News Nation Logo
Banner

पर्सनल लोन के लिए इंटरेस्ट रेट कैसे तय होते हैं, आपको जरूर जानना चाहिए

आपकी प्रोफाइल से पर्सनल लोन (Personal Loan) की ब्याज दरें तय होती हैं. ज्यादातर मामलों में पर्सनल लोन की ब्याज दरें इनकम प्रोफाइल के आधार पर तय होती हैं

News Nation Bureau | Edited By : Dhirendra Kumar | Updated on: 18 Apr 2019, 08:59:59 AM
फाइल फोटो

फाइल फोटो

नई दिल्ली:

आप जब कभी भी पर्सनल लोन (Personal Loan) लेने जाते होंगे तो आपके दिमाग में एक बात हमेशा आती होगी कि इस लोन पर ब्याज कैसे कैलकुलेट होता है. आमतौर पर लोगों को इसकी जानकारी नहीं होती है. एक्सपर्ट के मुताबिक जब भी आप पर्सनल लोन लेने जाएं तो बैंक के प्रतिनिधि से उसपर लगने वाले ब्याज के बारे में पूरी जानकारी लेनी चाहिए.

यह भी पढ़ें: अगर आप भारतीय स्टेट बैंक के ग्राहक हैं तो यह खबर आपके लिए ही है

एक्सपर्ट के मुताबिक पर्सनल लोन पर बैंक ब्याज दो तरीके से कैलकुलेट करते हैं. पहला प्रतिदिन या मासिक रिड्यूशिंग बैलेंस मैथेडेलॉजी (Reducing Balance Methodology) और दूसरा सालाना रिड्यूशिंग मैथेडेलॉजी. एक्सपर्ट का कहना है कि अगर आप प्रतिदिन या मासिक रिड्यूशिंग बैलेंस मैथेडेलॉजी के तहत लोन लेते हैं, तो हर महीने हजारों रुपये का फायदा होने की संभावना है.

बकाया लोन पर होती है ब्याज की गणना
एक्सपर्ट के मुताबिक पर्सनल लोन पर अगर ब्याज प्रतिदिन या मासिक रिड्यूशिंग बैलेंस मैथेडेलॉजी के तहत कैलकुलेट होती है तो इसके तहत बची हुई रकम पर ब्याज की गणना होती है. ऐसा करने से आपकी EMI हर महीने कम होती जाती है. इस तरह से आपके पर्सनल लोन पर इफेक्टिव इंटरेस्‍ट कम हो जाता है.

यह भी पढ़ें: मध्य प्रदेश: ई-टेंडरिंग घोटाले के बाद 118 करोड़ का कोऑपरेटिव बैंक घोटाला आया सामने

सालाना रिड्यूशिंग मैथेडेलॉजी से नुकसान
एक्सपर्ट का कहना है कि सालाना रिड्यूशिंग मैथेडेलॉजी के तहत साल की शुरुआत में ही आपके बकाया पर्सनल लोन पर ब्याज की गणना की जाती है. इसकी वजह से आप अगले एक साल तक जो EMI देते हैं उस पर भी ब्याज देना पड़ता है. इस तरीके में आपके पर्सनल लोन का ब्याज एक साल के बाद ही कम हो पाता है.

यह भी पढ़ें: 93 साल पुराने बैंक के इस बड़े फैसले से ग्राहकों पर पड़ेगा ये असर, जानने के लिए पढ़ें पूरी खबर

प्रोफाइल से तय होती है ब्याज दर
सामान्तया बैंक सालाना 10 फीसदी से 16 फीसदी तक के ब्याज पर आपको पर्सनल लोन देते हैं. ज्यादातर मामलों में पर्सनल लोन की ब्याज दरें आपकी इनकम प्रोफाइल के आधार पर तय होती हैं. आपकी कंपनी, सैलरी, सैलरी अकाउंट को देखकर ब्याज दरें तय होती हैं. अगर आपका सैलरी अकाउंट है तो संबंधित बैंक आपको पर्सनल लोन के लिए ब्याज में कुछ छूट भी दे सकता है.

यह भी पढ़ें: Banks: अप्रैल में दस दिन बंद रहेंगे बैंक, निपटा लीजिए जरूरी काम, नहीं तो होगी परेशानी

First Published : 15 Apr 2019, 08:36:02 AM

For all the Latest Business News, Personal Finance News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो