News Nation Logo

किसान विकास पत्र (Kisan Vikas Patra): पोस्ट ऑफिस की इस स्कीम में निवेश करने पर दोगुना हो जाएगा पैसा, जानिए कैसे

किसान विकास पत्र (Kisan Vikas Patra-KVP): किसान विकास पत्र में निवेश करने पर कोई टैक्स बेनिफिट नहीं मिलता है. साथ ही, किसान विकास पत्र पर मिलने वाले ब्याज पर आपको अपने टैक्स ब्रैकेट के अनुसार टैक्स देना पड़ता है.

Written By : बिजनेस डेस्क | Edited By : Dhirendra Kumar | Updated on: 13 Feb 2021, 12:57:40 PM
किसान विकास पत्र (Kisan Vikas Patra-KVP)

किसान विकास पत्र (Kisan Vikas Patra-KVP) (Photo Credit: newsnation)

highlights

  • निवेशकों को किसान विकास पत्र के ऊपर सालाना 6.9 फीसदी की दर से मिल रहा है ब्याज  
  • आंकड़ों के मुताबिक निवेश की गई कुल रकम 124 महीने (10 साल, 4 महीने) में हो जाती है दोगुनी 

नई दिल्ली :

किसान विकास पत्र (Kisan Vikas Patra-KVP) पोस्‍ट ऑफिस (Post Office) की लघु बचत योजनाओं (Small Saving Schemes) में से निवेश के लिए एक बेहतरीन विकल्प है. Kisan Vikas Patra या KVP एक प्रकार का भारत सरकार का बॉन्ड है, जो आपको निवेश प्रमाण पत्रों (Investment Certificate) के रूप में जारी किया जाता है.  इस सर्टिफिकेट में कितने समय के बाद आपका पैसा दोगुना होकर मिलेगा इसकी जानकारी दी गई होती है. मौजूदा समय में किसान विकास पत्र 1,000 रुपये, 5000 रुपये, 10,000 रुपये और 50,000 रुपये के मूल्यवर्गों (Denominations) में उपलब्ध हैं. मौजूदा समय में निवेशकों को किसान विकास पत्र के ऊपर सालाना 6.9 फीसदी की दर से ब्याज मिल रहा है. इस पर मिलने वाला ब्याज निवेशकों के अकाउंट में वित्त वर्ष के आखिर में यानि 31 मार्च को जमा कर दी जाती है. आंकड़ों के मुताबिक निवेश की गई कुल रकम 124 महीने (10 साल, 4 महीने) में दोगुनी हो जाती है.

यह भी पढ़ें: गोल्ड मोनेटाइजेशन स्कीम के नियमों में हो रहा है बदलाव, जानिए क्या होंगे फायदे

KVP निवेश पर टैक्स बेनिफिट नहीं - No Tax Benefit Under Section 80C
किसान विकास पत्र (KVP) में निवेश करने पर कोई टैक्स बेनिफिट नहीं मिलता है. साथ ही, किसान विकास पत्र पर मिलने वाले ब्याज पर आपको अपने टैक्स ब्रैकेट के अनुसार टैक्स देना पड़ता है. हालांकि किसान विकास पत्र पर TDS (Tax Deduction at Source) भी नहीं लगता है.

ऑनलाइन (Online) भी ले सकते हैं किसान विकास पत्र
1 अप्रैल 2016 से National Saving Certificate (NSC) और किसान विकास पत्र (KVP) इलेक्‍ट्रॉनिक रूप में भी मिलना शुरू हो गए हैं. इसके पहले यह सिर्फ छपे हुए प्रमाणपत्र (Printed Certificate) के रूप में मिलते थे.

यह भी पढ़ें: आम आदमी को महंगाई के मोर्चे पर मिली बड़ी राहत, मुद्रास्फीति में आई गिरावट

कौन खरीद सकता है किसान विकास पत्र  
कोई भी वयस्क व्यक्ति (adult) अपने नाम पर या नाबालिग (minor) यानी बच्चे के नाम पर इसे खरीद सकता है. कोई भी दो वयस्क (Adult) व्यक्ति मिलकर संयुक्त रूप से भी Kisan Vikas Patra खरीद सकते हैं. KVP खरीदते वक्त आप उनमें अपना Nominee भी दर्ज करा सकते हैं. Nominee, वह व्यक्ति होता है, जिसे खाताधारक के न रहने की स्थिति में KVP का पैसा मिलेगा.

किसी दूसरे व्यक्ति के नाम कर सकते हैं ट्रांसफर
आप जरूरत पड़ने पर Kisan Vikas Patra को किसी दूसरे व्यक्ति के नाम Transfer भी कर सकते हैं. इसके लिए आपको Post Office में जाकर आवेदन करना होता है. आप अपना निवास स्थान (Residence) बदलने पर या अन्य किसी कारणवश जरूरी होने पर अपने Account का दूसरे Post Office में ट्रांसफर भी करा सकते हैं. जरूरत पड़ने पर आप Kisan Vikas Patra को Maturity Period के पहले भी कैश करा सकते हैं. लेकिन ऐसा आप तभी कर सकते हैं, जबकि आपके Kisan Vikas Patra का कम से कम ढाई साल का समय पूरा हो चुका हो.

यह भी पढ़ें: मोदी सरकार का तोहफा, बढ़ाई गई फैमिली भुगतान की सीमा

KVP खरीदते समय यह सावधानी बरतें
Kisan Vikas Patra वैसे तो आप अपनी सुविधानुसार किसी भी मूल्य-वर्ग (Denomination) के ले सकते हैं, लेकिन अगर आप किसी बड़ी रकम का Investment इनमें करना चाहते हैं, तो बेहतर होगा कि छोटे छोटे मूल्‍य वर्ग के (Denominations) के Kisan Vikas Patra खरीदें. ऐसा करने से अगर कभी इन्‍हें समय से पहले कैश कराना पड़े तो एक एक के करके बॉन्ड कैश कराए जा सकते हैं.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 13 Feb 2021, 12:57:40 PM

For all the Latest Business News, Personal Finance News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो