News Nation Logo
दिल्ली के राजीव गांधी अस्पताल में फ्री डायलिसिस बंद पीपीपी मॉडल का है डायलिसिस सेंटर पंजाब के पूर्व सीएम कैप्टन अमरिंदर ने हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर से की मुलाकात 12 देशों के मुसाफिरों के लिए गाइडलाइन्स जारी ओमीक्रोन पर DDMA की हाईलेवल मीटिंग अगले आदेश तक दिल्ली में निर्माणकार्य पर रोक निर्माण से जुड़े मजदूरों को सरकारी मदद दी जाएगी दिल्ली में पब्लिक ट्रांसपोर्ट बढ़ाया जाएगा ओमीक्रोन से निपटने के लिए हम पूरी तरह तैयार: मनीष सिसोदिया संसद के दोनों सदनों से कृषि कानून वापसी बिल पास कृषि कानूनों की वापसी का बिल पारित होना जान गंवाने वाले किसानों को श्रद्धांजलि है: राकेश टिकैत एमएसपी समेत अन्य मुद्दे लंबित रहने के कारण विरोध जारी रहेगा: राकेश टिकैत हंगामे के बीच लोकसभा में कृषि कानून वापसी बिल पास दक्षिण अफ्रीका से महाराष्ट्र लौटा शख्स कोरोना पॉजिटिव आम आदमी पार्टी नहीं होगी विपक्षी दलों की बैठक में शामिल

मोदी सरकार के पोर्टल पर 1 करोड़ से ज्यादा बेरोजगारों ने लगाई नौकरी की गुहार

मोदी सरकार (Modi Government) के जॉब पोर्टल (Job Portal) पर एक करोड़ से ज्यादा बेरोजगारों ने नौकरी की गुहार लगाई है. इसके जवाब में अब तक मोदी सरकार ने 67.99 लाख नौकरियों की सूचना पोर्टल पर दी है.

News Nation Bureau | Edited By : Kuldeep Singh | Updated on: 08 Mar 2020, 11:23:11 AM
Job

सरकारी नौकरी (Photo Credit: प्रतीकात्मक फोटो)

नई दिल्ली:

मोदी सरकार (Modi Government) के जॉब पोर्टल (Job Portal) पर एक करोड़ से ज्यादा बेरोजगारों ने नौकरी की गुहार लगाई है. इसके जवाब में अब तक मोदी सरकार ने 67.99 लाख नौकरियों की सूचना पोर्टल पर दी है. इनमें से कितनी नौकरियां पंजीकृत बेरोजगारों को मिलीं, इसका आंकड़ा सरकार के पोर्टल पर उपलब्ध नहीं है. श्रम एवं रोजगार मंत्री संतोष गंगवार पूर्व में लोकसभा में हुए एक सवाल के जवाब में स्पष्ट कर चुके हैं कि नेशनल करियर सर्विस(एनसीएस) पोर्टल के जरिए कितने लोगों को नौकरी मिली, इसके आंकड़े नहीं रखे जाते, बल्कि इस पोर्टल पर रजिस्टर्ड वैकेंसी और पंजीकृत बेरोजगारों से जुड़े आंकड़े रहते हैं.

यह भी पढ़ेंः दिल्ली दंगा पीड़ितों को मुआवजे के लिए दिखाने होंगे कागजात, कागज दिखाने का ही कर रहे थे विरोध

मोदी सरकार ने नौकरियों के लिए दर-दर भटकने वाले बेरोजगारों और अच्छे कर्मचारियों की तलाश में लगे संस्थानों को एक प्लेटफॉर्म पर लाने के लिए 2015 में खास पहल की थी. इसके लिए श्रम एवं रोजगार मंत्रालय ने नेशनल करियर सर्विस पोर्टल का प्लेटफॉर्म लांच किया था. यह ऐसा पोर्टल है, जिस पर बेरोजगार अपनी शैक्षिक आदि योग्यता की जानकारी देते हुए प्रोफाइल बना सकते हैं. वहीं नौकरी देने वाली कंपनियां भी यहां रजिस्ट्रेशन कराती हैं. कोई भी पंजीकृत बेरोजगार क्लिक कर अपने लायक उपलब्ध नौकरियों और संस्थानों की जानकारी ले सकता है.

यह भी पढ़ेंः गुजरात के कच्छ में पकड़े गए 4 पाकिस्तानी जासूस, करते थे सैन्य ठिकानों की जासूसी

वर्ष 2015 से अगर अब तक इस पोर्टल पर नजर डालें तो दावेदारों की तुलना में नौकरियों के सृजन की स्थिति संतोषजनक नहीं है. पोर्टल बनने के पहले साल यानी 2015-16 में कुल एक लाख 47 हजार 780 नौकरियों की सूचना इस पोर्टल पर जारी की गई. जबकि उस साल 32 लाख 32 हजार 916 बेरोजगारों ने नौकरी मांगी. पहले साल नौकरी देने वालीं सिर्फ 559 कंपनियां इस पोर्टल से जुड़ीं.

अगले साल पोर्टल के बारे में और जानकारी हुई तो बेरोजगारों की संख्या बढ़नी शुरू हुई. 2016-17 में 1433075 वैंकेसी जारी हुईं, वहीं बेरोजगारों की तादाद बढ़कर 44,73,989 हो गई. इसी तरह 2017-18 में जहां 5251432 बेरोजगारों ने नौकरी मांगी, वहीं उनके लिए 23,54,047 नौकरियां उपलब्ध रहीं. 2018-19 में बेरोजगारों का आंकड़ा 85,41,273 तक पहुंच गया, जबकि नौकरियों का आंकड़ा 40,41,848 ही रहा. वहीं 2019-20 में बेरोजगारों का आंकड़ा एक करोड़ नौ लाख 87 हजार 331 हो गया, जबकि नौकरियों की संख्या 67,99,117 रही.

यह भी पढ़ेंः दिल्ली हिंसा: भागने में शाहरुख की मदद करने वाला मादक पदार्थ तस्कर UP में गिरफ्तार

अगर एक्टिव जॉब सीकर्स और एक्टिव वैंकेसीज की बात करें तो हालत और भी खराब है. इस वक्त एक करोड़ चार लाख 54 हजार 808 बेरोजगार हैं, जिनके लिए सिर्फ तीन लाख 26 हजार 308 वैंकेंसीज उपलब्ध उपलब्ध हैं. अगर नौकरी उपलब्धता की बात करें, तो कर्नाटक में सर्वाधिक 45,764 नौकरियां उपलब्ध हैं तो महाराष्ट्र 42,506 नौकरियों के साथ दूसरे स्थान पर है. पश्चिम बंगाल में 40,417, उत्तर प्रदेश में 30,428, गुजरात में 20,081, मध्य प्रदेश में 13,739 नौकरियां इस पोर्टल पर उपलब्ध हैं. जम्मू-कश्मीर में 274 नौकरियां हैं. फिलहाल तीन लाख से ज्यादा उपलब्ध जॉब में महज 21,334 सरकारी नौकरियां हैं, वहीं 23,010 रिटायर्ड सैनिकों के लिए, वहीं मात्र 4986 नौकरियां महिलाओं के लिए हैं. दिव्यांग लोगों के लिए 208, अप्रेंटिसशिप के लिए 347 हैं.

यह भी पढ़ेंः घंटों पूछताछ के बाद यस बैंक के संस्थापक राणा कपूर को ईडी ने किया गिरफ्तार

श्रम एवं रोजगार मंत्रालय से जुड़े एक अधिकारी ने आईएएनएस से कहा, "नेशनल करियर सर्विस प्लेटफॉर्म के जरिए बेरोजगारों को समय से उनके लायक सरकारी और प्राइवेट सेक्टर की नौकरियों की सूचना दी जाती है. इस महत्वाकांक्षी पोर्टल को लेकर लोगों को जागरूक किया जा रहा है. कंपनियों को भी पोर्टल से जुड़ने के लिए प्रेरित किया जाता है. यही वजह है कि समय के साथ बेरोजगारों का रजिस्ट्रेशन और नौकरियों की सूचना इस पोर्टल पर बढ़ी है."

First Published : 08 Mar 2020, 11:23:11 AM

For all the Latest Education News, Jobs News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.