News Nation Logo
क्रुज ड्रग्स केस में पिछले 2 दिनों में मुंबई में 6 ठिकानों पर छापेमारी दिल्ली में कुतुब मीनार को राष्ट्र ध्वज के रंगों से रोशनकर मनाया गया 100 करोड़ COVID टीकाकरण का जश्न 100 करोड़ COVID टीकाकरण की ऐतिहासिक उपलब्धि पर चार मीनार को राष्ट्रीय ध्वज के रंगों से रोशन किया गया देश भर में 100 स्मारकों को राष्ट्रीय ध्वज के रंगों में रोशन करने की भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण की पहल NCB ने अनन्या पांडे से करीब 2 घंटे तक पूछे सवाल, कल भी होगी पूछताछ हम एक साल के अंदर 1 लाख भर्तियां और करेंगे: शिवराज सिंह चौहान आर्यन खान की न्यायिक हिरासत फिर बढ़ी आर्यन को अब 30 अक्टूबर तक रहना होगा जेल में पश्चिम बंगाल की CM ममता बनर्जी का गोवा दौरा 28 अक्टूबर को

निवेशकों में टाटा सबसे भरोसेमंद समूह: सर्वेक्षण

निवेशकों में टाटा सबसे भरोसेमंद समूह: सर्वेक्षण

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 22 Sep 2021, 04:30:01 PM
Tata mot

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

मुंबई: इक्विटीमास्टर द्वारा किए गए एक सर्वेक्षण में टाटा समूह सबसे भरोसेमंद कॉर्पोरेट समूह के रूप में उभरा है।

हालांकि, विभिन्न कॉरपोरेट समूहों की विश्वसनीयता का आंकलन करने वाले सर्वेक्षण में पाया गया कि हीरो, जिंदल, आरपीजी समूह और बाकी कॉर्पोरेट समूहों जैसी संस्थाओं पर साक्षात्कार किए गए लोगों की कुल संख्या में से केवल 5 प्रतिशत तक ही भरोसा किया जाता है।

इंडिपेंडेंट इक्विटी रिसर्च इनिशिएटिव इक्विटीमास्टर को भारत के 17 सबसे प्रसिद्ध कॉर्पोरेट समूहों से मिलकर बनाया गया था। इसमें कुल 5,274 लोगों ने हिस्सा लिया, जो कि इक्विटीमास्टर डॉट कॉम के विजिटर हैं।

यह सर्वेक्षण इस बात की अंतरदृष्टि देता है कि क्या बड़े कॉर्पोरेट समूह निवेशकों का विश्वास अर्जित करने में सक्षम हैं और कैसे विश्वास उनकी दीर्घकालिक सफलता और विकास में एक बड़ी भूमिका निभाता है। चुनाव परिणामों ने यह भी दिखाया था कि बेहतर निवेश सीधे प्रभावी कॉर्पोरेट प्रशासन से संबंधित हैं। इसलिए, उन कंपनियों में निवेश करना हमेशा समझदारी भरा होता है जो विश्वास की भावना पैदा करती हैं।

चुनाव परिणामों के बारे में सबसे खास बात यह है कि विजेता और बाकी कॉरपोरेट समूहों के बीच बहुत बड़ा अंतर है।

टाटा समूह को कुल मतों का 66.3 प्रतिशत प्राप्त हुआ है, जो कि 2013 में किए गए इस तरह के पिछले सर्वेक्षण में मिले मतों की संख्या (31.8 प्रतिशत) से दोगुने से भी अधिक है।

153 साल पुराने समूह के बाद एवी बिड़ला समूह और मुकेश अंबानी समूह क्रमश: 5.1 प्रतिशत और 4.7 प्रतिशत मतों के साथ दूसरे और तीसरे स्थान पर हैं।

वास्तव में, टाटा समूह को छोड़कर, अन्य 16 समूहों में से कोई भी प्रतिभागियों की कुल संख्या के 5 प्रतिशत से अधिक का विश्वास जीतने में सक्षम नहीं है, हालांकि इनमें से कई समूह 2013 में इक्विटीमास्टर के पिछले सर्वेक्षण से कुछ रैंक ऊपर गए हैं।

एवी बिड़ला, गोदरेज और टीवीएस समूह 2 रैंक ऊपर उठे हैं, मुकेश अंबानी समूह 6 रैंक ऊपर और राहुल बजाज समूह, जो चौथे स्थान पर आया है, पिछले पोल से नौ रैंक ऊपर चढ़ा है।

इस साल के चुनाव परिणामों में एक और महत्वपूर्ण बदलाव यह था कि 2013 में 4.1 प्रतिशत के विरोध में केवल 2.3 प्रतिशत निवेशकों ने उपरोक्त श्रेणी में से किसी के लिए मतदान नहीं किया था।

यह बदलाव, हालांकि छोटा है, निवेशकों के भरोसे कॉर्पोरेट समूहों के प्रति खुलेपन को प्रकट करता है यदि बाद वाले ईमानदारी से इसे अर्जित करने का प्रयास करते हैं।

जिस समूह को सबसे कम वोट (0.8 प्रतिशत) मिले हैं, वह आरपीजी (राम प्रसाद गोयनका) समूह है, जो सिएट टायर्स के मालिक हैं।

परिणामों पर टिप्पणी करते हुए, इक्विटीमास्टर में अनुसंधान के सह प्रमुख राहुल शाह ने कहा, अगर हम आज कंपनी के मूल्यांकन को देखें, तो एक फर्म के मूल्य का एक बढ़ता हुआ हिस्सा सद्भावना और प्रतिष्ठा जैसे अमूर्त में रहता है और जब अमूर्त को मूर्त बनाने की बात आती है, तो विश्वास से ज्यादा महत्वपूर्ण कुछ नहीं है।

उन्होंने आगे कहा, विशेषता कंपनी के नेतृत्व से संगठन के माध्यम से उसके बाहरी हितधारकों तक प्रवाहित होती है जो अंतत: लंबी अवधि में लाभप्रदता बढ़ाती है। हालांकि, अगर ध्यान नहीं दिया जाता है, तो विश्वास की कमी का विपरीत प्रभाव हो सकता है।

इक्विटीमास्टर एक इक्विटी अनुसंधान पहल है जो भारतीय शेयर बाजारों में सूचीबद्ध कंपनियों पर राय प्रदान करती है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 22 Sep 2021, 04:30:01 PM

For all the Latest Business News, Economy News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.