News Nation Logo
दिल्ली में कुतुब मीनार को राष्ट्र ध्वज के रंगों से रोशनकर मनाया गया 100 करोड़ COVID टीकाकरण का जश्न 100 करोड़ COVID टीकाकरण की ऐतिहासिक उपलब्धि पर चार मीनार को राष्ट्रीय ध्वज के रंगों से रोशन किया गया देश भर में 100 स्मारकों को राष्ट्रीय ध्वज के रंगों में रोशन करने की भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण की पहल NCB ने अनन्या पांडे से करीब 2 घंटे तक पूछे सवाल, कल भी होगी पूछताछ हम एक साल के अंदर 1 लाख भर्तियां और करेंगे: शिवराज सिंह चौहान आर्यन खान की न्यायिक हिरासत फिर बढ़ी आर्यन को अब 30 अक्टूबर तक रहना होगा जेल में पश्चिम बंगाल की CM ममता बनर्जी का गोवा दौरा 28 अक्टूबर को भारत पहली बार दुनिया के शीर्ष 25 रक्षा निर्यातक देश की सूची में शामिल: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद किसानों ने दिल्ली-गाजियाबाद बॉर्डर से टेंट हटाए एनएच 24 खुलने से आम जनता को मिली राहत मुर्गामंडी जाने वाली सड़क को किसान प्रदर्शनकारियों ने किया खाली उत्तराखंड के राज्यपाल, मुख्यमंत्री के साथ देवभूमि में आई आपदा का हवाई निरीक्षण किया: अमित शाह आपदा पर गृहमंत्री अमित शाह ने राज्य और केंद्र सरकार के उच्चस्तरीय अधिकारियों के साथ मीटिंग की भारत में पिछले 24 घंटों में कोरोना के 18,454 नए मामले आए और 160 लोगों की कोरोना से मौत हुई किसान सड़कों को अनिश्चित काल के लिए अवरुद्ध नहीं कर सकते: सुप्रीम कोर्ट किसानों को विरोध करने का अधिकार: सुप्रीम कोर्ट भिंड में भारतीय वायुसेना का ट्रेनर विमान क्रैश, हादसे में पायलट घायल: भिंड एसपी मनोज कुमार सिंह भारत ने वैक्सीन मैत्री के माध्यम से दुनिया के देशों में मदद पहुंचाने का काम किया: अनुराग ठाकुर दुनिया को भारत ने दिखाया है कि बड़े से बड़ा लक्ष्य भी प्राप्त किया जा सकता है: अनुराग ठाकुर 100 करोड़ वैक्सीनेशन डोज़ का आंकड़ा पार होने पर लोगों का आभार: केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर भारत में वैक्सीनेशन का आंकड़ा 100 करोड़ के पार, देशभर में मन रहा जश्न निजी भागीदारी से भी मेडिकल कॉलेज बन रहे हैं - पीएम मोदी FDA ने मॉडर्ना और जॉनसन एंड जॉनसन के मिक्‍स एंड मैच टीकाकरण को दी मंजूरी उत्तराखंड में भारी बारिश से अब तक 54 लोगों की मौत, 19 जख्मी और 5 लापता डोनाल्ड ट्रंप ने 'TRUTH Social' नामक अपना खुद का सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म लॉन्च किया

अंतरिक्ष में मानव उड़ान को हुए 60 साल, जानें यूरी गागरिन के बारे में

अप्रैल दुनिया के सबसे बड़े ऐतिहास पलों का गवाह रहा है. इसी महीने में मनुष्य अंतरिक्ष की दुनिया को देख पाया था. आज से ठीक 60 साल पहले 12 अप्रैल 1961  के दिन सोवियत संघ के यूरी गागरिन अंतरिक्ष में अपनी पहुंच दर्ज कराने वाले पहले इंसान बने थे.

News Nation Bureau | Edited By : Vineeta Mandal | Updated on: 12 Apr 2021, 10:40:02 AM
yuro

Cosmonaut Yuri Gagarin (Photo Credit: (फाइल फोटो))

नई दिल्ली:

अप्रैल (April) दुनिया के सबसे बड़े ऐतिहास पलों का गवाह रहा है. इसी महीने में मनुष्य अंतरिक्ष की दुनिया को देख पाया था. आज से ठीक 60 साल पहले 12 अप्रैल 1961  के दिन सोवियत संघ के यूरी गागरिन (Cosmonaut Yuri Gagarin ) अंतरिक्ष में अपनी पहुंच दर्ज कराने वाले पहले इंसान बने थे. बता दें कि रूस में हर साल आज का दिन कॉस्मोनाटिक्स डे (Cosmonautics Day) के रूप में मनाई जाती है. गागरिन की ऐतिहासिक उड़ान आज के समय में हर किसी के लिए एक मिसाल है. बताया जाता है कि जब यूरी ने अंतरिक्ष में उड़ान भरी थी तो सोवियत के वैज्ञानिकों को डर था कि वो वहां भार शून्यता की स्थिति का सामना करने पर बेहोश हो सकते हैं. लेकिन हुआ बिल्कुल इसके विपरित, जब गागरिन अतंरिक्ष में पहुंचे तो वो वहां भारशून्यता का आनंद लेते नजर आए. उन्होंने अंतरिक्ष से धरती पर मैसेज भेजा कि उन्हें भारशून्यता बहुत अच्छी लग रही है. इस तरह यूरी गागरीन ने दुनिया के सामने अपनी बहादुरी की मिसाल पेश की.

और पढ़ें: NASA के मार्स हेलिकॉप्टर की लॉन्चिंग में देरी, 14 अप्रैल को भरेगा उड़ान

27 मार्च 1968 को यूरी गागरिन ने दुनिया को अलविदा कह दिया था. उनकी मौत कैसे हुई ये लंबे समय तक एक रहस्य बना रहा था. पहले बताया जाता था कि उन्हें एलियंस ने मार दिया है. लेकिन बाद में कहा गया कि उनकी मौत मिग फाइटर विमान उड़ाते समय क्रैश होने से हुई. रूसी सरकार ने हमेशा मौत के कारणों को छुपा कर रखा. लेकिन यूरी के साथी और पहली बार स्पेस वॉक करने वाले ऐलेक्से लिनोव ने जांच के उन दस्तावेजों को सार्वजनिक किया, जिनमें उनकी मौत का सही कारण था. ये दस्तावेज क्रेमलिन में सीक्रेट तौर पर रखे हुए थे. उनकी मौत जेट के खराब मौसम में फंस जाने से हुई.

लिनोव ने बताया कि यूरी जब मिग उड़ा रहे थे, तभी एक दूसरा फाइटर प्लेन उनके विमान के इतने करीब आ गया कि उन्होंने बचने के लिए जब अपने विमान के साथ गोता लगाया तो वे बादलों से टकरा गए. विमान चकराने लगा. जमीन पर आ गिरा. इस दौरान उनके विमान की स्पीड 750 किमी प्रति घंटा थी.

79 साल के लिनोव ने बताया कि वे 20 साल से यूरी की मौत की रिपोर्ट को सार्वजनिक करना चाहते थे लेकिन उन्हें सरकार इजाजत नहीं दे रही थी. उन्होंने कहा कि सरकार ने आखिरकार ये मौका दिया कि लोगों को बताया  जाए कि एक हीरो की मौत कैसे हुई.  लिनोव के मुताबिक, यूरी शानदार पायलट थे. जब उनकी मौत हुई तब वे कॉस्मोनेट ट्रेनिंग सेंटर के डिप्टी ट्रेनिंग डायरेक्टर थे.

जांच में पता चला कि एस यू फाइटर यूरी के प्लेन से महज 50 किमी. दूर था. इस समय यूरी के विमान की गति 750 किमी प्रति घंटा थी. ऐसे में सिर्फ 55 सेकेंड में ही यूरी का विमान हादसे का शिकार हो जाता. जैसे ही एस यू विमान यूरी के नजदीक आया, वैसे ही विमान को झटका लगा. वो गोता खाकर गहरे बादलों से टकरा गया. इसके बाद विमान की टेल तेजी से घूमने लगी. जिसे यूरी के लिए संभालना असंभव हो गया. फिर विमान जमीन पर गिर गया.

First Published : 12 Apr 2021, 10:37:24 AM

For all the Latest Education News, School News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो