News Nation Logo
Breaking

Coronavirus (Covid-19): मलेरिया की दवा हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन (Hydroxychloroquine) का होगा एक्सपोर्ट, मोदी सरकार ने लिया बड़ा फैसला

Coronavirus (Covid-19): कोरोना वायरस वैश्विक महामारी (Coronavirus Epidemic) से निपटने में अंतरराष्ट्रीय समुदाय की मदद करने की भारत की प्रतिबद्धता के अनुरूप यह फैसला किया गया है.

Bhasha | Edited By : Dhirendra Kumar | Updated on: 07 Apr 2020, 03:12:41 PM
hydroxychloroquine medicine

Coronavirus (Covid-19): हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन (Hydroxychloroquine) (Photo Credit: फाइल फोटो)

दिल्ली:  

Coronavirus (Covid-19): भारत ने प्रत्येक मामले के हिसाब से पड़ोसी देशों समेत अन्य को मलेरिया की दवा हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन (Hydroxychloroquine) निर्यात (Export) करने का फैसला किया है. अधिकारियों ने मंगलवार को बताया कि कोरोना वायरस वैश्विक महामारी (Coronavirus Epidemic) से निपटने में अंतरराष्ट्रीय समुदाय की मदद करने की भारत की प्रतिबद्धता के अनुरूप यह फैसला किया गया है.

यह भी पढ़ें: Crude Oil News: उत्पादन में कटौती की उम्मीद से कच्चे तेल की कीमतों में तेजी

मलेरिया के इलाज में इस्तेमाल होती है 'हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन'

'हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन' मलेरिया के इलाज में प्रयुक्त होने वाली पुरानी और सस्ती दवा है. पिछले महीने, भारत ने हाइड्रोक्सीलक्लोरोक्वीन के निर्यात पर रोक लगा दी थी जब ऐसी खबरें आईं कि कोविड-19 (Corona Virus) मरीजों का इलाज कर रहे स्वास्थ्य कर्मियों को संक्रमण से बचाने के लिए इस दवा का इस्तेमाल किया जा सकता है. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (US President Donald Trump) ने आगाह किया है कि उनके व्यक्तिगत अनुरोध के बावजूद अगर भारत हाइड्रोक्सीलक्लोरोक्वीन का निर्यात नहीं करता है तो अमेरिका (America) जवाबी कार्रवाई कर सकता है.

यह भी पढ़ें: भारतीय वायदा बाजार में ऐतिहासिक ऊंचाई पर सोने का भाव, चांदी में मजबूत कारोबार

अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को सहयोग के उद्देश्य से लिया निर्णय

उन्होंने कहा कि उन्हें हैरानी होगी अगर भारत नहीं मानता है क्योंकि अमेरिका से उसके अच्छे संबंध हैं. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कहा कि भारत का रुख हमेशा से यह रहा है कि अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को एकजुटता एवं सहयोग दिखाना चाहिए. इसी नजरिए से हमने अन्य देशों के नागरिकों को उनके देश पहुंचाया है. उन्होंने इस विषय पर मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए कहा कि वैश्विक महामारी के मानवीय पहलुओं के मद्देनजर, यह तय किया गया है कि भारत अपने उन सभी पड़ोसी देशों को पेरासिटामोल और एचसीक्यू (हाइड्रोक्लोरोक्वीन) को उचित मात्रा में उपलब्ध कराएगा जिनकी निर्भरता भारत पर है. भारत को अपने निकटतम पड़ोसियों श्रीलंका और नेपाल के अलावा कई अन्य देशों से हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन की आपूर्ति को लेकर अनुरोध प्राप्त हुए हैं.

First Published : 07 Apr 2020, 02:18:16 PM

For all the Latest Business News, Markets News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.