News Nation Logo

BREAKING

Banner

BIS ने छोटे उद्योगों के लिए उठाया ये कदम, होगा बड़ा फायदा

BIS के महानिदेशक प्रमोद कुमार तिवारी ने बताया कि छोटे सूक्ष्म उद्योग और स्टार्टअप व महिला उद्यमियों के लिए न्यूनतम चिन्हांकन (मार्किंग) शुल्क में 50 फीसदी की कटौती की गई है और इसमें पुराने लाइसेंसधारकों को 10 फीसदी अतिरिक्त छूट मिलेगी.

Written By : बिजनेस डेस्क | Edited By : Dhirendra Kumar | Updated on: 14 Apr 2021, 08:14:09 AM
BIS Certification: भारतीय मानक ब्यूरो (BIS)

BIS Certification: भारतीय मानक ब्यूरो (BIS) (Photo Credit: NewsNation)

highlights

  • न्यूनतम चिन्हांकन (मार्किंग) शुल्क में 50 फीसदी की कटौती  
  • पुराने लाइसेंसधारकों को 10 फीसदी अतिरिक्त छूट मिलेगी

नई दिल्ली:

BIS Certification: भारतीय मानक ब्यूरो (BIS) ने छोटे सूक्ष्म उद्योग और स्टार्टअप व महिला उद्यमियों के लिए न्यूनतम चिन्हांकन (मार्किंग) शुल्क में 50 फीसदी की कटौती है. यह जानकारी मंगलवार को बीआईएस की ओर से दी गई. उपभोक्ता मामले विभाग की सचिव लीना नंदन ने यहां एक वर्चुअल प्रेसवार्ता के दौरान बीआईएस की विभिन्न पहलों की जानकारी दी. इस मौके पर मौजूद बीआईएस के महानिदेशक प्रमोद कुमार तिवारी ने बताया कि छोटे सूक्ष्म उद्योग और स्टार्टअप व महिला उद्यमियों के लिए न्यूनतम चिन्हांकन (मार्किंग) शुल्क में 50 फीसदी की कटौती की गई है और इसमें पुराने लाइसेंसधारकों को 10 फीसदी अतिरिक्त छूट मिलेगी. उन्होंने कहा कि हितधारकों के लिए नियमों का अनुपालन सुगम बनाने के लिए कई कदम उठाए गए हैं.

यह भी पढ़ें: अंबेडकर जयंती के मौके पर आज शेयर बाजार बंद रहेंगे, कमोडिटी में शाम के सत्र में कारोबार

एक महीने के भीतर लाइसेंस जारी करना हुआ संभव
मसलन, प्रमाणन की पूरी प्रक्रिया स्वचालित हो गई है, जिसमें लाइसेंस प्रदान करना, लाइसेंस का नवीनीकरण करना आदि सब कुछ अब मानक ऑनलाइन पोर्टल ई-बीआईएस के जरिए स्वचालित हो गया है, जिससे तय समयसीमा के भीतर यह काम होने लगा है. उन्होंने बताया कि इस सरलीकृत प्रक्रिया के तहत 80 फीसदी से अधिक उत्पाद आ गए हैं और इन उत्पादों के विनिर्माण के लिए एक महीने के भीतर लाइसेंस जारी करना संभव हो गया है. उन्होंने बताया कि बीआईएस के इन पहलों से 90 फीसदी से ज्यादा आवेदनों का निपटान तय समयसीमा के बीच किया जा सकता है. उन्होंने कहा कि हमारे पास लगभग 21000 भारतीय मानक हैं. इसका मकसद देश की अर्थव्यवस्था और उपभोक्ताओं के लिए विभिन्न उत्पादों बेहतर मानक तय करना है.

यह भी पढ़ें: सर्विस चार्ज के नाम पर इस बैंक ने गरीबों के जीरो बैलेंस अकाउंट से वसूले करोड़ों

नि:शुल्क उपलब्ध है भारतीय मानक
उद्योगों, एमएसएमई क्षेत्र के लाभ के लिए भारतीय मानक अब नि:शुल्क उपलब्ध हैं और ई-बीआईएस के मानक-पोर्टल से डाउनलोड किया जा सकता है. उन्होंने कहा कि विभिन्न संगठनों में चल रहे मानक तैयारी के कार्य में सामंजस्य स्थापित करने के लिए एक 'राष्ट्र एक मानक' स्कीम शुरू की गई है और आरडीएसओ, इंडियन रोड कांग्रेस और प्रतिरक्षा मंत्रालय के अंतर्गत मानकीकरण महानिदेशालय जैसे एसडीओ के साथ परामर्श की प्रक्रिया जारी है. इस मौके पर उपभोक्ता मामले विभाग की सचिव लीना नंदन ने संवाददाताओं के एक सवाल पर बताया कि सोने के गहने व कलाकृतियों पर बीआईएस हॉलमार्किंग की अनिवार्यता आगामी जून महीने में लागू हो जाएगी. कोरोना महामारी का प्रकोप बढ़ने के कारण इसे आगे बढ़ाने की संभावनाओं को लेकर पूछे गए सवाल पर उन्होंने कहा कि आभूषण विनिर्माताओं की तरफ से इस प्रकार की कोई मांग नहीं आई है. -इनपुट आईएएनएस

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 14 Apr 2021, 08:14:09 AM

For all the Latest Business News, Markets News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.