News Nation Logo
Banner

बेंगलुरु: IT अधिकारी के बेटे की अपहरण के बाद हत्या, 4 दोस्त गिरफ्तार, 5वें की तलाश जारी

इनकम टैक्स अधिकारी निरंजन के बेटे शरद को अगवा कर उसकी हत्या करने वाला कोई और नहीं बल्कि उसके बचपन का दोस्त और पड़ोसी विशाल था।

News Nation Bureau | Edited By : Deepak Kumar | Updated on: 22 Sep 2017, 09:15:59 PM
मृतक शरद की फोटो

मृतक शरद की फोटो

नई दिल्ली:

बेंगलुरु में एक इनकम टैक्स अधिकारी के बेटे को अगवा कर उसकी हत्या करने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। पुलिस के मुताबिक इनकम टैक्स अधिकारी निरंजन के बेटे शरद को अगवा कर उसकी हत्या करने वाला कोई और नहीं बल्कि उसके बचपन का दोस्त और पड़ोसी विशाल था।

पुलिस ने इस मामले में विशाल सहित 4 लोगों को गिरफ्तार किया है। इसके अलावा पुलिस को विशाल के एक और साथी शांतराज की भी तलाश है। शुक्रवार सुबह आरोपियों को गिरफ्तार करने के बाद पुलिस ने बेंगलुरु के पास रामनगर जिले में बंद पड़ी पत्थर की खदान में एक गड्ढे से 19 साल के शरद का शव बरामद किया।

पुलिस के मुताबिक 12 सितम्बर की शाम 6:30 बजे विशाल और उसके दोस्तों ने शरद को इम्पोर्टेड बाइक दिखाने के नाम पर साथ बुलाया। शरद को भी नई बाइक मिली थी और वो भी अपनी बाइक विशाल को दिखाना चाहता था।

जैसे ही शरद ने विशाल को नई बाइक के बारे बताया विशाल ने कहा कि वो भी उसे एक इम्पोर्टेड बेंटले बाइक दिखाना चाहता है। इसके बाद शरद अपनी नई बाइक लेकर घर से निकला। रास्ते में शरद की विशाल से मुलाक़ात हुई और वो उसके 3 अन्य दोस्तों के साथ बाइक देखने कार में चला गया। विशाल के एक दोस्त ने शरद की बाइक उसके एक रिश्तेदार के घर छोड़ दी।

हम जिसका शिलान्यास कर रहे हैं, उसका उद्घाटन भी करेंगे: वाराणसी में पीएम मोदी

शरद के पिता को करीब रात साढ़े आठ बजे शरद का पहला व्हाट्सएप वीडयो मिला। कुछ ही मिनट बाद शरद की मां को भी एक वीडियो मैसेज मिला की उसका किडनैप हो गया है और अगर 50 लाख रुपये नहीं दिए गए तो अपहरणकर्ता उसका मर्डर कर देंगे।


व्हाट्स एप मैसेज में कहा गया था- माँ प्लीज़ पुलिस कम्पलेन मत करना, इनके पास बड़े बड़े हथियार हैं, ये लोग भी बहुत ही खूँखार लग रहे हैं। पुलिस में गए तो हम सबको बहुत परेशानी हो जाएगी। ये लोग दीदी को भी फॉलो कर रहे हैं हम लोग हर दिन क्या करते हैं इनके पास पूरी डिटेल्स है। ये सब इन्होंने मुझे बताया है, प्लीज़ रुपयों का इंतजाम कीजिये, आज मैं इनका टारगेट बना हूँ कल दीदी भी किडनैप हो सकती है। मेरे साथ ही इसे सॉल्व कर दीजिए फैमिली को बचा लीजिये पैसों का इंतजाम जल्द कीजिये।

जिसके बाद पिता ने रात 10 बजे ज्ञान भारती पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज़ करवाया। पुलिस का कहना है कि जैसे ही विशाल को इस बात का अहसास हुआ मामला पुलिस तक चला गया है उसने घबरा कर शरद की हत्या कर दी।

गुरमीत सिंह की मुंहबोली बेटी नहीं है हनीप्रीत, पूर्व पति ने किया खुलासा, गुफा में खेलते थे बिग बॉस

विशाल और उसके दोस्तों ने शरद की हत्या कर उसके शव को कार में डालकर मैसूर रोड में चंद्रप्पा सर्कल के पास ले गए। वहां पर शव को पत्थर से बांध कर तालाब में फेंक दिया। शव को ठिकाने लगा कर विशाल उसी रात शरद के परिवार के पास पहुंचा और साथ मिलकर शरद को ढूंढ़ने लगा।

2 दिन बाद शव फूलकर पानी के ऊपर आ गया। आरोपियों ने पकड़े जाने के डर से शव को बड़े पत्थर से बांधकर फिर से पानी में फेक दिया। लेकिन 2 दिन बाद शव फिर से ऊपर सतह पर आ गया। इसके बाद आरोपियों ने शव को पानी से बाहर निकालकर 1 दिन कार के अंदर ही रखा और फिर अगले दिन पास के जिले रामनगर के मंचेहल्ली के पास एक पत्थर की खदान में ज़मीन में गाड़ दिया।

यह भी पढ़ें: नरम पड़े ममता के तेवर, मूर्ति विसर्जन पर हाई कोर्ट के फैसले के खिलाफ SC नहीं जाएगी बंगाल सरकार

पुलिस को एक फोन नंबर के चलते विशाल पर शक हुआ। अपहरण का मामला दर्ज होने के बाद जब पुलिस ने शरद के नम्बर को ट्रैक करना शुरू किया तो कुछ जगह पर शरद का नम्बर नहीं मिल रहा था लेकिन उन सभी जगहों पर एक और नम्बर एक्टिव था। ये नम्बर हर मोबाइल टॉवर पर दर्ज हुआ था जहां शरद का नम्बर था, जब पुलिस ने पड़ताल की तो पता चला कि ये नम्बर विशाल का ही है।

इस सुराग के बाद जब विशाल से सख्ती से पूछताछ की गई तो उसने सारा सच बता दिया। पुलिस ने मुख्य आरोपी विशाल के अलावा इस काम में उसका साथ देने वाले उसके दोस्तों विनय, करण और विनोद को गुरुवार देर रात गिरफ्तार कर लिया। फिलहाल पुलिस को विशाल के एक और साथी शान्तराज की तलाश है।

यह भी पढ़ें: 'गोहिंसा' पर सुप्रीम कोर्ट सख्त, राज्यों से कहा- दोषियों पर हो कार्रवाई, पीड़ितों को दें मुआवजा

First Published : 22 Sep 2017, 09:14:45 PM

For all the Latest Crime News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

×