News Nation Logo
Banner
Banner

मुकेश अंबानी खरीदेंगे भाई अनिल की कंपनी RCom, एसबीआई ने दी मंजूरी

अनिल अंबानी की रिलायंस कम्युनिकेशन्स (RCom) जल्द ही उनके बड़े भाई मुकेश अंबानी की हो जाएगी. स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने इसकी मंजूरी दे दी है. आज होने वाली कमिटी ऑफ क्रेडिटर्स की बैठक के बाद जल्द ही इसका ऐलान किया जाएगा.

News Nation Bureau | Edited By : Kuldeep Singh | Updated on: 04 Mar 2020, 11:37:18 AM
Mukesh Ambani

मुकेश अंबानी (Photo Credit: फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

देश के सबसे अमीर उद्योगपति मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) अपने भाई अनिल अंबानी (Anil Ambani) की दिवाला हो चुकी कंपनी रिलायंस कम्युनिकेशन्स (RCom) को खरीदने जा रहे हैं. जानकारी के मुताबिक देश के सबसे बड़े बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) ने आरकॉम (RCom) के रिजॉल्यूशन प्लान को मंजूरी भी दे दी है. इस फैसले से स्टेट बैंक को उम्मीद है कि उसके करीब 23000 करोड़ रुपये वापस आ जाएंगे.

यह भी पढ़ेंः 8.5 लाख बैंक कर्मचारियों के लिए बड़ी खुशखबरी, सरकार दे सकती है सैलरी में बढ़ोतरी का गिफ्ट

दरअसल मुकेश अंबानी की रिलायंस जियो ने आरकॉम की टॉवर और फाइबर बिजनस (रिलायंस इंफ्राटेल) को खरीदने के लिए 4700 करोड़ रुपये ऑफर किए हैं. यूवी असेट रीकंस्ट्रक्शन कंपनी (UVARC) ने आरकॉम और रिलायंस टेलकॉम के असेट के लिए 14700 करोड़ रुपये की बोली लगाई है. जानकारी के मुताबिक आरकॉम पर करीब 82 हजार करोड़ दी देनदारी है. इसी के कारण इस कंपनी को दिवालिया की प्रक्रिया से गुजरना पड़ रहा है. रिजॉल्यूशन प्लान को लेकर कमिटी ऑफ क्रेडिटर्स की बैठक का आज आखिरी दिन है. आरकॉम पर सिक्यॉर्ड कर्ज 33000 करोड़ का है और लेंडर्स ने 49000 करोड़ का दावा किया है.

यह भी पढ़ेंः आम आदमी को बड़ा झटका, महंगी हो सकती है चीनी, जानिए क्या है वजह

JIO ने आरकॉम का असेट खरीदने से मना किया था
पिछले दिनों आरकॉम ने अपना असेट बेचकर कर्ज चुकाने की कोशिश की थी. बताया जा रहा है कि इसके लिए खुद अनिल अंबानी से जियो से संपर्क किया था. लेकिन किसी कारण से यह डील नहीं हो पाई. जियो ने आरकॉम के असेट खरीदने से साफ तौर पर इंकार कर दिया. जियो का कहना था कि वह नहीं चाहती है कि उसे आरकॉम के भारी भरकम कर्ज का बोझ भी उठाना पड़े.

First Published : 04 Mar 2020, 11:37:18 AM

For all the Latest Business News, Markets News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.