News Nation Logo
Quick Heal चुनाव 2022

विजय माल्या और नीरव मोदी से हुई इतने करोड़ रुपये की रिकवरी, FM ने लोकसभा में दी जानकारी

जानकारी के मुताबिक केंद्रीय एजेंसी ने प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (PMLA) के तहत इन संपत्तियों को जब्त किया था. प्रवर्तन निदेशालय ने बैंकों के कंसोर्टियम को इस रकम को सौंप दिया था.

News Nation Bureau | Edited By : Dhirendra Kumar | Updated on: 20 Dec 2021, 03:28:58 PM
Nirmala Sitharaman

Nirmala Sitharaman (Photo Credit: IANS)

highlights

  • प्रवर्तन निदेशालय ने जुलाई में इस रिकवरी के बारे में जानकारी दी थी 
  • माल्या पर विभिन्न बैंकों का 9 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा का बकाया

नई दिल्ली:

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने लोकसभा में जानकारी दी है कि कई बैंकों से हजारों करोड़ रुपये की धोखाधड़ी करके देश से भागे शराब कारोबारी विजय माल्या, हीरा कारोबारी नीरव मोदी और मेहुल चौकसी से 13,109 करोड़ रुपये की रिकवरी की जा चुकी है. उनका कहना है कि इन दोनों ही भगोड़े डिफॉल्टर की संपत्ति को बेचकर इस रकम को रिकवर किया गया है. प्रवर्तन निदेशालय की ओर से जुलाई में इस रिकवरी के बारे में जानकारी दी गई थी. हालांकि अब वित्त मंत्री ने संसद को आधिकारिक रूप से यह जानकारी दी है. बता दें कि जुलाई में प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने जानकारी दी थी कि भारतीय स्टेट बैंक (SBI) के नेतृत्व में एक संघ ने भगोड़े कारोबारी विजय माल्या, नीरव मोदी और मेहुल चोकसी के शेयरों की बिक्री के जरिए 792.11 करोड़ रुपये की वसूली की गई थी.

यह भी पढ़ें: सरकार का बड़ा फैसला, 7 कमोडिटी के वायदा कारोबार पर लगाई रोक

जानकारी के मुताबिक केंद्रीय एजेंसी ने प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (PMLA) के तहत इन संपत्तियों को जब्त किया था. प्रवर्तन निदेशालय ने बैंकों के कंसोर्टियम को इस रकम को सौंप दिया था. प्रवर्तन निदेशालय के मुताबिक विजय माल्या, नीरव मोदी और मेहुल चौकसी की संपत्ति की बिक्री के जरिए 13,109.17 करोड़ रुपये की वसूली की जा चुकी है.  

बता दें कि विजय माल्या के ऊपर विभिन्न बैंकों का 9 हजार करोड़ रुपये ज्यादा का बकाया है. साथ ही नीरव मोदी और मेहुल चौकसी के ऊपर पंजाब नेशनल बैंक को 13 हजार करोड़ रुपये का नुकसान पहुंचाने का आरोप है.

First Published : 20 Dec 2021, 03:10:32 PM

For all the Latest Business News, Markets News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.