News Nation Logo
Breaking

रुपये की गिरावट रोकने के लिए बड़े पैमाने पर हस्तक्षेप

रुपये की गिरावट रोकने के लिए बड़े पैमाने पर हस्तक्षेप

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 22 Dec 2021, 10:25:01 PM
Shaktikanta Da,

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

मुंबई:   भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने हाल ही में करीब 4 से 5 अरब अमेरिकी डॉलर की बिक्री के जरिए रुपये के मूल्य में तेज गिरावट को रोक दिया है। विश्लेषकों ने इसे केंद्रीय बैंक का कारगर हस्तक्षेप माना है।

रुपये को स्थिर कक्षा में रखने के लिए आरबीआई को बिचौलियों के माध्यम से अमेरिकी डॉलर बेचने या खरीदने के लिए बाजारों में प्रवेश करने के लिए जाना जाता है।

हालांकि सेकेंडरी मार्केट में एफआईआई की लगातार बिकवाली से गिरावट फिर से शुरू हो सकती है।

हाल ही में, यूएस फेड के टेपरिंग उपायों पर बढ़ती सतर्कता के साथ-साथ कोविड-19 के ओमिक्रॉन स्वरूप के डर ने निवेशकों की भावनाओं को प्रभावित किया।

विशेष रूप से, अमेरिका में सख्त तरलता नियंत्रण वैश्विक निवेशकों को भारत जैसे उभरते बाजारों से पैसा निकालने के लिए प्रेरित करता है।

बुधवार को रुपया 75.55 पर ग्रीनबैक पर बंद हुआ था।

पिछले हफ्ते रुपया साप्ताहिक आधार पर काफी कमजोर होकर 76.09 डॉलर पर बंद हुआ था।

भारतीय रुपया इस सप्ताह 20 महीने के अपने सबसे निचले स्तर पर पहुंचने के बाद स्थिर हुआ है।

एडलवाइस सिक्योरिटीज में फॉरेक्स और रेट्स के प्रमुख सजल गुप्ता ने कहा, ऐसा लगता है कि रुपये में हालिया गिरावट ओमिक्रॉन स्वरूप के कारण अति प्रतिक्रिया के रूप में शुरू हुई है।

उन्होंने कहा, पिछले सप्ताह जब रुपया 76.31 के निचले स्तर पर पहुंच गया था, आरबीआई ने बाजार में हस्तक्षेप किया था। हालांकि, आरबीआई को आगे की कार्रवाई की उम्मीद नहीं है, क्योंकि प्रवाह की तस्वीर मध्यम अवधि में काफी अनुकूल लगती है।

हाल ही में, आरबीआई द्वारा रिवर्स रेपो रेट बढ़ाए जाने से परहेज करने के बाद और फेडरल रिजर्व द्वारा अपनी टेपिंग की गति को बढ़ाने का फैसला किए जाने के बाद भी रुपया दबाव में रहा है।

घरेलू मोर्चे पर, एफआईआई हाल के दिनों में शुद्ध विक्रेता रहा है और मुद्रा की सीमित कमजोरी से पता चलता है कि आरबीआई ने अस्थिरता को रोकने के लिए सक्रिय रूप से हस्तक्षेप किया है।

मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज के फॉरेक्स एंड बुलियन एनालिस्ट गौरांग सोमैया ने कहा, आरबीआई का संदिग्ध हस्तक्षेप 4-5 अरब डॉलर का हो सकता है और बाजार सहभागियों को उम्मीद है कि मौजूदा बाजार में उतार-चढ़ाव तब तक जारी रह सकता है, जब तक कि ओमिक्रॉन वेरिएंट का डर कम न हो जाए।

उन्होंने कहा, आरबीआई द्वारा जारी किए गए नवीनतम आंकड़ों से पता चलता है कि वर्तमान रिजर्व राशि 635 अरब डॉलर से अधिक है।

एचडीएफसी सिक्योरिटीज के शोध विश्लेषक दिलीप परमार के अनुसार, आरबीआई ने एफओएमसी की बैठक के बाद तरलता और मुद्रास्फीति के पहलू को देखना शुरू कर दिया और सप्ताह की शुरुआत से उन्होंने आयातित मुद्रास्फीति को रोकने और शुरू करने के लिए डॉलर बेचकर भारी हस्तक्षेप किया हो, ऐसा हो सकता है।

उन्होंने कहा, अगले कुछ दिनों में हम नए वैश्विक संकेतों के अभाव में रुपये में 75.10 से 75.70 के बीच उतार-चढ़ाव देख सकते हैं और क्रिसमस की छुट्टी से पहले विदेशी संस्थानों की बिक्रीदर कम हो सकती है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 22 Dec 2021, 10:25:01 PM

For all the Latest Business News, Economy News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.