News Nation Logo

मूडीज ने भारत के वृद्धि दर के अनुमान को बढ़ाकर ऋणात्मक 10.6 फीसदी किया

मूडीज ने कहा कि सरकार द्वारा घोषित ताजा प्रोत्साहनों में विनिर्माण और रोजगार सृजन पर खासतौर से ध्यान दिया गया है, और दीर्घावधि की वृद्धि पर फोकस है.

Bhasha | Edited By : Dhirendra Kumar | Updated on: 19 Nov 2020, 02:26:59 PM
Moodys Investors Service

मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस (Moodys Investors Service) (Photo Credit: newsnation)

नई दिल्ली:

मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस (Moody's Investors Service) ने गुरुवार को चालू वित्त वर्ष के लिए भारत के वृद्धि (GDP) अनुमान को बढ़ाकर ऋणात्मक 10.6 प्रतिशत कर दिया, जबकि उसके पूर्व अनुमान के मुताबिक यह आंकड़ा ऋणात्मक 11.5 प्रतिशत था. मूडीज ने कहा कि सरकार द्वारा घोषित ताजा प्रोत्साहनों में विनिर्माण और रोजगार सृजन पर खासतौर से ध्यान दिया गया है, और दीर्घावधि की वृद्धि पर फोकस है.

यह भी पढ़ें: PM SVANidhi Scheme: 14 लाख से अधिक लोग उठा चुके हैं फायदा, स्कीम के बारे में जानें सबकुछ

पिछले हफ्ते सरकार ने किया था 2.7 लाख करोड़ रुपये के वित्तीय पैकेज का ऐलान
सरकार ने पिछले हफ्ते 2.7 लाख करोड़ रुपये के वित्तीय पैकेज की घोषणा की थी. मूडीज ने कहा कि ताजा उपायों का मकसद भारत के विनिर्माण क्षेत्र की प्रतिस्पर्धात्मकता को बढ़ाना और रोजगार का सृजन करना है. इसके साथ ही बुनियादी ढांचे में निवेश, ऋण उपलब्धता और तनावग्रस्त क्षेत्रों की मदद पर भी ध्यान केंद्रित किया गया है. इसमें आगे कहा कि इन उपायों का वृद्धि पूर्वानुमानों पर सकारात्मक असर पड़ा है. 

यह भी पढ़ें: यूको बैंक के ग्राहकों के लिए बड़ी खुशखबरी, इतने फीसद सस्ता कर दिया होम लोन

मूडीज ने कहा कि हमने वित्त वर्ष 2020 (अप्रैल 2020-मार्च 2021) के लिए अपने वास्तविक, मुद्रास्फीति समायोजित जीडीपी पूर्वानुमान को संशोधित कर ऋणात्मक 11.5 प्रतिशत से घटाकर ऋणात्मक 10.6 प्रतिशत कर दिया है. मूडीज के मुताबिक अगले वित्त वर्ष 2021-22 के लिए वृद्धि का अनुमान 10.8 प्रतिशत है, जबकि पहले इसके 10.6 प्रतिशत रहने का अनुमान जताया गया था.

First Published : 19 Nov 2020, 02:23:37 PM

For all the Latest Business News, Economy News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.