News Nation Logo

नए ऑर्डरों की कमी से मैन्युफैक्चरिंग क्षेत्र की तेजी को लगा ब्रेक: PIM

मांग में धीमी बढ़ोतरी के कारण देश के निर्माण क्षेत्र के उत्पादन की गति अगस्त में घटी है, क्योंकि अर्थव्यवस्था को लगातार प्रतिकूल थपेड़ों का सामना करना पड़ रहा है।

IANS | Edited By : Nitu Pandey | Updated on: 03 Sep 2018, 10:17:59 PM
विनिर्माण क्षेत्र (फाइल)

नई दिल्ली:

मांग में धीमी बढ़ोतरी के कारण देश के निर्माण क्षेत्र के उत्पादन की गति अगस्त में घटी है, क्योंकि अर्थव्यवस्था को लगातार प्रतिकूल थपेड़ों का सामना करना पड़ रहा है। प्रमुख आर्थिक आंकड़ों से सोमवार को यह जानकारी मिली।निक्केई इंडिया मैनुफैक्चरिंग पर्चेजिंग सूचकांक (पीएमआई) के मुताबिक विनिर्माण क्षेत्र (मैन्युफैक्चरिंग क्षेत्र) का प्रदर्शन अगस्त में तीन महीनों में सबसे कम 51.7 पर रहा, जबकि जुलाई में यह 52.3 और जून में 53.1 पर था। यह सूचकांक विनिर्माण क्षेत्र (manufacturing) के प्रदर्शन का समग्र सूचक है।

इस सूचकांक में 50 से ऊपर का अंक तेजी का तथा 50 से कम का अंक मंदी का संकेत है।

और पढ़ें : अब तक के सबसे निचले स्तर पर पहुंचा रुपया, एक डॉलर 71 रु के पार

आईएसएच मार्केट की अर्थशास्त्री और रिपोर्ट की लेखिका आशना डोढिया ने कहा, 'भारतीय निर्माताओं ने अगले 12 महीनों के लिए उत्पादन के लिए सकारात्मक अनुमान बनाए रखा है, लेकिन अगस्त में इसकी तेजी में गिरावट दर्ज की गई है।'

उन्होंने कहा, 'दरअसल, अर्थव्यवस्था के सामने आने वाली कुछ प्रमुख चुनौतियों में वैश्विक स्तर पर कच्चे तेल की बढ़ती कीमतें, मौद्रिक नीति में सख्ती और उभरते बाजारों से पूंजी की आमद में कमी शामिल है।'

हालांकि वैश्विक व्यापार में तनाव के बावजूद फरवरी से विदेशी मांग में तेजी दर्ज की जा रही है।

डोढिया ने कहा, 'पीएमआई के आंकड़ों से पता चलता है कि भारतीय सामानों की बाहरी देशों में मांग मजबूत है और निर्यात के नए ऑर्डर्स में फरवरी के बाद से तेजी देखी जा रही है।'

और पढ़ें : GST के बाद उबर रहा मैन्युफैक्चरिंग क्षेत्र, सितंबर में दर्ज़ किया गया सुधार

First Published : 03 Sep 2018, 10:17:54 PM

For all the Latest Business News, Economy News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.