News Nation Logo
दिल्ली कैबिनेट का बड़ा फैसला, दिल्ली में पेट्रोल 8 रुपए सस्ता आईआरएस अधिकारी विवेक जौहरी ने CBIC के अध्यक्ष के रूप में कार्यभार संभाला निलंबित 12 विपक्षी सदस्य (राज्यसभा) निलंबन के विरोध में संसद में गांधी प्रतिमा के सामने धरने पर बैठे प्रश्नकाल के दौरान कांग्रेस और द्रमुक सांसदों ने लोकसभा से वाक आउट किया दिसंबर के पहले दिन ही महंगाई की मार, महंगा हो गया कॉमर्श‍ियल LPG सिलेंडर कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन पर आज लोकसभा में होगी चर्चा UPTET पेपर लीक मामले में परीक्षा नियामक प्राधिकारी संजय उपाध्याय गिरफ्तार संसद भवन के कमरा नंबर 59 में लगी आग, बुझाने की कोशिश जारी पुलवामा एनकाउंटर में दो आतंकी ढेर, सर्च ऑपरेशन जारी

मप्र में आर्थिक स्थिति सुधारने 100 खनिज ब्लॉक्स की नीलामी की योजना

मप्र में आर्थिक स्थिति सुधारने 100 खनिज ब्लॉक्स की नीलामी की योजना

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 09 Jul 2021, 07:00:01 PM
New Delhi

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

भोपाल: मध्य प्रदेश की कोरोना संक्रमण के कारण आर्थिक स्थिति प्रभावित हुई है, इसे दुरुस्त करने के राज्य सरकार के प्रयास जारी है। इसी क्रम में सरकार ने आगामी वर्ष 2022 तक सौ से अधिक खनिज ब्लाक्स की नीलामी की योजना बनाई है।

केंद्रीय खनिज मंत्री प्रहलाद जोशी से प्रदेश के खनिज संबंधित विषयों पर वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कोविड से अर्थ-व्यवस्था प्रभावित हुई है। खनिज गतिविधियां अर्थ-व्यवस्था को गति देती हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आत्म-निर्भर भारत के संकल्प को पूरा करने में अधिकतम सहयोग करना हमारा संकल्प है। प्रदेश में माइनिंग गतिविधियों को गति देने के लिए हर संभव प्रयास किये जायेंगे। हमारा प्रयास होगा कि वर्ष 2022 तक प्रदेश में एक सौ से अधिक खनिज ब्लाक्स की नीलामी हो।

केन्द्रीय मंत्री प्रहलाद जोशी ने कहा कि खनिज गतिविधियां मूलभूत अर्थ-व्यवस्था में योगदान देती हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मंशा है कि आत्म-निर्भर भारत के निर्माण के लिए खनिज क्षेत्र में प्रक्रियाओं को सरलीकृत कर खनिज ब्लाक्स की नीलामी में तेजी लाई जाए। इसके लिये विभिन्न कानूनों में आवश्यक सुधार भी किया गया है। ईज ऑफ डूइंग बिजनेस के अंतर्गत कार्यवाही जारी है।

मुख्यमंत्री चैहान ने कहा कि प्रदेश में कोयले के भंडार प्रचुर मात्रा में हैं। प्रदेश में कोयला खनन का कार्य भारत सरकार की सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों द्वारा किया जा रहा है। मध्यप्रदेश में इन कंपनियों को कोल गैसीफिकेशन और लिक्विडिफिकेशन के लिए कार्य करने के निर्देश दिए जाएं। इससे पर्यावरण संरक्षण और ऊर्जा के स्रोत को समृद्ध करने में मदद मिलेगी।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि भारतीय भू-वैज्ञानिक सर्वेक्षण विभाग द्वारा बैतूल और छतरपुर जिले में दुर्लभ खनिजों की खोज के लिए सर्वे जारी है। यह कार्य समय-सीमा में पूर्ण किया जाये।

बैठक में जानकारी दी गई कि प्रदेश में मुख्य खनिज की 831 खदानों से वर्ष 2020-21 में 2908 करोड़ रुपए का राजस्व प्राप्त हुआ। गौण खनिज की 6338 खदानों से वर्ष 2020-21 में 1538 करोड़ रुपए का राजस्व प्राप्त हुआ। आगामी वर्षों में नीलाम होने वाले खनिज ब्लाक्स से 50 साल तक लगभग 30 हजार करोड़ का राजस्व प्राप्त करने का लक्ष्य है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 09 Jul 2021, 07:00:01 PM

For all the Latest Business News, Economy News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.