News Nation Logo

Crude Oil: रूसी तेल पर पेट्रोलियम मंत्री हरदीप पुरी कह रहे ये बात, क्या सरकार पर रहेगा दबाव

News Nation Bureau | Edited By : Shivani Kotnala | Updated on: 17 Nov 2022, 01:43:13 PM
Hardeep Singh Puri On Crude Oil

Hardeep Singh Puri On Crude Oil (Photo Credit: NewsNation)

नई दिल्ली:  

Hardeep Singh Puri On Crude Oil: रूस से आयात किए जाने वाले तेल पर प्राइस कैप लगाने को लेकर केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने अपनी बात रखी है. केंद्रीय पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री हरदीप सिंह पुरी ग्रेटर नोएडा में हुए एक कार्यक्रम में पहुंचे. जहां उन्होंने रूस से आयात किए जाने वाले तेल पर भारत की रुख साफ किया है. उन्होंने कहा है कि देश की केंद्र सरकार फिलहाल किसी डर या दबाव के माहौल में नहीं है. दरअसल 5 दिसम्बर को रूस से आयात किये जाने वाले तेल पर प्राइस कैप लगाने को लेकर जी 7 देश कुछ नया फैसला ले सकते हैं. 

रूसी तेल भारत को पड़ रहा सस्ता 

दरअसल पूरा मामला रूस  से कच्चा तेल सस्ते में खरीदने को लेकर है. भारत लंबे समय से रूसी तेल आयात कर रही है क्यों कि रूस से कच्चे तेल पर अच्छा डिस्काउंट मिल रहा है. वहीं दूसरी ओर घरेलू बाजारों की ओर नजर दौड़ाएं तो पाएंगे कि लंबे समय से देश में पेट्रोल और डीजल की कीमतें स्थिर ही बनी हुई हैं. आंकड़ों की मानें तो भारत ने रूस से अपना तेल का आयात भी बढ़ा दिया है. पिछले महीने अक्टूबर के ही आंकड़े देखें तो पाते हैं कि रूस से भारत को 935,556 बैरल प्रति बैरल की सप्लाई प्रति दिन के हिसाब से हुई. ये आकंड़ा रूस से तेल आयात करने का अब तक का सबसे बड़ा है. 

ये भी पढ़ेंः Twitter: Elon Musk नहीं तो कौन संभालेगा ट्विटर की कमान! आखिर क्यूं ले रहे ऐसा फैसला

पेट्रोलियम मंत्री ने विदेशी मंचो पर भी रखी है कई बार अपनी बात

केंद्रीय पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री हरदीप सिंह इससे पहले भी कई ग्लोबल मंचों पर भारत का रुख साफ कर चुके हैं. उन्होंने कई बार कहा है कि रूस से कच्चा तेल सस्ते में खरीदना देश के नागरिकों के हित में है. ऐसे में भारत की प्राथमिकता देश के नागरिक ही रहेंगे. हालांकि प्राइस कैप लगाने को लेकर भारत का क्या नया फैसला होगा इसके बारे में फिलहाल कुछ कहा नहीं जा सकता.

First Published : 17 Nov 2022, 01:43:13 PM

For all the Latest Business News, Markets News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.