News Nation Logo
Banner

Google ने Doodle बनाकर Leap Year को किया Celebrate

Google ने Doodle बनाकर Leap Year को Celebrate किया है. लीप ईयर अपने आप में एक बड़ा ही खास होता है. जानें इसके बारे में रोचक तथ्य.

News Nation Bureau | Edited By : Vikas Kumar | Updated on: 29 Feb 2020, 07:29:28 AM
Google Doodle

Google Doodle (Photo Credit: फाइल फोटो)

highlights

  • Google ने Leap Year पर डेडिकेट किया खास Doodle .
  • 4 साल में 1 बार आता है लीप ईयर. 
  • लीप ईयर में फरवरी में होते हैं 29 दिन. 

नई दिल्ली:

Google ने Doodle बनाकर Leap Year को Celebrate किया है. लीप ईयर अपने आप में एक बड़ा ही खास होता है. इसमें फरवरी के महीने में 28+1 का महीना होता है यानी कि अगर आपकी शादी या आपका बर्थ डे 29 फरवरी को आता है तो आपको इसे सेलिब्रेट करने के लिए 4 साल का इंतजार करना पड़ेगा. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि दुनियाभर में सबसे ज्यादा इस्तेमाल किए जाने वाले Gregorian Calender के मुताबिक, हर 4 साल में 1 अतिरिक्त दिन जोड़ा जाता है. आसान शब्‍दों में जानें तो जिस साल को 4 से भाग देने पर शेष जीरो आता हो, वो लीप ईयर होगा, लेकिन सिर्फ वही शताब्‍दी वर्ष लीप ईयर होगा, जो 400 के अंक से पूरी तरह विभाजित हो जाए. इस हिसाब से साल 2000 लीप ईयर था, लेकिन 1900 लीप ईयर नहीं था.

यह भी पढ़ें: देशद्रोह का केस दर्ज होने पर कन्हैया कुमार ने केजरीवाल सरकार का किया धन्यवाद, कहा- सत्यमेव जयते

होते है 366 दिन
जो साल लीप ईयर कहलाता है, उसमें सबसे पहले एक लीप डे जुड़ा होता है. यह दिन फरवरी महीने में जुड़ता है, जिससे यह महीना 29 दिन का हो जाता है. यानि पूरा साल के दिनो में एक दिन एक्‍स्‍ट्रा हो जाता है, जिससे लीप ईयर में 365+1 यानि 366 दिन होते हैं. साल 2000 और फिर उसके बाद से 21वीं सदी में हर चौथा साल लीप ईयर रहा है. साल 2020 लीप ईयर है यानि अगला लीप ईयर 2024 होगा, उसके बाद 2028.

1 दिन जोड़ने के पीछे का कारण
लीप ईयर 366 दिन का होने के कारण किसी सामान्‍य वर्ष की तुलना में 1 दिन यानि 24 घंटे लंबा होता है. हम सभी यह जानते और मानते हैं कि धरती सूर्य का पूरा चक्‍कर 365 दिन में लगती है, लेकिन सच यह है कि धरती का खगोलीय वर्ष 365.25 दिन का होता है. यानि धरती 365 दिन और 6 घंटे में सूरज का एक चक्‍कर पूरा करती है.

यह भी पढ़ें: 1992 में खून से लाल हुआ था सीलमपुर, उपद्रवियों को मारने के लिए रात भर दफ्तर में डटा रहा आईपीएस

ऐसे में कैलेंडर सिस्‍टम का बैलेंस न बिगड़े और गर्मी-सर्दी के महीने आगे पीछे न हो जाएं, इसके लिए चौथे साल में एक एक्‍स्‍ट्रा दिन जोड़ा जाता है, ताकि कैलेंडर वर्ष और खगोलीय वर्ष समान रूप से चलें.

First Published : 29 Feb 2020, 07:25:50 AM

For all the Latest Education News, Board Results News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

×