News Nation Logo

नैस्कॉम ने छंटनी की ख़बरों का किया खंडन, सायबर हमलों को बताया 'वेक अप कॉल'

आईटी बॉडी नेशनल एसोसिएशन ऑफ सॉफ्टवेयर एंड सर्विस कंपनीज़ (नैस्कॉम) ने इंडस्ट्री में छंटनी की ख़बरों का खंडन किया है। नैस्कॉम के चेयरमेन रमन रॉय ने इन ख़बरों को सिरे से खारिज किया है।

News Nation Bureau | Edited By : Shivani Bansal | Updated on: 18 May 2017, 02:52:33 PM
नैस्कॉम (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

आईटी बॉडी नेशनल एसोसिएशन ऑफ सॉफ्टवेयर एंड सर्विस कंपनीज़ (नैस्कॉम) ने इंडस्ट्री में छंटनी की ख़बरों का खंडन किया है। नैस्कॉम के चेयरमेन रमन रॉय ने इन ख़बरों को सिरे से खारिज किया है।

उन्होंने कहा है कि यह सब सच से परे है और गलत तरीके से पेश किया जा रहा है। नैस्कॉम के मुताबिक 2016-17 में आईटी कंपनियों ने 1.73 लाख लोगों को हायर किया है। जबकि वित्त वर्ष 2016-17 की चौथाही तिमाही में 50,000 लोगो को हायर किया गया।

नैस्कॉम के चेयरमेन ने न्यूज़ स्टेट के संवाददाता से बात करते हुए कहा है कि इंडस्ट्री वित्त वर्ष 2018 में 1.55 लाख लोगों को हायर करने की तैयारी में है। इसके अलावा हाल ही में साइबर हमलों वॉनाक्राई पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि, 'भारत पर इसका असर नहीं पड़ेगा हालांकि यह एक वेक अप कॉल ज़रुर है।'

आईटी सेक्टर में छंटनी का दौर 2 साल रहेगा जारी, इंडस्ट्री के जानकारों की राय

बता दें कि हाल ही में रैनसमवेयर वॉनाक्राई वायरस अटैक ने दुनिया के 150 देशों में तबाही मचा दी थी और लाखों कंप्यूटरों को अपना शिकार बनाया था। ख़बरों के मुताबिक भारत इस वायरस अटैक का निशाना बनने वाला तीसरा सबसे बड़ा देश बना था।

रैनसमवेयर वॉनाक्राई ग्लोबल साइबर अटैक पर क्या है भारत का रुख़? क्या है यह और कैसे बचें?

नैस्कॉम के चेयरमैन ने बताया कि वायरस अटैक को लेकर पहले ही केंद्र सरकार को चेताया जा चुका है। उन्होंने कहा कि भारत सरकार को पहले ही साइबर सिक्योरिटी के क्षेत्र के लिए करीब 10 लाख काबिल लोगों की ज़रुरत बताई थी जबकि अभी इस क्षेत्र में मात्र 1 लाख लोग ही कार्यरत है।

यह भी पढ़ें: रजनीकांत अपने से 36 साल छोटी हुमा कुरैशी के साथ इस फिल्म में फरमाएंगे इश्क

IPL से जुड़ी ख़बरों को पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 18 May 2017, 02:24:00 PM

For all the Latest Business News, Economy News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.