News Nation Logo
Banner

SEBI ने SBI, LIC और बैंक ऑफ बड़ौदा पर क्यों लगाया भारी जुर्माना, जानिए वजह

SEBI ने अपनी जांच में पाया कि SBI, LIC और बैंक ऑफ बड़ौदा (Bank of Baroda) क्रमश: एसबीआई म्यूचुअल फंड, एलआईसी म्यूचुअल फंड और बड़ौदा म्यूचुअल फंड के प्रायोजक हैं.

News Nation Bureau | Edited By : Dhirendra Kumar | Updated on: 15 Aug 2020, 10:16:14 AM
SEBI

भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (SEBI) (Photo Credit: फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (SEBI) ने म्यूचुअल फंड (Mutual Fund) नियमों के उल्लंघन के लिए सार्वजनिक क्षेत्र के तीन वित्तीय संस्थानों पर 10-10 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है, जिन संस्थानों पर जुर्माना लगाया गया है उनमें भारतीय स्टेट बैंक (SBI), भारतीय जीवन बीमा निगम (LIC) और बैंक ऑफ बड़ौदा (Bank of Baroda) शामिल हैं. सेबी ने अपनी जांच में पाया कि एसबीआई, एलआईसी और बीओबी क्रमश: एसबीआई म्यूचुअल फंड, एलआईसी म्यूचुअल फंड और बड़ौदा म्यूचुअल फंड के प्रायोजक हैं.

यह भी पढ़ें: देश का हर गांव ऑप्टिकल फाइबर से जुड़ेगा, PM नरेंद्र मोदी का बड़ा ऐलान

सेबी ने मार्च 2018 में म्यूचुअल फंड नियमनों में किया था संशोधन
एसबीआई, एलआईसी और बैंक ऑफ बड़ौदा के पास इन म्यूचुअल फंड में 10-10 प्रतिशत से अधिक की हिस्सेदारी है. इसके अलावा एलआईसी, एसबीआई और बीओबी यूटीआई एएमसी की भी प्रायोजक हैं और इनके पास संपत्ति प्रबंधन कंपनी (एएमसी) और यूटीआई एमएफ की न्यासी कंपनी में अलग से 10-10 प्रतिशत से अधिक की हिस्सेदारी है. सेबी ने कहा कि यह म्यूचुअल फंड नियमनों के अनुरूप नहीं है. सेबी ने मार्च, 2018 में म्यूचुअल फंड नियमनों में संशोधन किया था. इसके तहत किसी एएमसी में यदि शेयरधारक या प्रायोजक की कम से कम 10 प्रतिशत की हिस्सेदारी है तो वह देश में परिचालन कर रहे किसी अन्य म्यूचुअल फंड में 10 प्रतिशत या उससे अधिक की हिस्सेदारी नहीं रख सकता.

यह भी पढ़ें: HDFC Bank ने स्वतंत्रता दिवस पर सैन्य बलों को किया सलाम, शुरू की ये बड़ी सुविधा

सेबी ने अपने आदेश में कहा कि इन इकाइयों ने इस अनिवार्यता को मार्च, 2019 तक दिए गए समय में पूरा नहीं किया. नियामक ने कहा कि इन तीनों इकाइयों ने इस बात से इनकार नहीं किया है कि वे म्यूचुअल फंड नियमनों का अनुपालन नहीं कर पाई हैं. हालांकि, इन इकाइयों ने कहा कि यूटीआई एएमसी में अपनी हिस्सेदारी की बिक्री के लिए आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (आईपीओ) की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है तथा यूटीआई ट्रस्टी कंपनी में हिस्सेदारी बिक्री की प्रक्रिया को अंतिम रूप दिया जा रहा है. इन इकाइयों ने कहा है कि यूटीआई एएमसी का आईपीओ सितंबर अंत तक पूरा होगा.

First Published : 15 Aug 2020, 10:11:19 AM

For all the Latest Business News, Markets News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो