News Nation Logo
Breaking
पहले बड़े मंगल के मौके पर लखनऊ में बजरंगबली के मंदिरों पर दर्शनार्थियों की भीड़ मैरिटल रेप का मामला SC पहुंचा, याचिकाकर्ता खुशबू सैफी ने दिल्ली HC के फैसले को SC में चुनौती दी मुंबई : कार्तिक चिदंबरम और उनसे जुडे ठिकानों पर सीबीआई की छापेमारी दिल्ली : कुतुबमीनार के कुव्वुतुल इस्लाम मस्जिद मामले की याचिका पर साकेत कोर्ट में सुनवाई टली मथुरा जिला अदालत में एक और याचिका, शाही ईदगाह मस्जिद को सील करने की मांग दाऊद के करीबी और 1993 मुंबई धमाकों के वॉन्टेड आरोपियों को गुजरात ATS ने पकड़ा हरिद्वार हेट स्पीच मामला : जितेंद्र नारायण सिंह त्यागी उर्फ़ वसिम रिज़वी को 3 महीने की अंतरिम जमानत जम्मू : म्यूनिसिपल कॉरपोरेशन में गैर कानूनी लाउडस्पीकर बैन के प्रस्ताव के पारित होने पर हंगामा चिंतन शिविर के बाद हरियाणा कांग्रेस की कोर टीम आज शाम राहुल गांधी से करेगी मुलाकात वाराणसी कोर्ट में आज ज्ञानवापी सर्वे रिपोर्ट पेश नही होगी, तीन दिन का और समय मांगा जाएगा राजस्थान : पुलिस कांस्टेबल भर्ती में 14 मई की द्वितीय पारी की परीक्षा दोबारा ली जाएगी जम्मू कश्मीर : राजौरी इलाके के कई वन क्षेत्रों में भीषण आग, बुझाने में जुटे फायर टेंडर्स
Banner

उच्च राजकोषीय खर्च, खपत में सुधार ने दूसरी तिमाही में भारत की जीडीपी को 8 प्रतिशत के पार पहुंचाया (लीड-2)

उच्च राजकोषीय खर्च, खपत में सुधार ने दूसरी तिमाही में भारत की जीडीपी को 8 प्रतिशत के पार पहुंचाया (लीड-2)

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 30 Nov 2021, 09:40:01 PM
Higher fical

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली:   उच्च केंद्रीय वित्तीय खर्च के साथ-साथ खपत में सुधार और बेहतर मानसून के मौसम ने दूसरी तिमाही में भारत की सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की वृद्धि दर को साल-दर-साल आधार पर 8.4 प्रतिशत तक बढ़ा दिया है।

इसके अलावा, रुकी हुई मांग, उच्च निर्यात के साथ-साथ सेवा गतिविधियों में वृद्धि के साथ-साथ गतिशीलता में और सुधार के कारण अपट्रेंड को समर्थन मिला है।

त्वरित टीकाकरण अभियान ने भी इस साल-दर-साल वृद्धि में एक भूमिका निभाई है, क्योंकि इसने उपभोक्ता भावनाओं को उज्‍जवल किया है।

केंद्र सरकार ने मंगलवार को वित्त वर्ष 2021-22 में दूसरी तिमाही के लिए सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के आंकड़ों को जारी किया।

जुलाई-सितंबर तिमाही में देश की जीडीपी में सुधार एक अच्छा संकेत कहा जा सकता है। हालांकि विशेषज्ञों की मानें तो एक साल पहले की रिकॉर्ड गिरावट की वजह से कम आधार इसकी प्रमुख वजह रही है। इसके साथ मैन्युफैक्च रिंग और कंस्ट्रक्शन सेक्टर में भी रिकवरी हुई है और मानसून सीजन भी बेहतर रहा है, जिसका इस पर सकारात्मक असर पड़ा है।

पिछले वित्त वर्ष की इसी अवधि के दौरान भारत की जीडीपी विकास दर में 7.4 प्रतिशत की गिरावट आई थी।

क्रमिक आधार पर, वित्त वर्ष 2022 की दूसरी तिमाही के दौरान सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि दर वित्त वर्ष 2022 की पहली तिमाही में 20.1 प्रतिशत दर्ज की गई थी।

2021-22 में जीडीपी ऐट कॉन्स्टैंट प्राइसेज 35.73 लाख करोड़ रुपये रहा है। इससे पहले 2020-21 की दूसरी तिमाही में यह आंकड़ा 32.97 करोड़ रुपये पर रहा था।

राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (एनएसओ) ने अपने वित्त वर्ष 2022 की दूसरी तिमाही के जीडीपी अनुमान में यह जानकारी दी है। बयान के अनुसार, देश की जीडीपी दूसरी तिमाही (जुलाई से सितंबर) में 8.4 प्रतिशत दर्ज की गई है।

बता दें कि अधिकतर विशेषज्ञों और व्यावसायिक जगत से जुड़ी एजेंसियों ने दूसरी तिमाही में जीडीपी ग्रोथ 7.5 प्रतिशत और 8.5 प्रतिशत के बीच रहने का अनुमान जताया था।

बयान के अनुसार, 2021-22 की दूसरी तिमाही में मूल कीमतों पर तिमाही जीवीए 32.89 लाख करोड़ रुपये होने का अनुमान है, जबकि 2020-21 की दूसरी तिमाही में यह 30.32 लाख करोड़ रुपये था, जो कि 8.5 प्रतिशत की वृद्धि दर्शाता है।

जीवीए में कर शामिल हैं, लेकिन इसमें सब्सिडी शामिल नहीं है।

अर्थशास्त्रियों के एक सर्वेक्षण में, आईएएनएस ने 29 नवंबर को भविष्यवाणी की थी कि खपत में सुधार के आधार पर, भारत की जीडीपी वित्त वर्ष 2022 की दूसरी तिमाही में 7 से 9 प्रतिशत के बीच बढ़ने की उम्मीद है।

वर्ष-दर-वर्ष आधार पर, लोक प्रशासन, रक्षा और अन्य सेवाओं पर व्यय में तेज वृद्धि हुई, जिसमें पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में (-) 9.2 प्रतिशत से 17.4 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई।

2021-22 के लिए दूसरी तिमाही की जीवीए के साथ कृषि, वानिकी और मछली पकड़ने के क्षेत्र में 4.5 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई है, जबकि 2020-21 की इसी तिमाही में 3 प्रतिशत और वित्त वर्ष 2022 की पहली तिमाही में 4.5 प्रतिशत की वृद्धि हुई थी।

इसी तरह, विनिर्माण क्षेत्र से वित्त वर्ष 2022 की दूसरी तिमाही में जीवीए 5.5 प्रतिशत बढ़ा है, जबकि पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में (-) 1.5 प्रतिशत और वित्त वर्ष 2022 की पहली तिमाही में 49.6 प्रतिशत की वृद्धि हुई थी।

खनन और उत्खनन क्षेत्र में पिछले वित्त वर्ष के संकुचन (-) 6.5 प्रतिशत और वित्त वर्ष 2022 की पहली तिमाही में 18.6 प्रतिशत के मुकाबले 15.4 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 30 Nov 2021, 09:40:01 PM

For all the Latest Business News, Economy News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.