News Nation Logo
Banner

BJP नेता ने अपनी ही पार्टी के नेता को दिखाई रिवॉल्वर, जानिए क्या है कारण

शनिवार दोपहर करीब 12 बजे पूंजीलाल गायरी अपने अन्य साथियों के साथ कार में सवार होकर पारसमल जैन के घर हिसाब के लिए पहुंचे. इस दौरान पूंजीलाल गायरी ने पारसमल जैन को हिसाब नहीं करने की बात करते हुए आवेश में आकर पारसमल की कनपटी पर रिवॉल्वर तान दी.

News Nation Bureau | Edited By : Ravindra Singh | Updated on: 14 Apr 2019, 10:44:01 AM
फाइल फोटो

फाइल फोटो

नई दिल्ली:

राजस्थान के बांसवाड़ा जिले में एक ऐसी घटना सामने आई है जिसके बारे में जानकर आप हैरान रह जाएंगे. बांसवाड़ा जिले के खमेरा थाना क्षेत्र के घाटोल में बीजेपी जिला महामंत्री ने अपनी ही पार्टी के मंडल अध्यक्ष पर पिस्तौल तान दी. बताया जा रहा है कि व्यापार में हिसाब-किताब को लेकर दोनों में बहस होने लगी. इस बीच बीजेपी जिला महामंत्री पूंजीलाल ने अपनी ही पार्टी के मंडल अध्यक्ष पारसमल पर रिवॉल्वर तान दी.

भाजपा महामंत्री ने मंडल अध्यक्ष पर तानी रिवॉल्वर
आपको बता दें, पूंजीलाल गायरी के साथ पारसमल जैन की पार्ट्नरशिप में पाशर्वनाथ बोरवैल नाम की फर्म संचालित है. फर्म के हिसाब को लेकर पूंजीलाल और पारसमल जैन के बीच पिछले कई दिनों से तनातनी चल रही थी. शनिवार दोपहर करीब 12 बजे पूंजीलाल गायरी अपने अन्य साथियों के साथ कार में सवार होकर पारसमल जैन के घर हिसाब के लिए पहुंचे. इस दौरान पूंजीलाल गायरी ने पारसमल जैन को हिसाब नहीं करने की बात करते हुए आवेश में आकर पारसमल की कनपटी पर रिवॉल्वर तान दी.

आस-पड़ोस के लोगों ने किया बीच-बचाव
वहीं, घर वालों के शोर-शराबे की आवाज सुनकर आस-पड़ोस के लोग दौड़े और पारसमल को पूंजीलाल गायरी से छुड़वाया. सूचना पर नरवाली चौकी पुलिस मौके पर पहुंची और पूंजीलाल गायरी को पकड़कर नरवाली चौकी लेकर पहुंची. उधर, इसकी सूचना मिलने पर बड़ी संख्या में ग्रामीण नरवाली चौकी पहुंचे और पूंजीलाल गायरी पर कठोर कार्रवाई करने की मांग करते हुए पुलिस चौकी का घेराव कर दिया. ग्रामीणों का हंगामा बढ़ता देख घाटोल सीओ ताराराम भी मौके पर पहुंचे.

चुनावी माहौल में हथियार जब्त ना होने के चलते पुलिस पर उठे सवाल
चुनावी माहौल में बीजेपी नेता के पास हथियार पाया जाना आचार संहिता का उल्लंघन है, चुनावी घोषणा के बाद भी नेताओं के हथियार नहीं जब्त हुए.यह पुलिस पर भी सवाल खड़े कर रही है. एक तरफ जहां आचार संहिता लगी हुई है तो दूसरी ओर नेता हथियार लेकर घूम रहे हैं. सवाल उठ रहा है कि अगर पूंजीलाल गायरी के पास लाइसेंसधारी पिस्तौल थी तो अब तक पुलिस ने जब्त क्यों नहीं की और अगर लाइसेंसधारी पिस्टल थाने में जमा हो गई तो दूसरी पिस्तौल कहां से आई. सवाल ये भी है कि घाटोल और नरवाली के बीच 18 किमी. की दूरी है. ऐसे में भाजपा जिला महामंत्री की कार की चेकिंग क्यूं नहीं हो पाई. यह जांच का विषय है.

First Published : 14 Apr 2019, 10:43:57 AM

For all the Latest Crime News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो