News Nation Logo
Banner

घरेलू सिंथेटिक रबड़ उद्योग को सस्ते इंपोर्ट से बचाने के लिए सरकार ने उठाया ये बड़ा कदम

वाणिज्य मंत्रालय की जांच इकाई व्यापार उपचार महानिदेशालय ने एक अधिसूचना में कहा कि यदि फ्लूरोइलास्टोमर पर मौजूदा डंपिंग- रोधी शुल्क को समाप्त होने दिया जाता है तो संभवत: इसकी डंपिंग शुरू हो सकती है और घरेलू उद्योगों को इससे नुकसान पहुंच सकता है.

News Nation Bureau | Edited By : Dhirendra Kumar | Updated on: 22 Oct 2020, 09:38:45 AM
Synthetic Rubber

Synthetic Rubber (Photo Credit: newsnation)

नई दिल्ली:

वाणिज्य मंत्रालय (Ministry of Commerce) ने चीन से आयात होने वाले सिंथेटिक रबड़ (Synthetic Rubber) पर डंपिंग रोधी शुल्क (Anti dumping duty) को पांच साल और जारी रखने की सिफारिश की है. घरेलू उद्योगों को सस्ते आयात से बचाने के लिये यह सिफारिश की गई है. वाणिज्य मंत्रालय की जांच इकाई व्यापार उपचार महानिदेशालय (डीजीटीआर) ने एक अधिसूचना में कहा कि यदि फ्लूरोइलास्टोमर पर मौजूदा डंपिंग- रोधी शुल्क को समाप्त होने दिया जाता है तो संभवत: इसकी डंपिंग शुरू हो सकती है और घरेलू उद्योगों को इससे नुकसान पहुंच सकता है. 

यह भी पढ़ें: Gold Price Today: महंगे हो सकते हैं सोना-चांदी, जानें आज की बेहतरीन ट्रेडिंग कॉल्स

1.04 डालर से लेकर 8.86 डालर प्रति किलो के दायरे में डंपिंग रोधी शुल्क लगाने की सिफारिश
उसने कहा कि प्राधिकरण इस पर और पांच साल के लिये डंपिंग रोधी शुल्क लगाने की सिफारिश करता है. निदेशालय ने फ्लूरोइलास्टोमेर पर 1.04 डालर से लेकर 8.86 डालर प्रति किलो के दायरे में डंपिंग रोधी शुल्क लगाने की सिफारिश की है. डीजीटीआर ने अपनी जांच में कहा है कि इस बात के काफी सबूत हैं कि डंपिंग रोधी शुल्क को मौजूदा स्थिति में समाप्त होने देने से डंपिंग शुरू हो जायेगी और घरेलू उद्योगों को इसका नुकसान होगा. 

यह भी पढ़ें: महंगे प्याज से मिलेगी राहत, मोदी सरकार ने इंपोर्ट को लेकर लिया फैसला

वित्त मंत्रालय के राजस्व विभाग ने पिछले साल जनवरी में 18 माह के लिये यह शुल्क लगाया था. इसकी अवधि जुलाई 2020 में समाप्त हो रही थी जिसे बढ़ाकर इस साल 27 अक्टूबर तक कर दिया गया था.

First Published : 22 Oct 2020, 09:33:09 AM

For all the Latest Business News, Markets News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.