News Nation Logo
Banner

आईडीबीआई बैंक-हीरा व्यापारी समूह मुद्दा : परेशान एआईबीओए ने आरबीआई जांच की मांग की

आईडीबीआई बैंक-हीरा व्यापारी समूह मुद्दा : परेशान एआईबीओए ने आरबीआई जांच की मांग की

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 22 Dec 2021, 09:05:02 PM
IDBI Bank

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

मुंबई:   एक महत्वपूर्ण घटनाक्रम में शक्तिशाली ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर्स एसोसिएशन (एआईबीओए) ने बुधवार को भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) से आईडीबीआई बैंक लिमिटेड द्वारा हाल ही में एक हीरा व्यापारी समूह के ऋण चूक के खुलासे की जांच की मांग की।

एआईबीओए के महासचिव एस. नागराजन ने कहा है कि आईडीबीआई बैंक लिमिटेड द्वारा विलफुल डिफॉल्टर हीरा व्यापारी संघवी एक्सपोर्ट्स इंटरनेशनल प्राइवेट लिमिटेड, इसकी समूह कंपनियों, कारखानों, कार्यालय के के अलावा प्रमोटरों/निदेशकों/गारंटरों को सार्वजनिक नोटिस जारी किए जाने से बैंक अधिकारी गंभीर रूप से परेशान हैं।

आरबीआई गवर्नर को लिखे पत्र में बताया गया है कि कैसे आईडीबीआई बैंक लिमिटेड के पहले सार्वजनिक नोटिस (दिनांक 19 दिसंबर) में 6,700 करोड़ रुपये से अधिक की बड़ी राशि, साथ ही लगभग 1.20 करोड़ रुपये के बराबर विदेशी मुद्रा (यूएसडी) ऋण का उल्लेख किया गया था।

इस मुद्दे को पहली बार आईएएनएस (20-21 दिसंबर) ने उजागर किया गया था। नागराजन ने कहा, इससे पहले, बैंक ऑफ इंडिया एक कंसोर्टियम लीडर के रूप में 2018 में 468 करोड़ रुपये के ऋण चुकाने में विफल रहे हीरा व्यापारी समूह की संपत्ति पर कब्जा कर लिया था।

उन्होंने कहा, विलफुल डिफॉल्टर को पंजाब नेशनल बैंक घोटाले के कुख्यात आरोपी नीरव मोदी जैसी कार्रवाई नहीं दोहराई जानी चाहिए। यह भी दिलचस्प है कि 2018 में ही एक अन्य सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक द्वारा वसूली का कदम उठाया गया था, तो उस घटनाक्रम से आईडीबीआई बैंक कैसे अनजान था।

वरिष्ठ बैंकिंग पेशेवर ने बताया कि बाद में आईडीबीआई बैंक ने बीएसई और एनएसई को सूचित किया कि इसमें त्रुटियां हैं और ऋण खाता पूरी तरह से केवल 16.72 करोड़ रुपये के एनपीए के साथ प्रदान किया गया है।

नागराजन ने आग्रह किया, विभिन्न प्राधिकरणों के समक्ष आईडीबीआई बैंक लिमिटेड का विरोधाभासी रुख निश्चित रूप से पेचीदा है और बड़े पैमाने पर जनता को तथ्यात्मक स्थिति से अवगत कराने की जरूरत है, जो प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से शेयर बाजार के संचालन में शामिल है।

घटनाक्रम और आईडीबीआई बैंक लिमिटेड के रुख को देखते हुए नागरिकों के सर्वोत्तम हित में एआईबीओए ने आरबीआई से आईडीबीआई बैंक में मामलों की एक स्वतंत्र जांच शुरू करने का आह्वान किया।

यह उन नागरिकों के लाभ के लिए होगा, जो अपनी पॉलिसियों के लिए एलआईसी को प्रीमियम का भुगतान भी कर रहे हैं और भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) द्वारा अर्जित लाभ को पॉलिसीधारकों को बोनस के रूप में पारित किया जाना चाहिए।

एआईबीओए के 2-पेजर ने कहा कि केंद्र ने एलआईसी को आईडीबीआई बैंक में 51 प्रतिशत हिस्सेदारी हासिल करने का निर्देश दिया था, जिसमें भारत सरकार की हिस्सेदारी 46 प्रतिशत है।

इस बीच, बैंकिंग सर्किलों ने 21 दिसंबर को आईडीबीआई बैंक के स्पष्टीकरण को अपने सार्वजनिक नोटिस में चौंकाने वाली, भ्रामक और गलत जानकारी का उल्लेख किए बिना स्पष्ट रूप से बेईमानी मानकर खारिज कर दिया और संबंधित एजेंसियों द्वारा सटीक सच्चाई का खुलासा किए जाने के लिए अलग से जांच की मांग की।

हालांकि, आईडीबीआई बैंक के सूत्रों का कहना है कि सार्वजनिक नोटिस (19 दिसंबर) में गड़बड़ी एक वास्तविक त्रुटि थी, हालांकि नियामक फाइलिंग (20 दिसंबर) के बाद जनता में घोटाले की विपरीत धारणा बनाई गई थी। ताजा सार्वजनिक नोटिस (21 दिसंबर), लेकिन उपचारात्मक उपाय शुरू किए जा रहे हैं।

एआईबीओए ने आरबीआई गवर्नर को एलआईसी चेयरमैन, आईडीबीआई बैंक के एमडी और सीईओ, सेबी के चेयरमैन, बीएसई और एनएसई को लिखे पत्र की प्रतियां भेजी हैं। एसोसिएशन ने इस मामले में आगे की कार्रवाई के भी संकेत दिए हैं।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 22 Dec 2021, 09:05:02 PM

For all the Latest Business News, Economy News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.