News Nation Logo
Breaking
उत्तराखंड : बारिश के दौरान चारधाम यात्रा बड़ी चुनौती बनी, संवेदनशील क्षेत्रों में SDRF तैनात आंधी-बारिश को लेकर मौसम विभाग ने दिल्ली-NCR के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया राजस्थान : 11 जिलों में आज आंधी-बारिश का ऑरेंज अलर्ट, ओला गिरने की भी आशंका बिहार : पूर्णिया में त्रिपुरा से जम्मू जा रहा पाइप लदा ट्रक पलटने से 8 मजदूरों की मौत, 8 घायल पर्यटन बढ़ाने के लिए यूपी सरकार की नई पहल, आगरा मथुरा के बीच हेली टैक्सी सेवा जल्द महाराष्ट्र के पंढरपुर-मोहोल रोड पर भीषण सड़क हादसा, 6 लोगों की मौत- 3 की हालत गंभीर बारिश के कारण रोकी गई केदारनाथ धाम की यात्रा, जिला प्रशासन के सख्त निर्देश आंधी-बारिश के कारण दिल्ली एयरपोर्ट से 19 फ्लाइट्स डाइवर्ट
Banner

जीएसटी काउंसिल की आज बैठक, महंगे हो सकते हैं मोबाइल फोन, ऊर्वरक, कृत्रिम धागे, परिधान

GST Council Meeting: विशेषज्ञों का कहना है कि जीएसटी दरें बढ़ाने से विनिर्माताओं के पास पूंजी की स्थिति में सुधार हो सकता है, लेकिन इससे तैयार माल की कीमतें बढ़ सकती हैं. अभी कुछ तैयार माल पर पांच से 12 प्रतिशत की दर से जीएसटी लगता है.

News Nation Bureau | Edited By : Dhirendra Kumar | Updated on: 14 Mar 2020, 11:43:29 AM
GST

माल एवं सेवा कर परिषद (GST Council Meeting) (Photo Credit: फाइल फोटो)

दिल्ली:  

माल एवं सेवा कर परिषद (GST Council Meeting) की आज बैठक होने जा रही है. इस बैठक में मोबाइल फोन, ऊर्वरक, कृत्रिम धागे और कपड़ों पर अप्रत्यक्ष कर की दरें बढ़ाकर 18 फीसदी की जा सकती हैं. विशेषज्ञों ने ऐसी राय जाहिर की है. जीएसटी परिषद की बैठक आज यानि शनिवार (14 मार्च) को होने वाली है. विशेषज्ञों का कहना है कि जीएसटी दरें बढ़ाने से विनिर्माताओं के पास पूंजी की स्थिति में सुधार हो सकता है, लेकिन इससे तैयार माल की कीमतें बढ़ सकती हैं. अभी कुछ तैयार माल पर पांच से 12 प्रतिशत की दर से जीएसटी लगता है.

यह भी पढ़ें: सातवां वेतन आयोग: सरकारी कर्मचारियों को मिलने वाले महंगाई भत्ते की गणना अब ऐसे होगी

हालांकि इनसे संबंधित सेवाओं तथा पूंजीगत वस्तुओं पर 18 प्रतिशत अथवा 28 प्रतिशत की दर से अपेक्षाकृत अधिक कर लगता है. विनिर्माताओं को उन मामलों में इनपुट टैक्स क्रेडिट के रिफंड का दावा करना पड़ता है, जिनमें तैयार माल की तुलना में इनपुट (उत्पादन सामग्री/सेवा पर) कर की दरें अधिक होती हैं. सूत्रों के अनुसार, इस व्यवस्था के तहत सालाना करीब 20 हजार करोड़ रुपये के रिफंड का दावा किया जाता है. इसे दुरुस्त करने की जरूरत है. अधिकारियों ने कहा कि जीएसटी परिषद चरणबद्ध तरीके से इस गड़बड़ी को दूर करेगी.

यह भी पढ़ें: यस बैंक (Yes Bank) के खाताधारकों के लिए खुशखबरी, बैंक पर लगी रोक 18 मार्च को हटा ली जाएगी

मोबाइल फोन पर लगता है 12 फीसदी जीएसटी

आज की बैठक में चार सामानों मोबाइल, ऊर्वरक, जूते एवं कृत्रिम धागे तथा कपड़े एवं परिधान पर निर्णय लिया जा सकता है. अभी मोबाइल फोन पर 12 प्रतिशत की दर से जीएसटी लगता है जबकि इनपुट की दर 18 प्रतिशत है. अधिकारी ने कहा, ‘‘मोबाइल फोन को 12 प्रतिशत जीएसटी दर के दायरे में बनाये रखने के पीछे शायद ही कोई तार्किक कारण हो, क्योंकि टीवी, टॉर्च, गीजर, आइरन, हीटर, मिक्सर, जूसर आदि जैसे कई सामानों पर 18 प्रतिशत की दर से जीएसटी लग रहा है. (इनपुट भाषा)

First Published : 14 Mar 2020, 11:43:29 AM

For all the Latest Business News, Markets News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.