News Nation Logo
Banner

एयर इंडिया विनिवेश के लिए बिड डेडलाईन 14 दिसंबर तक बढ़ाई गई

सरकार एयर इंडिया पर भारी भरकम कर्ज की जिम्मेदारी पर भी और लचीला रुख दिखाते हुए ये फैसला लिया है.  इस नीलामी की बोली जमा करने की अंतिम तिथि 30 अक्टूबर है.

News Nation Bureau | Edited By : Ravindra Singh | Updated on: 29 Oct 2020, 07:43:15 PM
Hardeep Puri

हरदीप सिंंह पुरी (Photo Credit: फाइल )

दिल्ली:

सार्वजनिक क्षेत्र की विमानन कंपनी एयर इंडिया को खरीदने की इच्छुक कपनियों के लिए बोली लागाने की समयसीमा को 14 दिसंबर तक बढ़ा दी गई है. आपको बता दें कि कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखकर ये फैसला लिया गया है.  28 दिसंबर तक एयर इंडिया विनिवेश प्रक्रिया को पूरा करने की योजना है. एयर इंडिया विनिवेश के बिडिंग पैरामीटर में बदलाव करने का फैसला किया गया है, एंटरप्राइज वैल्यू पर बोली आमंत्रित की गई है. सरकार एयर इंडिया पर भारी भरकम कर्ज की जिम्मेदारी पर भी और लचीला रुख दिखाते हुए ये फैसला लिया है.  इस नीलामी की बोली जमा करने की अंतिम तिथि 30 अक्टूबर है.

बोली के लिए और समाय देने के साथ सरकार संभावित निवेशकों को एयर इंडिया पर 60,074 करोड़ रुपये के कर्ज के मामले में अधिक लचीलापन दिखाते हुए ये फैसला लिया है. वर्तमान निविदा दस्तावेज के अनुसार खरीदार को एयर इंडिया का एक तिहाई बोझा उठाना होगा. शेष कर्ज राशि को एक विशेष उद्देशीय निकाय के हवाले किया जायेगा. सरकार कर्ज को लेकर निवेशक के प्रति और लचीला रुख अपना सकती है और निवेशक को इस शर्त में ढील दी जा सकती है.

एयर इंडिया विशिष्ट वैकल्पिक व्यवस्था (एआईएसएएम) ने एयरलाइन बोली लगाने की समयसीमा को 14 दिसंबर तक बढ़ाने के वास्ते सहमति जता दी है. इससे संभावित निवेशकों को प्राथमिक सूचना ज्ञापन (पीआईएम) में किये जा रहे बदलावों के बारे में जानकारी हासिल करने के लिये अधिक समय मिल जायेगा. निवेश और सार्वजनिक संपत्ति प्रबंधन विभाग (दीपम) द्वारा इस साल जनवरी में जारी किये गये रुचि पत्र आमंत्रण में 31 मार्च 2019 को एयर इंडिया का कुल कर्ज 60,074 करोड़ रुपये बताया गया.

विमानन कंपनी के खरीदार को इसमें से 23,286.5 करोड़ रुपये का कर्ज अपने ऊपर लेने कीशर्त है. शेष कर्ज एयर इंडिया एसेट हाल्डिंग्स लिमिटेड (एआईएएचएल) के हवाले कर दिया जायेगा. सरकार इस राष्ट्रीय विमानन कंपनी में अपनी पूरी हिस्सेदारी बेचना चाहती है। इसमें एयर इंडिया की उसकी अनुषंगी एयर इंडिया एक्सप्रेस लिमिटेड में 100 प्रतिशत हिस्सेदारी और एयर इंडिया एसएटीएस एयरपोर्ट सविर्सिज प्रा. लि. में 50 प्रतिशत हिस्सेदारी भी शामिल है.

First Published : 29 Oct 2020, 07:43:15 PM

For all the Latest Business News, Markets News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो