News Nation Logo
Banner

अप्रैल में कोविड की दूसरी लहर के ब्लूज के बाद से निफ्टी 20 फीसदी बढ़ा

अप्रैल में कोविड की दूसरी लहर के ब्लूज के बाद से निफ्टी 20 फीसदी बढ़ा

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 05 Sep 2021, 08:55:01 PM
Nifty urge

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

मुंबई: भारतीय शेयर बाजार न केवल देर से तेजी पर है, बल्कि यह नई ऊंचाइयों को छू रहा है। निफ्टी 50, जिसने 17,000 के स्तर को पार कर लिया है, अप्रैल के मध्य से लगभग 20 प्रतिशत की वृद्धि देखी गई है।

जब देश के कई हिस्सों में कोविड-19 की दूसरी लहर ने कहर बरपाया था और तालाबंदी और कर्फ्यू फिर से लगाया गया था।

देश की वित्तीय राजधानी, मुंबई, जिसमें बेलवेदर स्टॉक एक्सचेंज हैं, कोविड के मामलों की बढ़ती संख्या के कारण 14 अप्रैल से कर्फ्यू के तहत आ गया। दिल्ली को भी 20 अप्रैल से बंद कर दिया गया था।

हालांकि, 13 अप्रैल, 2021 को 14,504.80 अंक के बंद स्तर के बाद से निफ्टी 50 19.4 फीसदी चढ़ा है। शुक्रवार को निफ्टी 17,323.60 अंक पर बंद हुआ, जो इसका अब तक का उच्चतम स्तर है।

अपने पिछले कारोबारी सत्र में इसने 17,340.10 अंक के अपने सर्वकालिक उच्च स्तर को भी छुआ।

31 अगस्त को, इसने अपने इतिहास में पहली बार 17,000 का आंकड़ा छुआ। यह निफ्टी 50 के लिए सबसे तेज 1,000 अंकों की बढ़त थी क्योंकि इसने केवल 28 दिनों में 16,000 से 17,000 तक की यात्रा को कवर किया।

घरेलू शेयर बाजार में हालिया उछाल काफी हद तक लॉकडाउन और कर्फ्यू के उपायों में धीरे-धीरे ढील देने और आर्थिक गतिविधियों में सुधार के कारण हुआ है।

वित्तवर्ष 2022 की अप्रैल-जून तिमाही के लिए भारत की जीडीपी विकास दर कम आधार और त्वरित आर्थिक गतिविधियों के कारण 20.1 प्रतिशत रहने का अनुमान है। 2020 में, महामारी ने देश के सकल घरेलू उत्पाद को पस्त कर दिया था, जो कि वित्तवर्ष 21 के दौरान 24.4 प्रतिशत तक सिकुड़ गया।

इसके अलावा, कोविड के घटते प्रभाव, साथ ही त्वरित टीकाकरण अभियान ने अगस्त में भारत के सेवाओं के उत्पादन की वृद्धि दर को बढ़ा दिया है, जो आईएचएस मार्केट इंडिया सर्विसेज पीएमआई ने शुक्रवार को दिखाया। अगस्त में मौसमी रूप से समायोजित इंडिया सर्विसेज बिजनेस एक्टिविटी इंडेक्स बढ़कर 56.7 (इंडेक्स रीडिंग) हो गया, जबकि जुलाई में यह 50 था।

जीएसटी संग्रह भी मजबूत रहा है और लगातार दूसरे महीने 1 लाख करोड़ रुपये के मनोवैज्ञानिक निशान से ऊपर रहा, अगस्त 2021 में 1,12,020 करोड़ रुपये।

अप्रैल-मई में महामारी के प्रभाव के बाद विदेशी धन का प्रवाह भी ठीक हो रहा है, जिससे भारतीय इक्विटी को और बढ़ावा मिल सकता है।

एनएसडीएल के आंकड़ों के मुताबिक, सितंबर के पहले तीन कारोबारी दिनों में इक्विटी में शुद्ध विदेशी पोर्टफोलियो निवेश 4,787 करोड़ रुपये रहा।

शुक्रवार को निफ्टी 50 अपने पिछले बंद से 89.45 अंक या 0.52 फीसदी की तेजी के साथ 17,323.60 पर बंद हुआ था।

बीएसई सेंसेक्स भी 58,129.95 के अपने रिकॉर्ड उच्च स्तर पर बंद हुआ, जो अपने पिछले बंद से 277.41 अंक या 0.48 प्रतिशत अधिक है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 05 Sep 2021, 08:55:01 PM

For all the Latest Business News, Economy News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.