News Nation Logo
Banner

रिवर्स मॉर्गेज लोन (Reverse Mortgage Loan): बुढ़ापे की ना करें फिक्र, मैं हूं ना

रिवर्स मॉर्गेज लोन को पाने के लिए ही 60 साल से अधिक की उम्र होना जरूरी है. वहीं महिलाओं के लिए 58 साल की उम्र होना आवश्यक है. रिवर्स मॉर्गेज लोन (Reverse Mortgage Loan) में बैंक आपके घर को गिरवी रख लेते हैं और हर महीने आपको एक निश्चित रकम देते रहते हैं.

News Nation Bureau | Edited By : Dhirendra Kumar | Updated on: 22 Apr 2019, 02:26:26 PM
फाइल फोटो

फाइल फोटो

नई दिल्ली:

बुढ़ापे में अक्सर लोगों को फाइनेंशियल प्राब्लम होती है. यह मुसीबत तब और बढ़ जाती है जब बुजुर्ग पति और पत्नी के अलावा परिवार में और कोई भी सदस्य नहीं हो. उम्र बढ़ने के साथ ही उनके काम करने की क्षमता भी घट जाती है. ऐसी स्थिति में घर चलाने के लिए उनके पास बहुत ही सीमित विकल्प होते हैं. साथ ही उन्हें कई फाइनेंशियल दिक्कतों को भी सामना करना पड़ता है. आज इस रिपोर्ट में ऐसे कर्ज (Loan) के बारे में चर्चा करेंगे, जिसको खासतौर पर बुजुर्गों को ध्यान में रखते हुए ही बनाया गया है.

यह भी पढ़ें: Investment: टैक्स सेविंग म्यूचुअल फंड (ELSS) क्या है. इससे कैसे बचा सकते हैं टैक्स, जानिए पूरा गणित

क्या है रिवर्स मॉर्गेज लोन - Reverse Mortgage Loan
रिवर्स मॉर्गेज लोन को पाने के लिए ही 60 साल से अधिक की उम्र होना जरूरी है. वहीं महिलाओं के लिए 58 साल की उम्र होना आवश्यक है. आपको होम लोन में घर के सभी दास्तावेज जमा करने पर लोन (Loan) मिल जाता है. उस होम लोन को चुकाने के लिए हर महीने किश्त (EMI) भरते हैं. उसी तरह रिवर्स मॉर्गेज लोन (Reverse Mortgage Loan) में बैंक आपके घर को गिरवी रख लेते हैं और हर महीने आपको एक निश्चित रकम देते रहते हैं. रिवर्स मॉर्गेज लोन के अंतर्गत आवेदक की मृत्यु हो जाने पर घर बैंक का हो जाता है.

यह भी पढ़ें: प्रधानमंत्री मुद्रा योजना (PMMY): छोटे व्यापारियों के बड़े सपने को साकार करने की स्कीम

घर गिरवी रखकर एक निश्चित रकम हर महीने देता है बैंक
Reverse Mortgage Loan स्कीम के अंतर्गत आवेदक को बैंक को पैसा वापस नहीं करना होता है, जबकि बैंक आपके घर को गिरवी रखकर आपको हरमहीने एक निश्चित रकम देता है. हालांकि आपको हर महीने रकम कितनी मिलेगी, यह घर की कीमतों पर निर्भर है. घर के वैल्युएशन के हिसाब से 60 फीसदी तक लोन मिल सकता है. लोने लेने के बाद भी घर का मालिक अपने घर पर रह सकता है. इस लोन की यही खासियत है. हालांकि रिवर्स मॉर्गेज स्कीम के तहत घर गिरवी रखने वाले व्यक्ति की मौत के बाद घर बैंक का हो जाता है. अगर उस व्यक्ति के परिजन घर लेना चाहें तो घर की कीमत देकर घर को बैंक से वापस ले सकते हैं. इस स्कीम के तहत बैंक 60 साल की उम्र से अधिक लोगों को ही लोन देती है. हालांकि कुछ बैंक 72 साल की उम्र पार करने पर लोन नहीं देते. इस स्कीम के तहत यह लोन 15 साल तक के लिए ही मिलता है. पति-पत्नी दोनों लोग इस लोन के लिए अप्लाई करते हैं तो पति की उम्र 60 साल और पत्नी की उम्र 58 साल होना बेहद जरूरी है.

यह भी पढ़ें: भाई-बहन की जोड़ी ने पुश्तैनी कारोबार को बना दिया करोड़ों की कंपनी

रिवर्स मॉर्गेज लोन स्कीम ऐसे बुजुर्गों के लिए बेहद उपयोगी है, जिनकी देखभाल करने वाला कोई नहीं है. परिवार में उनके बच्चे अलग रहते हैं और उनकी देखभाल के पैसा भी नहीं देते. उन बुजुर्गों के लिए रिवर्स मॉर्गेज लोन (Reverse Mortgage Loan) बुढ़ापे में जीवन जीने का बेहतर सहारा बनकर उभरा है.

यह भी पढ़ें: NPS: नेशनल पेंशन स्कीम लंबी पारी के लिए तैयार, ग्राहकों को होगा बड़ा फायदा

First Published : 22 Apr 2019, 02:25:12 PM

For all the Latest Business News, Personal Finance News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो