News Nation Logo

म्यूचुअल फंड (Mutual Fund) में निवेश करने की है योजना, इन बातों का रखें खास ध्यान

Mutual Fund Investment: शेयर बाजार (Share Market) में गिरावट के दौरान म्यूचुअल फंड में निवेश जारी रखने से एवरेजिंग (Averaging) में मदद मिलती है.

धीरेंद्र कुमार | Edited By : Dhirendra Kumar | Updated on: 07 Nov 2019, 10:00:33 AM
Mutual Fund Investment

नई दिल्ली:  

Mutual Fund Investment: अगर आप म्यूचुअल फंड (Mutual Fund) में निवेश (Investment) की योजना बना रहे हैं तो आपको कुछ जरूरी बातों का ध्यान जरूर रखना चाहिए. निवेश से पहले इन बातों को ध्यान में रखने पर भविष्य में होने वाले आर्थिक नुकसान से बचने में आप कामयाब हो जाएंगे. हमारी इस रिपोर्ट में उन्हीं गलतियों को पहचानने की कोशिश की गई है. आप इन गलतियों को समय रहते सुधार कर अपना पोर्टफोलियो शानदार बना सकते हैं.

यह भी पढ़ें: मोदी सरकार ने प्याज आयात के लिए नियमों में 30 नवंबर तक की ढील दी

बाजार गिरने पर SIP बंद नहीं करने की सलाह
जानकारों का कहना है कि निवेश बंद करने से SIP का मकसद पूरा नहीं होता है. शेयर बाजार (Share Market) में गिरावट के दौरान निवेश जारी रखने से एवरेजिंग (Averaging) में मदद मिलती है. इसके अलावा बाजार की गिरावट पर ज्यादा यूनिट खरीदने का मौका भी मिलता है. जानकार कहते हैं कि शेयर बाजार की हालत सुधरने पर फायदा मिलता है. बाजार में हर दौर में SIP जारी रखना पहला लक्ष्य होना चाहिए.

दिल्ली, मुंबई और चेन्नई समेत देश के बड़े शहरों के सोने-चांदी के आज के रेट जानने के लिए यहां क्लिक करें

यह भी पढ़ें: ‘कृषि निर्यात को बढ़ाने के लिए आवश्यक वस्तु अधिनिमय की समीक्षा की जरूरत’

लक्ष्य के साथ SIP करने की कोशिश करें
वित्तीय लक्ष्य के साथ निवेश करना फायदेमंद होता है. जानकार कहते हैं कि लक्ष्य नहीं होने पर आधे-अधूरे तरीके से निवेश होता है जिससे भविष्य में दिक्कत हो सकती है. लक्ष्य नहीं होने पर भविष्य में फंड की कमी भी संभव है. निवेशकों को लक्ष्य प्राथमिकता के आधार पर तय करना चाहिए. साथ ही लक्ष्य हासिल करने के लिए समयसीमा भी सुनिश्चित करना चाहिए.

यह भी पढ़ें: Gold Price Today 7 Nov 2019: MCX पर सोने-चांदी में आज क्या बनाएं रणनीति, एक्सपर्ट्स से जानिए बेहतरीन टिप्स

मंथली निवेश को टुकड़ों में बांटें - Split Monthly Investment
निवेशकों को SIP के लिए अलग-अलग तारीख रखने की कोशिश करनी चाहिए. जानकारों का कहना है कि टुकड़ों में एसआईपी को बांटने से बैंक अकाउंट में कैश रहेगा. इसके अलावा अलग-अलग तारीख पर SIP से जोखिम भी कम रहता है. SIP में सालाना निवेश को बढ़ाना चाहिए. निवेशकों को आय बढ़ने के साथ ही निवेश की रकम भी बढ़ाने की कोशिश करनी चाहिए. अतिरिक्त सेविंग (Saving) को दूसरे मौजूदा SIP में लगाया जा सकता है.

यह भी पढ़ें: Petrol Price Today 7 Nov 2019: राजधानी दिल्ली में मिल रहा है सबसे सस्ता पेट्रोल, चेक करें नए रेट

(Disclaimer: निवेशक निवेश से पहले अपने वित्तीय सलाहकार की सलाह जरूर लें. न्यूज स्टेट की खबर को आधार मानकर निवेश करने पर हुए लाभ-हानि का न्यूज स्टेट से कोई लेना-देना नहीं होगा. निवेशक स्वयं के विवेक के आधार पर निवेश के फैसले लें)

First Published : 07 Nov 2019, 10:00:33 AM

For all the Latest Business News, Personal Finance News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.