News Nation Logo
कोविड के खिलाफ लड़ाई में भी भारत और रूस के बीच सहयोग: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारत में 85 फीसदी पात्र आबादी को कोरोना वैक्सीन की पहली डोज लगा दी गई है: मनसुख मंडाविया दिल्ली में इस साल डेंगू से अब तक 15 मरीजों की मौत बीते 6 साल में डेंगू से मौत का सबसे बड़ा आंकड़ा शाही ईदगाह मस्जिद की जगह पर भव्य श्रीकृष्ण मंदिर के निर्माण के लिए संकल्प यज्ञ किया गया ओमिक्रोन के अलर्ट के बीच पटना में 100 विदेशियों की तलाश भारत ने न्यूजीलैंड को 372 रन से हराकर टेस्ट मैच श्रृंखला 1-0 से जीती टीम इंडिया ने घर में लगातार 14वीं टेस्ट सीरीज जीती न्यूजीलैंड पर 372 रनों से जीत रनों के लिहाज से भारत की टेस्ट मैचों में सबसे बड़ी जीत है उत्तराखंड के चमोली में देवल ब्लॉक के ब्रह्मताल ट्रेक मार्ग पर बर्फबारी हुई रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने भारत के विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर के साथ नई दिल्ली में बैठक की

केंद्र ने बैक-टू-बैक ऋण सुविधा के तहत राज्यों को 44 हजार करोड़ रुपये जारी किए

केंद्र ने बैक-टू-बैक ऋण सुविधा के तहत राज्यों को 44 हजार करोड़ रुपये जारी किए

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 28 Oct 2021, 11:45:02 PM
Rupee

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: केंद्र सरकार ने गुरुवार को कहा कि उसने जीएसटी मुआवजे के बदले एक के बाद एक ऋण सुविधा के तहत राज्य सरकारों और केंद्र शासित प्रदेशों (विधानमंडल के साथ) को 44,000 करोड़ रुपये जारी किए हैं।

वित्त मंत्रालय ने एक बयान में कहा, 115,000 करोड़ रुपये की पूर्व रिलीज को ध्यान में रखते हुए जीएसटी मुआवजे के बदले चालू वित्तवर्ष में बैक-टू-बैक ऋण के रूप में जारी की गई कुल राशि 159,000 करोड़ रुपये है।

यह रिलीज वास्तविक उपकर संग्रह से हर 2 महीने में जारी किए जाने वाले सामान्य जीएसटी मुआवजे के अतिरिक्त है।

मंत्रालय के अनुसार, 43वीं जीएसटी परिषद की बैठक के बाद यह निर्णय लिया गया कि केंद्र सरकार 1.59 लाख करोड़ रुपये उधार लेगी और इसे राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को मुआवजा निधि में अपर्याप्त राशि रहने पर बैक-टू-बैक आधार पर जारी करेगी, ताकि संसाधनों की कमी को पूरा किया जा सके।

यह राशि वित्तवर्ष 2020-21 में इसी तरह की सुविधा के लिए अपनाए गए सिद्धांतों के अनुसार है, जहां इसी तरह की व्यवस्था के तहत राज्यों को 1.10 लाख करोड़ रुपये की राशि जारी की गई थी।

1.59 लाख करोड़ रुपये की यह राशि 1 लाख करोड़ रुपये (उपकर संग्रह के आधार पर) से अधिक मुआवजे के ऊपर और ऊपर होगी, जो कि इस वित्तीय वर्ष के दौरान राज्यों या केंद्र शासित प्रदेशों को विधायिका के लिए जारी किए जाने का अनुमान है। यह राशि वित्तवर्ष 2021-22 में मिलने वाले जीएसटी मुआवजे की राशि से 2.59 लाख करोड़ रुपये अधिक होने की उम्मीद है।

बयान के अनुसार, सभी पात्र राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों (विधायिका के साथ) ने बैक-टू-बैक ऋण सुविधा के तहत मुआवजे की कमी के वित्तपोषण की व्यवस्था के लिए सहमति व्यक्त की है।

अभी किए जा रहे 44,000 करोड़ रुपये की रिलीज को चालू वित्तवर्ष में जारी 5 साल की प्रतिभूतियों में 5.69 प्रतिशत की भारित औसत उपज पर भारत सरकार के उधार से वित्त पोषित किया गया है। केंद्र सरकार द्वारा कोई अतिरिक्त बाजार उधार की परिकल्पना नहीं की गई है।

उम्मीद है कि इस रिलीज से राज्यों या केंद्र शासित प्रदेशों को अन्य चीजों के अलावा अपने सार्वजनिक व्यय की योजना बनाने, स्वास्थ्य बुनियादी ढांचे में सुधार और बुनियादी ढांचा परियोजनाओं को शुरू करने में मदद मिलेगी।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 28 Oct 2021, 11:45:02 PM

For all the Latest Business News, Economy News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.