल

फुलपूर में, जहां से गठबंधन ने अपने प्रयोग की शुरुआत की थी, बीजेपी को यहां पहले ही गठबंधन की मजबूती का एहसास हो चुका है. 2018 उपचुनाव में पार्टी को हार का सामना करना पड़ा था. अगर सपा व बसपा उम्मीदवारों को 2014 में मिले वोट को देखें और अगर दोनों पार्टियों के पारंपरिक मतदाताओं ने उनका साथ नहीं छोड़ा तो बीजेपी संभवत: प्रतापगढ़ को छोड़कर सभी 14 सीटों पर हारने की स्थिति में है.

यह भी पढ़ेंः 'चौकीदार चोर है' पर राहुल गांधी ने फिर बिना शर्त मांगी माफी, सुप्रीम कोर्ट से बोले- अब मामले को बंद कर दीजिए

बीजेपी इन सीटों पर काफी हद तक प्रधानमंत्री मोदी के वोट को अपने पक्ष में करने की शक्ति पर निर्भर है, क्योंकि उनका धुआंधार चुनाव प्रचार पारंपरिक वोट बैंक की सीमाओं को तोड़ने वाला साबित हो सकता है.पांच चरण के चुनाव के बाद उत्तर प्रदेश की 80 में से 53 सीटों पर उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला ईवीएम में कैद हो चुका है.

यह भी पढ़ेंः अब तक की वोटिंग क्‍या कर रही इशारा, मोदी रहेंगे या जाएंगे ऐसे समझें

आजमगढ़ से अखिलेश यादव का सामना प्रसिद्ध भोजपुरी कलाकार दिनेश लाल यादव निरहुआ से है. इस सीट पर 2014 में मुलायम सिंह यादव ने जीत दर्ज की थी.इस चरण में बीजेपी नेता मेनका गांधी के भी भाग्य का फैसला होगा. वह इस बार सुलतानपुर से चुनाव लड़ रही हैं जहां से उनके बेटे वरुण गांधी मौजूदा सांसद हैं.

छठे चरण के चुनाव के अंतर्गत सीटों का विस्तृत विश्लेषण इस प्रकार है :

श्रावस्ती (2014)

विजेता : ददन मिश्रा : बीजेपी : वोट प्राप्त 3,45,964

अतीक अहमद : सपा : 2,60,051

लालजी वर्मा : बसपा : 1,94,890

सपा और बसपा मिलाकर : 4,54,890

फायदा : गठबंधन को

2019 में प्रत्याशी

  • ददन मिश्रा : बीजेपी
  • धीरेंद्र प्रताप सिंह : संप्रग
  • राम शिरोमणी वर्मा : गठबंधन

डुमरियागंज(2014)

विजेता : जगदंबिका पाल : बीजेपी : 2,98,845

माता प्रसाद पांडे : सपा : 1,74,778

मुहम्मद मुकीम : बसपा : 1,95,257

फायदा : गठबंधन

2019 में प्रत्याशी

  • जगदंबिका पाल : बीजेपी
  • आफताब आलम : गठबंधन

सुलतानपुर (2014)

विजेता : फिरोज वरुण गांधी : बीजेपी : 4,10,348

पवन पांडे : बसपा : 2,31,446

शकील अहमद : सपा : 2,28,114

सपा और बसपा मिलाकर : 4,59,590

फायदा : गठबंधन

2019 में प्रत्याशी

  • मेनका गांधी : बीजेपी
  • संजय सिंह : संप्रग
  • चंद्रभद्र सिंह : गठबंधन
  • कमला यादव : पीडीए

प्रतापगढ़ (2014)

विजेता : कुंवर हरिवंश सिंह : बीजेपी : 3,75,789

आसिफ निजामुद्दीन : बसपा : 2,07,567

प्रमोद कुमार सिंह पटेल: सपा : 1,20,107

सपा और बसपा को मिलाकर : 3,27,674

फायदा : बीजेपी

लालगंज (2014)

विजेता : नीलम सोनकर : बीजेपी : 3,24,016

डॉ. बलिराम-बसपा : 2,33,971

बेचाई सरोज : सपा : 2,60,930

सपा और बसपा को मिलाकर : 4,94,901

फायदा: गठबंधन

2019 में प्रत्याशी

  • नीलम सोनकर : बीजेपी
  • पंकज मोहन सरकार : संप्रग
  • संगीता : गठबंधन
  • हेमराज पासवान : पीडीए

आजमगढ़ (2014)

विजेता : मुलायम सिंह यादव : सपा : 3,40,306

रामाकांत यादव : बीजेपी : 2,77,102

शाह आलम : बसपा : 2,66,528

सपा और बसपा को मिलाकर : 6,06,834

फायदा : गठबंधन

2019 में प्रत्याशी

  • दिनेश लाल यादव निरहुआ : बीजेपी
  • अखिलेश यादव : गठबंधन

जौनपुर (2014)

विजेता : कृष्ण प्रताप : बीजेपी-3,67,149

पारसनाथ यादव : सपा-1,80,003

सुभाष पांडेय : बसपा-2,22,0839

सपा और बसपा को मिलाकर : 4,00,842

फायदा : गठबंधन

2019 में प्रत्याशी

  • के.पी. सिंह : बीजेपी
  • देवव्रत मिश्रा : संप्रग
  • श्याम सिंह यादव : गठबंधन
  • संगीता यादव : पीडीए

मछलीशहर (2014)

विजेता : राम चरित्र निषाद - बीजेपी : 4,38,210

तूफानी : सपा-1,91,387

भोलानाथ : बसपा - 2,66,055

सपा और बसपा को मिलाकर : 4,57,442

फायदा : गठबंधन

2019 में प्रत्याशी

  • वीपी सरोज : बीजेपी
  • त्रिवेणी राम : गठबंधन

भदोही (2014)

विजेता वीरेंद्र सिंह : बीजेपी-4,03,695

सीमा मिश्रा : सपा-2,38,712

राकेश धर त्रिपाठी : बसपा- 2,45,554

फायदा : गठबंधन

2019 में प्रत्याशी

  • रमेश बिंद-बीजेपी
  • रमाकांत यादव- संप्रग
  • रंगनाथ मिश्रा-गठबंधन

बस्ती (2014)

विजेता हरीश द्विवेदी : बीजेपी- 3,57,680

बृजकिशोर सिंह : सपा-3,24,118

रामप्रसाद चौधरी : बसपा - 2,83,747

सपा और बसपा को मिलाकर : 6,07,865

फायदा : गठबंधन

2019 में प्रत्याशी

  • हरीश द्विवेदी : बीजेपी
  • राजकिशोर सिंह : संप्रग
  • रामप्रसाद चौधरी : गठबंधन
  • रामकेवल यादव : पीडीए

संतकबीर नगर (2014)

विजेता : शरद त्रिपाठी : बीजेपी-3,48,892

भीष्म शंकर उर्फ कौशल तिवारी : बसपा-2,50,914

धालचदं्र यादव : सपा - 2,40,169

फायदा : गठबंधन

2019 में प्रत्याशी

प्रवीण कुमार निषाद : बीजेपी

परवेज खान : संप्रग

भीष्म शंकर उर्फ कौशल तिवारी : गठबंधन

इलाहाबाद (2014)

विजेता श्याम चरण गुप्ता : बीजेपी- 3,13,772

केशरी देवी : बसपा - 1,62,073

कुंवर रेवती रमण सिंह : सपा - 2,51,763

सपा और बसपा को मिलाकर : 4,13,836

फायदा : गठबंधन

2019 में प्रत्याशी

  • रीता बहुगुणा : बीजेपी
  • राजेंद्र सिंह पटेल : गठबंधन
  • योगेश शुक्ला : संप्रग

अंबेडकर नगर (2014)

विजेता : हरि ओम पांडेय : बीजेपी-4,32,104

राकेश पांडेय : बसपा-2,92,675

राममूर्ति वर्मा : सपा-2,34,467

सपा और बसपा को मिलाकर : 5,22,142

फायदा : गठबंधन

2019 में प्रत्याशी

  • मुकुट बिहारी वर्मा : बीजेपी
  • उम्मेद सिंह निषाद : संप्रग
  • रितेश पांडेय : गठबंधन
  • प्रेम निषाद : पीडीए

फूलपुर (2014)

विजेता : केशव प्रसाद मौर्या : बीजेपी : 5,03,564

कपिल मुनी करवारिया : बसपा : 1,63,710

धर्म राज सिंह पटेल : 1,95,082

सपा बसपा को मिलाकर : 3,58,792

फायदा : बीजेपी

2019 में प्रत्याशी

  • केशरी पटेल : बीजेपी
  • पंकज निरंजन : संप्रग
  • पंधेरी यादव : गठबंधन
  • प्रिया सिंह : पीडीए

First Published : 08 May 2019, 07:44:20 PM

For all the Latest Elections News, Election Analysis News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.