News Nation Logo
Banner

चार साल में 68 फीसदी बढ़े करोड़पति करदाता, ITR फाइल करने वालों की संख्या भी 80 फीसदी बढ़ी: CBDT

CBDT चेयरमैन सुशील चंद्रा ने बताया कि वित्त वर्ष 2017-18 के दौरान डायरेक्ट टैक्स-जीडीपी अनुपात (5.98 फीसदी) पिछले 10 सालों में सबसे अच्छा रहा है.

News Nation Bureau | Edited By : Deepak Kumar | Updated on: 22 Oct 2018, 11:14:12 PM
सुशील चंद्रा, CBDT चेयरमैन (ANI)

नई दिल्ली:

आयकर विभाग ने सोमवार को बताया कि पिछले चार साल में करोड़पति आयकर दाताओं की संख्या में 68 फीसदी का इजाफा हुआ है. केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBDT) ने बताया कि पिछले चार वित्तीय वर्षो के दौरान आयकर रिटर्न दाखिल करने वालों की संख्या में 80 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है. CBDT चेयरमैन सुशील चंद्रा ने बताया कि वित्त वर्ष 2017-18 के दौरान डायरेक्ट टैक्स-जीडीपी अनुपात (5.98 फीसदी) पिछले 10 सालों में सबसे अच्छा रहा है. 

CBDT ने एक विज्ञप्ति में बताया, 'आलोच्य अवधि में एक करोड़ से अधिक आय वाले करदाताओं की संख्या 48,416 से बढ़कर 81,344 हो गई." इस प्रकार करोड़पति करदाताओं की संख्या में 68 फीसदी का इजाफा हुआ.

CBDT के अनुसार, आकलन वर्ष 2014-15 में 88,649 करदाताओं (कॉरपोरेट, फर्म, अविभाजित हिंदू परिवार समेत अन्य करदाता) ने अपनी आय एक करोड़ से अधिक घोषित की थी, जबकि आकलन वर्ष 2017-18 में 1,40,139 करतादाओं ने एक करोड़ से अधिक आय का खुलासा किया है, जोकि 60 फीसदी वृद्धि दर्शाता है. 

आयकर विभाग ने बताया कि पिछले चार साल में रिटर्न दाखिले में 80 फीसदी से ज्यादा का इजाफा हुआ है. 

बयान के अनुसार, वर्ष 2013-14 में जहां 3.79 करोड़ रिटर्न दाखिल किए गए थे, वहां 2017-18 में 6.85 करोड़ रिटर्न दाखिल किए गए हैं. 

CBDT ने यह भी बताया कि पिछले तीन साल में वेतनभोगी, गैर-वेतनभोगी और कॉरपोरेट करदाताओं की औसत आय में वृद्धि हुई है. 

वेतनभोगी करदाताओं की संख्या आकलन वर्ष 2014-15 में 1.70 करोड़ थी जो वर्ष 2017-18 में बढ़कर 2.33 करोड़ हो गई. इस तरह तीन साल में वेतनभोगी करदाताओं की तादाद में 37 फीसदी का इजाफा हुआ. 

वेतनभोगी करदाताओं की औसत आय 5.76 लाख रुपये से 19 फीसदी बढ़कर 6.84 लाख रुपये हो गई. 

गैर-वेतनभोगी करदाताओं की संख्या इन तीन वर्षो में 1.95 करोड़ से बढ़कर 2.33 करोड़ हो गई और उनकी औसत आय 4.11 लाख रुपये से 27 फीसदी बढ़कर 5.23 लाख रुपये हो गई है. 

कॉरपोरेट करदाताओं की संख्या 2014-15 में 32.28 लाख थी, जो 2017-18 में बढ़कर 49.95 लाख हो गई. इसमें 55 फीसदी का इजाफा हुआ. 

CBDT के अध्यक्ष सुशील चंद्र ने कहा कि विभाग यह सुनिश्चित करेगा कि ईमानदार करदाताओं को सुविधा मिले जबकि करचोरी करने वालों के खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई की जाएगी.

उन्होंने कहा, "कर चोरी रोकने के लिए हम कई सारे डाटा एनालिटिक्स और घुसपैठ रोकने के तरीकों का उपयोग कर रहे हैं. विभाग करदाताओं के लिए ज्यादा से ज्यादा सहूलियत और पारदर्शिता लाने को प्रतिबद्ध है."

और पढ़ें- हरे निशान के साथ खुले शेयर बाजार, सेंसेक्स 100 और निफ्टी 10 हजार 300 के पार

CBDT के अनुसार कर रिटर्न दाखिल करने वाले व्यक्तियों की संख्या भी 2013-14 के 3.31 करोड़ से 65 फीसदी बढ़कर 2017-18 में 5.44 करोड़ हो गई. 

First Published : 22 Oct 2018, 11:13:36 PM

For all the Latest Business News, Economy News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.