News Nation Logo

कमजोर ग्रोथ के बावजूद RBI से नहीं मिलेगी राहत, नहीं होगी ब्याज दरों में कटौती: रिपोर्ट

News Nation Bureau | Edited By : Abhishek Parashar | Updated on: 29 Sep 2017, 05:19:40 PM
भारतीय रिजर्व बैंक (फाइल फोटो)

highlights

  • अगली मॉनेटरी पॉलिसी में आरबीआई के ब्याज दरों में बदलाव करने की कोई संभावना नहीं है
  • जीडीपी (सकल घरेलू उत्पाद) में आई गिरावट के बाद ब्याज दरों में कटौती की मांग उठने लगी है
  • पहली तिमाही में देश की जीडीपी कम होकर 5.7 फीसदी हो गई है, जो पिछले तीन सालों का न्यूनतम स्तर है

नई दिल्ली:  

अगली मॉनेटरी पॉलिसी में भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के ब्याज दरों में बदलाव करने की कोई संभावना नहीं है।

हालांकि चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में जीडीपी (सकल घरेलू उत्पाद) में आई गिरावट के बाद ब्याज दरों में कटौती की मांग उठने लगी है। पहली तिमाही में देश की जीडीपी कम होकर 5.7 फीसदी हो गई है, जो पिछले तीन सालों का न्यूनतम स्तर है।

एसबीआई की रिपोर्ट के मुताबिक 4 अक्टूबर को होने वाली आरबीआई की बैठक में ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया जाएगा। कमजोर पड़ती अर्थव्यवस्था, महंगाई में धीरे-धीरे आ रही तेजी और वैश्विक अनिश्चितता को लेकर बन रही चुनौती की वजह से आरबीआई के ब्याज दरों में कटौती करने की संभावना कम ही है।

और पढ़ें: नोटबंदी के बाद डिजिटल भुगतान से लगी बैंकों को चपत, 3800 करोड़ रुपये नुकसान का अनुमान

इससे पहले अगस्त की समीक्षा बैठक में रिजर्व बैंक ने रीपो दर में 25 आधार अंकों की कटौती करते हुए इसे घटाकर 6 फीसदी कर दिया था। समीक्षा समिति की बैठक 4 अक्टूबर को होनी है।

चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में देश की जीडीपी (सकल घरेलू उत्पाद) 5.7 फीसदी हो चुकी है। कमजोर पड़ती आर्थिक रफ्तार को लेकर इंडस्ट्री ब्याज दरों में कटौती की मांग कर रहा है।

रिपोर्ट में इस बात का जिक्र किया गया है कि देश की अर्थव्यवस्था के सामने सबसे बड़ी चुनौती अनिश्चित वैश्विक माहौल और कमजोर ग्रोथ रेट है।

और पढ़ें: यशवंत सिन्हा के बेटे जयंत सिन्हा की सफाई, बोले- 'न्यू इकोनॉमी फॉर न्यू इंडिया'

First Published : 29 Sep 2017, 05:18:04 PM

For all the Latest Business News, Economy News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.